sapne kyo aate hai or kya sapne sach hote hai

‌‌‌सपनों के प्रकार , सपने क्यों भूल जाते हैं सभी सपने देखते हैं । और हमारे मन मे ‌‌‌हमेशा यह जानने की इच्छा रहती है कि सपने क्यों आतेहैं ? और किसी सपने का क्या मतलब होता है? लेकिन यह सही सही बताना बहुत ही ‌‌‌मुश्किल है की वास्तव मे सपने क्योंआते है? और सपने किस तरह से काम करते हैं? लेकिन कुछ ऐसे theory  हैं जिनके आधार पर सपनों के ‌‌‌बारे मे जाना जा सकता है।  

sapne kyo aate hai

सपने भी कई तरह के होते हैं कुछ bad  सपने होते हैं तो कुछ good भी ‌‌‌होते हैं।रियल life के अंदर तो हम ‌‌‌सोये हुए होते हैं किंतु सपने के अंदर हम कुछ ना कुछ कर रहे होते हैं तब हमे यह महसूस नहीं होता है कि जो हो रहा है वो रियल में नहीं है।    बस तब हमे सब कुछ सच सा लगता है। और जब अचानक सपने देखते समय हमारी आंख खुल जाती है तो हमे पता चलता है कि वो तो रियल मे नहीं है। कुछ लोग बहुत बढ़िया सपने देखकर enjoy  भी करते हैं जैसे कई लड़के सपने मे किसी ‌‌‌खूबसूरत लडकी के साथ होते हैं। लेकिन कुछ डरावनेसपने हम डरा भी देते हैं।

‌‌‌सपनों के अध्ययन को अभी तक पूरी तरह से समझा नहीं गया है। वैज्ञानिक अभी भी सपनों को पूरी तरह से समझने मे जुटे हुए हैं। हालांकि सपनों को  वैज्ञानिक, दार्शनिक और धार्मिक द्रष्टिकोण से जोड़कर देखा जाता रहा है।सपनों के वैज्ञानिक अध्ययन को वनिरोलॉजी कहा जाता है। सपने ज्यादातर नींद की तीव्र गति (आरईएम) चरण में होते हैं, जब मस्तिष्क की गतिविधि अधिक होती है और जागृत होने के समान होती है। आने वाले सपनों के अंदर बहुत कम सपने ऐसे होते हैं। जिनको हम याद रख पाते हैं।एक सपने की लंबाई अलग-अलग हो सकती है,

वे कुछ सेकंड, या लगभग 20-30 मिनट ‌‌‌तक के हो सकते हैं।‌‌‌अधिकतर लोग नींद के REM  चरण के अंदर जागने पर सपने के याद रहने की संभावना काफी अधिक होती है। एक औसत व्यक्ति के पास प्रति रात 3 से 5 सपने होते हैं। अधिकतर सपने तुरंत ही हम भूल जाते हैं। पूरी नींद के दौरान अधिकतर सपने आरईएम  के दो घंटे मे आते हैं।

‌‌‌कई सारे  फ्रायडियन सिद्धांत के अंदर इस बात पर बल दिया गया है कि सपने छिपी इच्छाओं की वजह से आते हैं। जैसाकि हम आपको नीचे बताएंगे । जबकि दूसरे सिद्वांत के अनुसार सपने समस्याओ का हल करने के लिए भी आते हैं।

सिग्मंड फ्रायड, जिन्होंने मनोविश्लेषण के मनोवैज्ञानिक अनुशासन का विकास किया, ने 1900 के दशक की शुरुआत में स्वप्न सिद्धांतों और उनकी व्याख्याओं के बारे में विस्तार से लिखा ‌‌‌है। उन्होंने सपनों को किसी की गहरी इच्छाओं और चिंताओं की अभिव्यक्तियों ‌‌‌से जोड़कर भी देखा है।, ‌‌‌सपनों का संबंध दमित बचपन की यादों या जुनून से होता है। उनका मानना था कि लगभग हर स्वप्न विषय यौन तनाव के विमोचन का प्रतिनिधित्व करता ‌‌‌है।।

द इंटरप्रिटेशन ऑफ़ ड्रीम्स (1899) में, फ्रायड ने सपनों की व्याख्या करने के लिए एक psychology  तकनीक विकसित की और हमारे deram  में दिखाई देने वाले प्रतीकों और रूपांकनों को समझने के लिए दिशानिर्देशों की एक श्रृंखला तैयार की। mordan time  में, स्वप्नों को अचेतन मन के संबंध के रूप में देखा जाता है। वे सामान्य और साधारण से लेकर अत्यधिक और विचित्र हैं। सपने अलग-अलग हो सकते हैं, जैसे भयावह, रोमांचक, जादुई, उदासीन, साहसिक या यौन ‌‌‌आदि से जुड़े हो सकते हैं।

Table of Contents

‌‌‌‌‌‌सपने क्यों आते हैं ? सपनों का प्राचीन इतिहास

मेसोपोटामिया के प्राचीन सुमेरियों ने लगभग 3100 ईसा पूर्व स्वपनदोष का सबूत छोड़ दिया था।मेसोपोटामिया  के अंदर सपने का प्रयोग लोग अटकले लगाने के लिए भी किया करते थे ।गुडिया, सुमेरियन शहर-राज्य के राजा लैगाश ने एक मंदिर निंगिरसु को फिर से बनाया था। ‌‌‌प्राचीन समय के अंदर सपनों को भविष्यवाणी से जोड़कर देखा जाता था। इसके अलावा सपनों को दूसरी दुनिया से जोड़कर भी देखा जाता था।यह भी माना जाता था कि सपने के अंदर इंसान के शरीर से आत्मा निकल जाती है। और यह उन स्थानों का दौरा करती है। जोकि सपने के अंदर देखा गया था।

By <a href="https://en.wikipedia.org/wiki/en:Antonio_de_Pereda" class="extiw" title="w:en:Antonio de Pereda">Antonio de Pereda</a> – <a rel="nofollow" class="external text" href="//www.google.com/culturalinstitute/asset-viewer/5wE6Jp0KdDKljA">5wE6Jp0KdDKljA at Google Cultural Institute</a>, zoom level maximum, Public Domain, <a href="https://commons.wikimedia.org/w/index.php?curid=29823934">Link</a>” class=”wp-image-10721″/></figure><p>प्राचीन मिस्र में, 2000 ईसा पूर्व के रूप में, मिस्रियों ने पेपिरस पर अपने सपने लिखे थे। ज्वलंत और महत्वपूर्ण सपनों वाले लोगों को धन्य माना जाता था और उन्हें विशेष माना जाता था।प्राचीन मिस्रवासियों का मानना था कि सपने देवताओं का संदेश लेकर आते हैं। उन्होंने सोचा कि दिव्य रहस्योद्घाटन प्राप्त करने का सबसे अच्छा तरीका सपने ‌‌‌देखना था। ‌‌‌देवताओं से सलाह और चिकित्सा प्राप्त करने के लिए प्राचीन मिस्र के लोग “ड्रीम बेड” पर सोते थे । बैबिलोनियों और असीरियन ने सपनों को अच्छे और बुरे दो भागों के अंदर विभाजित किया था। अच्छे सपने देवताओं के द्वारा भेजे गए होते थे और बुरे सपने राक्षसों के द्वारा</p><p>भेजे गए होते थे ।883-859 ई.पू राजा अश्नुरासीरपाल ने सपनों के देवता का मंदिर भी बनाया था।</p><p>‌‌‌चीनी इतिहास के अंदर सपनों के दो रूपों का पता चलता है। मतलब चीनी लोगों ने सपनों की व्याख्या करने के लिए आत्मा के दो स्वरूप बताए थे । एक स्वरूप जो शरीर के अंदर रहता है। और दूसरा स्वरूप जोकि शरीर से बाहर रहता है।दार्शनिक वांग चोंग (27-97 ईस्वी) मे लिखे ग्रंथों के अंदर सपनों के दो स्वरूपों ‌‌‌पर काफी अधिक जोर दिया था।</p><p>यूनानियों ने भी सपनों के बारे मे कुछ व्याख्याएं की थी।सपनों के ग्रीक देवता मोरफियस को सपने दिखाने के लिए जिम्मेदार माना जाता है।ग्रीक मान्यताएं थीं कि उनके देवता भौतिक रूप से सपने देखने वालों के पास जाते थे । एंटिफॉन ने 5 वीं शताब्दी ईसा पूर्व में सपनों पर पहली ज्ञात ग्रीक पुस्तक लिखी थी। उस समय यूनानी लोग भी यह विश्वास करते थे कि आत्माएं सोते हुए शरीर को छोड़ देती हैं।</p><h3><span class=पत्येक सपने का कोई न कोई अर्थ होता है

  हम चाहे किसी भी प्रकार के सपने देखते हों उसका कोई न कोई अर्थ जरूर होता है । एक लड़के ने सपने मे देखा की उसके मां की मौत होगयी है। और उसके बाद उसकें बाप की मौत भी होगयी है। लेकिन जब उसकी आंख ‌‌‌खुली तो उसने देखा ऐसा कुछ नहीं हुआ ।   जब psychologist ने उसके बारे मे जानकारी हासिल की तो पता चला की वह अपने मां बाप से नफरत करता था तो इसका अर्थ हुआ कि यह सपना उसकी दब चुकी इच्छा के कारण आया था। क्योंकि उसके मां बाप उसको उसकी प्रेमिका से ‌‌‌marriage के लिये रोक रहे थे ।[सपने क्यों आते हैं ?]

सपने क्यों आते हैं?

  सपनों के आने का कोई एक कारण नहीं है। वरन कई कारण हैं। हम यहां पर सभी को एक एक करके समझने का प्रयास करते हैं । वैसे यह जो कारण हैं इनको विभन्न मनोवैज्ञानिकों के द्वारा सिद्व किया गया है। सपनों को समझने के लिये अलग अलग theory  भी दी है।  

नींद के दौरान नर्व impules  दिमाग तक पहुंचने की वजह से सपने आते हैं।

sapne kyo aate hai

कुछ विद्वानों की यह मान्यता है कि जब हम सो जाते हैं तो हमारा mind के अंदर बहुत ही कम सेंस होता है सो जब हम ‌‌‌सोये हुए रहते हैं तो हमारे दिमाग के पास ‌‌‌पहुंचने वाली‌‌‌सूचनाओं से और हमारा mind उनसे भ्रमित हो जाता है। जैसे एक प्रयोग मे एक व्यक्ति को सोते समय सेंट सूंगाया गया तो उसने सपने मे देखा की वह सेंट लाने गया । था । यदि व्यक्ति अधिक खाना खा लेता है तो उसके पाचन क्रिया के अंदर गड़बड़ी हो जाती है तो वह बुरे सपने ‌‌‌अधिक देखता है।   ‌‌‌सपने आने का यह केवल एक ही कारण है हो सकता है कुछ लोगों को इसकी वजह से सपने आते हों ।  

‌‌‌

सपने क्यों आते हैं? कामुक इच्छाओं की वजह से

‌‌‌आपने सुना होगा कि कुछ लोग कामुक सपने अधिक देखते हैं। इसका कारण है कि उनके दिमाग के अंदर कुछ कामुक ‌‌‌इच्छाएं दबी रहती हैं। इसी वजह से उनको कामुक सपने आते हैं। इस प्रकारकीकामुक ‌‌‌इच्छाएं किसी वजह से जब पूरी नहीं हो पाती हैं तो व्यक्ति को इनके बारे मे सपने आने लगते हैं।   यानि यदि आप किसी किसी लडकी के साथ घुमने की इच्छा कई दिनों से अपने मन मे पाले हुऐ हैं और जब वह पूरी नहीं होती तो वह अवचेतन के अंदर ‌‌‌चली जाती है। फिर आपको सपने आते हैं।  

‌‌‌सपने आपको futureके बारे मे बताते हैं

  यह बात भी सच है कि सपने future के बारे मे जानकारी देने के लिये आते हो । कई प्रयोगों से यह बात सिद्व हो चुकी है। कई बार आपके साथ भी ऐसा हुआ होगा आपने जो सपने मे देखा होगा वो रियल मे हो गया हो । किंतु यह हर व्यक्ति के साथ ही ऐसा हो ‌‌‌आवश्यक नहीं है। युंग ने एक प्रयोग के दौरान पाया कि एक सैनिक जो की अभी अभी मरा था । उसकी डायरी मे तीन दिन पहले के सपनों के बारे मे लिखा था। उसने मरने से पहले सपने मे देखा  िकवह पहाड़ पर चढ़ रहा है। और जब वह अधिक ‌‌‌उच्च स्थानपरजाता है तो उसका पैर फिसल जाता है और वह मर जाता है।

‌‌‌इस प्रकार के कई उदाहरणोंसें युंग ने यह सिद्व करने का प्रयास किया है कि सपने हमें future के बारे मे कुछ संकेत देने के लिये भी आते हैं किंतु हर सपना future के बारे मे संकेत देने के लिये नहीं होता है।  

वर्तमान की समस्याओं का समाधान करने के लिये सपने आते हैं

  इस बात को एडलर ने अपने प्रयोग से सिद्व किया उसका मानना था कि सपने केवल future के बारे मे जानकारी देने के लिये ही नहीं आते हैं वरन यह वर्तमान के अंदर कुछ गम्भीर समस्याएं होती है उनके समाधान के लिये भी आते हैं। इस संबध मे उसने कुछ प्रयोग का उल्लेख भी किया ।   एक व्यक्ति ने सपने मे देखा की वह अपने ‌‌‌बॉस के साथ घूम रहा है। उसके ‌‌‌बॉस नेउसको एक पहाड़ी ‌‌‌से फूल लाने को कहा । उसने यह आसान समझ कर स्वीकारकरलिया किंतु     जब वह पहाड़ी से फूल तोड़ रहा था तो उसका पैर फिसल गया और गिर पड़ा ।

तब उसकी आंख खुल गयी । जब एडलर ने उसके सपने का ‌‌‌विश्लेषण किया तो पाया की वह व्यक्ति अपनी पदोउन्नति चाहता था । उसके बारे मे कुछ अधिक सोचता था । इस प्रकार से जब हमे किसी प्रकार की कोई समस्या होती है जोकि हमे अधिक ‌‌‌परेशान करती है  तो उससे जुड़ा सपना भी हमें आ सकता है।   जहां तक आप और हम सोच सकते हैं सपने से किसी वर्तमान समस्या का समाधान नहीं होता है किंतु यह उस समस्या के अधिक प्रभाव को जरूर बताता है।  

sapne kyo ate hain महत्व पूर्ण इच्छाओं के दब जाने से

  फ्रायड़ ने इच्छाओं के दबने की वजह से सपने आना स्वीकार किया है । जब कोई ऐसी इच्छा जिसको हम पूरा नहीं कर पाते हैं तो वह हमारे अवचेतन मन के अंदर चली जाती है और हमे सपने आते हैं। जैसे किसी लड़के को बहार घूमने के लिये ‌‌‌हमेशा ही मना किया जाता है। तो वह सपने मे देखता है  वह दोस्तों के साथ जगंल मे घूम रहा है। यानि जिस व्यक्ति की कोई इच्छाएं मन के अंदर दबी रह जाती हैं वह उन्हें सपने देखकर पूरी करने की ‌‌‌कोशिश करता है।

‌‌‌कब सबसे अधिक सपने आते हैं?

‌सपनों और नींद का संबंध है। नींद दो प्रकारकीहोती है। एक तीव्रगतिक नींद‌‌‌जिसको REM भी कहा जाता है। दूसरी ‌‌‌अति तीव्र गतिक नींद । rem के अंदर व्यक्ति आधा जागता है और आधा सोता है। के अंदर व्यक्ति अधिक सपने देखता है। आपने भी यह देखा होगा कि आपको सपने केवल तब ही आते हैं जब आप पूरी तरह से गहरी नींद के अंदर नहीं होते हैं।    

क्या सपने सच होते हैं?

  ‌‌‌जहां तक इस मामले मे मेरा अनुभव है तो जिन लोगों को ‌‌‌हमेशा सेहीकोई ना कोई सपनेआते ही रहते हैं । उनके सपने सच होने की संभावना कम होती है । इसके विपरीत कुछ ऐसे व्यक्ति भी होते हैं जिनको आने वाले सपने आते तो कभी कभी हैं किंतु वो सच होते हैं। आप खुद इस बात का पता लगा सकते हैं आपके आसपास ऐसे व्यक्ति मिल जायेंगे जिनके सपनेसचहोते हों ।

और ऐसे भी आपको मिल जायेंगें जिनके सपने सच नहीं होते हैं ।   यदि आप पता करना चाहते हैं कि क्या आपकेसपना सच हो सकता है ?तो इसका वैसे कोई सीधा answer  नहीं है किंतु आप अपने पूर्व मे आये सपनों की ‌‌‌तुलना इस सपने से कर सकते हैं । बस आप एक प्राईकता से ही पता लगा सकते हैं। सही सही कुछ नहीं कहा जा सकता । और इन पर को ‌‌‌अधिक जानकारी उपलब्ध भी नहीं है।

सपने देखने के फायदे

सपने देखने के कुछ वैज्ञानिक फायदे भी हैं। अनेक रिसर्च के अंदर यह साबित हो चुका है। सपने वास्तव मे काफी फायदे मंद हो सकते हैं। आइए जानते हैं। वैज्ञानिक रिसर्च के अंदर  सपनों के किन फायदों के बारे मे बताया गया है।

‌‌सपने आपको दैनिक अनुभवों की समझ बनाने मे मदद करते हैं

ड्रीमिंग जर्नल के अंदर प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार सपने हमारे दैनिक जीवन के अनुभवों को समझने मे मदद करते हैं।विलियम डोमहॉफ ने एक विधुर द्वारा लिखी गई 143 रिपोर्टों का विश्लेषण किया, जिन्होंने 22 साल से अधिक समय से अपनी मृत पत्नी के बारे में अपने सपनों का दस्तावेजीकरण किया था।‌‌‌

और उस विधुर ने बताया कि उसने कई तरह के सपने देखे थे । जिसमे पत्नी के साथ संघर्ष वैगरह भी शामिल था। एकतरह से सपने आपके अनुभवों के लिए एक मंच प्रदान करते हैं। यह एक मनोचिकित्सक के लिए एक उपयोगी साबित हो सकते हैं।

‌‌‌सपने नींद को बेहतर बनाने का काम भी करते हैं

फ्रायड  के द्वारा बताए एक सिद्वांत के अनुसार सपने नींद के अंदर व्यवधान को रोकने का काम करते हैं।इसके लिए रिसर्च कर्ताओनें फ्रायड के इस कथन का विष्लेषण किया । इसके लिए रिसर्च कर्ताओं ने क्षतिग्रस्त लोगों के दिमाग का  अध्ययन किया तो पाया कि ‌‌‌सपने बेहतर ढंग से नींद लाने मे मदद करते हैं।

‌‌‌सपने आपको याद रखने मे मदद करते हैं

सपने देखने का यह बड़ा फायदा यह है कि सपने आपको याद रखने मे मदद करते हैं।बहुत सारे शोधों से पता चला है कि नींद आपको नई जानकारी को अवशोषित करने में मदद करती है, और कुछ ऐसे सबूत हैं जो बताते हैं कि सपने देखने से यादें भी मजबूत होती हैं।करंट बायोलॉजी में प्रकाशित एक अध्ययन में, शोधकर्ताओं ने 99 लोगों को शामिल किया गया था। इसमे दो समूह थे । एक समूह को चीजें याद करने के बाद एक झपकी लेने के लिए व सपना देखने के लिए कहा गया । जबकि दूसरे समूह को बिना किसी सपने के चीजें को याद करने को कहा गया । इस परीक्षण के अंदर यह पाया गया कि‌‌‌सपने देखने वाला समूह की स्म्रति के अंदर 10 गुना अधिक सुधार हुआ था।

‌‌‌सपने हमे खतरों से लड़ने के लिए तैयार करते हैं

शोधकर्ता एंट्टी रेवोनसुओ का दावा है कि सपने हमे वास्तविक जीवन के अंदर खतरों से लड़ने के लिए तैयार करने मे मदद करते हैं।बिहेवियरल एंड ब्रेन साइंसेज में प्रकाशित इस विषय पर एक पेपर में, उन्होंने 500 शोध रिपोर्टों की जांच करने के बाद यह पाया गया कि ‌‌‌अधिकतर लोग जो सपने देखते हैं। वे नगेटिव होते हैं। इन सपनों के अंदर डर , कमजोरी और अत्याचार होते हैं। इन सपनों को देखने के बाद इंसान के मन मे आने वाली परिस्थितियों के लिए खुद को तैयार होने के लिए प्रेरित करता है।‌‌‌कुल मिलाकर हम यह कह सकते हैं कि सपने हमको बेहतर ढंग से भविष्य के अंदर आने वाले खतरों के प्रति तैयार होने मे मदद करते हैं।

‌‌‌सपने आपका मूड भी अच्छा करते हैं

मनोचिक्ति्सक अनुसंधान के अंदर प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार वैज्ञानिकों ने 60 लोगों पर सपने के मूड पर प्रभावों को जानने के लिए रिसर्च किया । इस रिसर्च के अंदर वैज्ञानिकों ने दो समूह बनाएं । कुछ लोगों  का मूड सपने देखने से पहले खराब कर दिया गया । तो कुछ ‌‌‌लोगों का मूड सही रखा गया । उसके बाद रिसर्च कर्ताओं ने सबको बीच मे जगा जगा कर पूछा कि उन्होंने कोई सपना देखा है ? यदि कोई सपना देखा है तो आप उसके बारे मे बताएं । परिणाम के अंदर यह पाया गया कि सपने देखने वाले लोगों के मूड मे सुधार हुआ । और सपनों से मूड मे बदलाव भी नहीं हुआ ।

‌‌‌सपने मे समस्या समाधान

कुछ लोग इस बात को भी मानते हैं कि सपने देखने का फायदा है। हम अपनी समस्या का जल्दी समाधान करते हैं। कहा जाता है कि कई वैज्ञानिक अनेक खोज सपने की मदद से की थी। हालांकि यह कितना सही है। इस बारे मे तो पता नहीं । लेकिन सपने हमारे अवचेतन मन से जुड़े होते हैं और ऐसा सभी ‌‌‌मानते हैं कि ‌‌‌अवचेतन मन किसी समस्या को बेहतर ढंग से सुलझाने की क्षमता रखता है।

‌‌‌बुरे सपने क्यों आते हैं ?

bure sapne kyo aathe hain

दोस्तों सपने वैसे दो प्रकार के होते हैं। एक बुरे सपने और दूसरे अच्छे सपने । अक्सर लोग यह पूछते हैं कि बुरे सपने क्यों आते हैं। तो दोस्तों बुरे सपने आने के कई कारण हो सकते हैं। कई बार लोग बुरे सपने की वजह से बहुत अधिक डर भी जाते हैं।

‌‌‌सोने से पहले कुछ नगेटिव सोचने से

आमतौर पर बुरे सपने तब आते हैं। जब आप सोते समय अपने दिमाग के अंदर कुछ चिंता या कुछ नगेटिव विचार लेकर सोते हैं। हालांकि गम्भीर नगेटिव विचारों की वजह से ही बुरे सपने आते हैं। क्योंकि यह गम्भीर नगेटिव विचार हमारे मन को गहरे से प्रभावित करते हैं।

‌‌‌किसी नगेटिव दूर्घटना की वजह से

कई बार बुरे सपने इस वजह से भी आते हैं क्योंकि हम किसी दूर्घटना को देख लेते हैं। आपने इस बात को नोटिस किया होगा कि जब आप के किसी प्रियजन की मौत हो जाती है। तो वह आपके सपनों मे आता है। और इससे आपको डर भी लगता है। मतलब उनकी मौत आपके मन पर गहरा प्रभाव डाल रही ‌‌‌है।

‌‌‌डरावनी फिल्मों की वजह से

जब अक्सर बच्चे डरावानी फिल्मे देखते हैं तो उनके दिमाग मे यह सब चीजें बैठ जाती हैं। और ऐसी स्थिति के अंदर यह सब सपने के अंदर आती हैं और हमे डर लगता है। हालांकि यह सब छोटे बच्चों के साथ अधिक होता है। बड़े बच्चों के साथ यह नहीं होता है।

‌‌‌आपके मन मे बैठा चिंता और तनाव

यदि आपके मन के अंदर किसी तरह का डर या चिंता बैठ चुकी है। तो इससे भी आपको डरावने सपने आ सकते हैं। जैसे किसी व्यक्ति को यह डर है कि वह बिजनेस के अंदर बरबाद हो जाएगा तो ऐसी स्थिति के अंदर उसे बुरे सपने आ सकते हैं कि वह सच मे बरबाद हो गया ।

‌‌‌सपनों के बारे मे रोचक तथ्य

sapne kyo aathe hai

दोस्तों अब तक हमने सपने क्यों आते हैं। इस बारे मे विस्तार से जाना था। तो आइए अब जारन लेते हैं कि सपने से जुड़े रोचक तथ्य क्या हैं ? निश्चिय ही सपने काफी मजेदार होते हैं। और कई बार तो अजीब तरह के सपने भी हमे आते हैं।

  • ‌‌‌आप अपने सपनों का 10 मिनट के अंदर 90 प्रतिशत हिस्सा भूल जाते हैं। और सपने देखने के 5 मिनट के अंदर हम अपने सपने का आधा हिस्सा भूल जाते हैं।
  • जो लोग जन्म के बाद अंधे हो गए हैं वे सपने के अंदर चित्र देख सकते हैं। लेकिन जो लोग जन्म से अंधे होते हैं वे सपने मे चित्र नहीं देख सकते । लेकिन‌‌‌वे गंध स्पर्श आदि को सपने के अंदर महसूस कर सकते हैं।
  • ‌‌‌वैज्ञानिकों के अनुसार दुनिया का हर इंसान सपने देखता है। यदि आपको लगता है कि आप सपने नहीं देख रहे हैं तो इसका मतलब है आप अपने सपने को भूल रहे हैं।
  • ‌‌‌कलर के अंदर बहुत कम लोग सपने देखते हैं। अधिकतर केसों के अंदर सपने काले और सफदे ही होते हैं।सन 1915 ई के अंदर किये गए एक रिसर्च के अंदर भी यही बात सामने आई है।
  • जैसा कि पहले ही बताया जा चुका है कि सपने प्रतीकात्मक रूप से होते हैं। सपने के अंदर आप जो देखते हैं उसके अर्थ को समझने के लिए हमे ‌‌‌सपने के प्रतीकों का ज्ञान होना आवश्यक होता है।
  • ‌‌‌हमारा दिमाग चेहरे का आविष्कार नहीं कर सकता है। सपने के अंदर जो भी चेहरे दिखाई देते हैं वे उन चेहरों मे से ही होते हैं जोकि आपने कई साल पहले या कुछ समय पहले देखे हों । भले ही आपका चेतन मन उन चेहरों को याद ना कर पाता हो ।
  • सपनों में अनुभव की जाने वाली सबसे आम भावना चिंता है। सकारात्मक लोगों की तुलना में नकारात्मक भावनाएं अधिक आम हैं।
  • आप एक रात के अंदर औसतन 4 से लेकर 7 तक सपने देख सकते हैं।
  • वैज्ञानिक रिसर्च के अंदर यह बात भी साफ हो चुकी है कि जानवर भी सपने देखते हैं। रिसर्च के अनुसार सोते हुए कुत्ते कई बार अपने ‌‌‌पैरों को इस प्रकार से हिलाते हैं। जैसे कि वे सपने देख रहे हों ।
  • नींद की एक सामान्य अवस्था है। वयस्क मनुष्यों में REM नींद आमतौर पर कुल नींद का 20-25% होती है, रात की नींद का लगभग 90-120 मिनट।जब आप रात के अंदर सपने देखते हैं तो आप अपने हाथ या पैर कुछ भी हिला नहीं सकते हैं। आपका शरीर लकवा पड़े इंसान के शरीर जैसा होता है।
  • पुरुष और महिला अलग-अलग सपने देखते हैं
  • पुरुष अन्य पुरुषों के बारे में अधिक सपने देखते हैं। एक ‌‌‌पुरूष के सपने में लगभग 70% अन्य पुरुष ‌‌‌होते हैं। दूसरी ओर, एक महिला के सपने में लगभग समान पुरुष और महिलाएं होती हैं। इसके अलावा, आमतौर पर पुरुष अपने सपनों में महिला की तुलना में अधिक आक्रामक भावनाएं रखते हैं
  • ‌‌‌ऐसा माना जाता है कि जब आप सपने देखते हैं तो आप खर्राटे नहीं ले सकते हैं। यानि इसका कोई वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं है।
  • ‌‌‌यदि आपको पता नहीं है कि आप सपने देख रहे हैं या नहीं तो आपको कुछ पढ़ने की कोशिश करें क्योंकि अधिकांश लोग सपने के अंदर पढ़ने मे असमर्थ होते हैं। इसके अलावा सपने के अंदर समय का भी पता नहीं चल पाता है।
  • ‌‌‌सपनों के अंदर कई आविष्कार भी हुए हैं ।डीएनए का दोहरा हेलिक्स सर्पिल रूप -जेम्स वाटसन ,सिलाई मशीन-एलियास होवे, आवर्त सारणी -दिमित्री मेंडेलीव
  • ‌‌‌कई बार सपनों के अंदर भविष्य की झलक भी मिल जाती है। और कई बार अनहोनी होने से पहले सपने के बारे मे इसकी जानकारी भी मिल जाती है। ऐसा कई लोगों के साथ हो चुका है। अब्राहम लिंकन ने अपनी हत्या का सपना देखा था जो सच साबित हुआ । इसके अलावा 9/11 मे बाढ़ का सपना कई लोगों ने देखा था।टाइटैनिक तबाही के बारे में 19 सत्यापित अप्रत्यक्ष सपने थे।
  • ‌‌‌यह सच है कि जो इच्छाएं हम रियल लाइफ के अंदर पूरी नहीं कर पाते हैं। वह इच्छाएं हम सपने मे माध्यम से पूरा करते हैं। इस संबंध मे कई सारे प्रमाण मौजूद हैं। ली हैडविन पेशे से एक नर्स है, लेकिन अपने सपनों में वह एक कलाकार है क्योंकि उसका हमेशा की इच्छा रही है कि वह एक कलाकार बने ।एक महिला सोते समय अजनबियों के साथ ‌‌‌संबंध बनाती है।

एक आदमी जिसने 22 मील की दूरी तय की और सोते समय अपने चचेरे भाई को मार डाला

  • डिमेथाइलिफ़ाइट्रिपामाइन नामक एक विशेष प्रकार की दवा होती है जोकि इंसान की मतिभ्रम करती है। और जब हम सपने देखते हैं तो यह दिमाग के अंदर स्वाभाविक रूप से ही पैदा हो जाती है।

‌‌‌सपने मे हर काम धीमी गति से होता है

दोस्तों सपनों के अंदर हर काम काफी धीमी गति से होता है। सपनों के अंदर हम कुछ भी कर रहे होते हैं तो वास्तव मे हमे समय लगता है। यदि आप सपने के अंदर कुछ भी असंभव काम करते दिख रहे हैं तो निश्चिय ही आपको इसे करने मे बहुत अधिक समय लगेगा।‌‌‌स्वीटरजलैंड की बर्न विश्व विघालय ने भी ऐसा ही एक रिसर्च के अंदर सिद्व किया है। वैज्ञानिकों के अनुसार जब हम खुद को मरने का सपना देखते हैं तो अचानक से हम महसूस करते हैं कि हम मर चुके हैं और उसके बाद तेजी से हाथ पैर हिलाने की कोशिश करते हैं।

‌‌‌लेकिन सपनों के अंदर दिमाग ही सक्रिय होता है। इस वजह से हम हाथ पैर नहीं हिला पाते हैं। और जब आंखे खुलती हैं तो देखते हैं कि वास्तव मे हम जिंदा हैं मरे नहीं हैं।

‌‌‌सपने क्यों भूल जाते हैं why we forget dreams

सपने क्यों भूल जाते हैं

दोस्तों अक्सर आप रात को सपने देखते हैं। लेकिन बहुत बार हमारे साथ ऐसा होता है कि हम सपनों को भूल जाते हैं। बस इतना याद रहता है कि हमने रात को सपना देखा था। लेकिन यह याद नहीं रहता है कि रात को क्या सपना देखा था।अमेरिकन जर्नल ऑफ साइकेट्री में 2002 में प्रकाशित एक अध्ययन के अंदर इस बात पर प्रकाश डाला गया कि हम सपने क्यों भूल जाते हैं ।हम जागने के तुरन्त बाद सपने भूल जाते हैं। इसकी बड़ी वजह होती है। दिमाग के न्यूरोकेमिकल स्थितियां ।

‌‌‌वैसे तो सपनों के भूलने के पीछे कई वैज्ञानिक विचारधाराएं मौजूद हैं। लेकिन सबसे महत्वपूर्ण है ,सेरेब्रल कॉर्टेक्स में हार्मोन नॉरपेनेफ्रिन की अनुपस्थिति । यह दिमाग का एक ऐसा भाग होता है जो विचार ,मैमोरी से जुड़ा होता है।नॉरपेनेफ्रिन की उपस्थिति मनुष्यों में स्मृति को बढ़ाने मे मददगार होती है।वैज्ञानिकों के अनुसार जब हम सपने देखते हैं तो सपने का भूलना इस बात पर निर्भर करता है कि सपना कितना महत्वपूर्ण है। यदि सपना कोई खास महत्वपूर्ण है तो हमारा दिमाग उस सपने को याद नहीं रख पाता है।

‌‌‌लेकिन यदि सपना काफी अधिक महत्वपूर्ण होता है तो हमारे दिमाग का एक क्षेत्र प्रीफ्रंटल कॉर्टेक्स (डीएलपीएफसी) सक्रिय हो जाता है जो इस तरह के सपने को याद रखने मे मदद करता है।‌‌‌मानलिजिए आप दो प्रकार के सपने देखते हैं। एक सपने के अंदर आप यह देखते हैं कि आप अपने फ्रेंड के साथ कहीं पर जा रहे हैं और इधर उधर की बातें कर रहे हैं। वहीं दूसरे सपने के अंदर आप यह देखते हैं कि आप मर चुके हैं। ऐसी स्थिति के अंदर आप दूसरा सपना याद रखेंगे क्योंकि यह आपकी भावनाओं से जुड़ा हुआ है।

‌‌‌सपने मे होने वाले आविष्कार

दोस्तों दुनिया के अंदर आज भी सपने काफी महत्वपूर्ण हैं। लेख के अंदर हम आपको कुछ ऐसे आविष्कारों के बारे मे बताने जा रहे हैं जोकि सपने के अंदर हुए थे । अब आप यह मत पूछना की भाई सपने मे आविष्कार कैसे हुए? ‌‌‌तो हमारे प्यारे दोस्तों हम आपको पहले ही बता चुके हैं कि जो चिंताएं और समस्याएं हमारे दैनिक जीवन के अंदर होती हैं वे हमारे अवचेतन मन मे चली जाती हैं और फिर वहां पर हम सपने के अंदर उनका समाधान करने की कोशिश करते हैं।‌‌‌अब राइट बंधुओं ने हवाई जहाज का आविष्कार किया तो वे इस बारे मे सपने देख रहे थे । तभी उन्हें इसका समाधान भी मिल गया ।

‌‌‌सिलाई मशीन का आविष्कार सपने मे हुआ

दोस्तों आज जो सिलाई मशीन का हम प्रयोग करते हैं उसका आविष्कार  एलायस होवे नामक एक व्यक्ति ने किया था।उसने एलायस होवे ने 10 सितंबर 1846  को सिलाई मशीन का पेटेंट करवाया था। ‌‌‌दोस्तों वैसे तो सिलाई मशीन का आविष्कार काफी पहले हुआ था । लेकिन उस समय यह किसी काम की नहीं थी तब एलायस होवे ने इस पर सोचना शूरू किया और उसने सपने के अंदर ही अपनी समस्याओं का समाधान पाया था।

‌‌‌हवाई जाहज का आविष्कार सपने मे

दोस्तों आज हम जिस हवाई जहाज का प्रयोग करते हैं वह राइट बंधुओं के द्वारा बनाई गई है। अब उसका विकसित संस्करण आ चुका है।17 दिसंबर, 1903 के अंदर  ओरविल और विल्बुर राइट ने पहली बार उडने वाले हवाई जहाज को बनाया । ‌‌‌राईट बंधु हमेशा से ही एक ही सपना देखते थे कि किस तरह से वे उड़ने वाले जहाज के अंदर सवार होकर जा रहे हैं। अपने अथक प्रयासों की मदद से उनको अपने मकसद मे कामयाबी भी मिली ।

‌‌‌इसके अलावा गणित और विज्ञान के अनेक ऐसे सिद्वांत थे । जिनका आविष्कार सपने के अंदर ही हुआ था। इससे एक बात को सिद्व हो जाती है कि सपने हमारी समस्याओं का समाधान करते हैं।

‌‌‌सपनों के प्रकार

दोस्तों वैसे तो सपने कई प्रकार के होते हैं। और उनको अलग अलग भागों के अंदर बांटा जा सकता है। जैसे कुछ सपने बुरे होते हैं तो कुछ सपने अच्छे होते हैं तो कुछ नोर्मल होते हैं और कुछ समस्या समाधान के लिए होते हैं। इस प्रकार से सपने कई प्रकार के होते हैं।आइए जानते हैं सपनों के प्रकार ‌‌‌के बारे मे ।

‌‌‌सपनों के प्रकार सामान्य सपने

दोस्तों सामन्य सपने हम काफी कम ही याद रख पाते हैं। सामान्य सपनों के अंदर जैसे हम कहीं जा रहे हैं , या हम कहीं पर बात कर रहे हैं , कहीं घूम रहे हैं । इस प्रकार के सपनों को समान्य सपने कहा जाता है। यह आमतौर पर किसी प्रकार की भावनाओं से नहीं जुड़े होते हैं।

‌‌‌डरावने सपने

‌‌‌सपनों के प्रकार

दोस्तों डरावने सपने उन सपनों को कहा जाता है जोकि किसी बुरी घटना से जुड़े होते हैं। कुछ सपने ऐसे होते हैं जो हमे डराते हैं। जैसे सपने के अंदर किसी भूत को देख लेना , सपने मे मर जाना , सपने मे खून देख लेना। ‌‌‌जब की कुछ लोगों को डरावने सपने बहुत अधिक आते हैं। ऐसा क्यों होता है ? लेकिन जहां तक हम समझते हैं यह एक संकेत भी हो सकता है।

‌‌‌सपनों के प्रकार समस्या सपने

दोस्तों कुछ सपने ऐसे होते हैं जोकि हमे समस्या को सुलझाने का संदेश देते हैं। जैसे की आपको कोई समस्या है और आप उससे बहुत अधिक परेशान हैं तो आपको उस समस्या से जुड़े सपने आ सकते हैं इस तरह के सपने बार बार आते हैं। जब तक वह समस्या सुलझ नहीं जाती है। ‌‌‌जैसे किसी को गूंगे हो जाने का सपना आना , किसी को परीक्षा मे फैल होने का सपना आना आदि ।

‌‌‌भविष्यवाणी करने वाले सपने

दोस्तों कुछ सपने ऐसे होते हैं जोकि भविष्य के अंदर होने वाली घटनाओं के बारे मे जानकारी देते हैं। इस तरह के सपनों के बारे मे यह कहा जाता है कि यह सच होते हैं। सबसे बड़ी बात तो यह होती है कि भविष्यवाणी वाले सपने कभी क भार ही आते हैं। ‌‌‌जैसे कि अमेरिका के राष्ट्रपति लिंकन को अपनी मौत के बारे मे सपने के अंदर पहले ही पता चल चुका था। इसी तरीके से मेरे साथ मे एक बार हो चुका है। मेरा बुआ का लड़का खत्म होने से पहले ही मुझे सपने के अंदर पता चल चुका था।

सपने में मृत व्यक्तियों को देखना

अक्सर लोग यह प्रश्न पूछते हैं कि सपने में मृत माँ को देखना,सपने में स्वर्गीय पिताजी को देखना,सपने में मृत माँ को देखना मतलब सपने मे हम मरे हुए लोगों को क्यों देखते हैं?दोस्तों इस प्रकार के सपनों को देखकर बहुत से लोग तो डर ही जाते हैं।‌‌‌जबकि कुछ लोग इस प्रकार के सपनों को देखकर इन्हें आम मान लेते हैं। और आपको पता होगा की अच्छे लोगों की गति हो जाती है। वे सपने के अंदर नहीं आते हैं। लेकिन अधिकतर वे लोग सपने के अंदर आते हैं जोकि असमय ही मौत का शिकार हो चुके हैं।‌‌‌इस तरह के लोगों की गति नहीं होती है। और वे भटकते रहते हैं। सपने में मृत व्यक्तियों ‌‌‌को देखने के पीछे दो कारण होते हैं। एक कारण मनौवेज्ञानिक होता है। और दूसरा अध्यात्मिक कारण होता है।

‌‌‌मनोवैज्ञानिक कारण

सपने में मृत  व्यक्तियों को देखना एक मनोवैज्ञानिक कारण भी हो सकता है। लेकिन इसका योगदान केवल 30 प्रतिशत होता है। सपने में मृत लोगों का दिखना का मतलब हो सकता है कि वह व्यक्ति आपका प्रिय रहा होगा । और उसकी मौत के बाद आपके मन पर उसका काफी बुरा प्रभाव पड़ा है। आपके ‌‌‌मन मे दिन रात उसी तरीके के विचार आ रहें हैं तो सपना आना भी संभव है। अक्सर किसी प्रियजन की मौत के तुरन्त बाद आने वाले सपने मनौवेज्ञानिक कारणों से हो सकते हैं। जिनका उपचार स्वयं ही हो जाता है। समय के साथ जब विचार धुंधले पड़ जाते हैं तो फिर सपने नहीं आते ।

‌‌‌अध्यात्मिक कारण

इस कारण के अंदर दो चीजें शामिल होती है। एक तो यदि मरा हुआ व्यक्ति आप से सहायता पाना चाहता है तो वह आपके सपने मे आता है। या फिर वह आपको कष्ट देने के लिए सपने मे आ सकता है।

सपने में मृत सहायता पाने के लिए आना

सपने में मृत सहायता पाने के लिए आना

दोस्तों ऐसा नहीं है कि कष्ट सिर्फ इंसानों को ही होता है। वरन कष्ट मरे हुए लोगों को भी होता है। यदि हम मर जाते हैं तो हमे किसी ना किसी तरह का दुख होता है। और उस दुख को दूर करने के लिए हम अपने प्रियजनों से संपर्क करते हैं। ‌‌‌आपको बतादें की यदि मरा हुआ व्यक्ति सहायता मांगने के लिए आता है तो फिर वह आपको कष्ट नहीं पहुंचाता है। संभव है आप उसकी मदद कर सकते हैं ताकि उसे आगे कि ओर गति मिल सके ।

‌‌‌काफी साल पहले की बात है मेरी बुआ के ससुर की मौत हो गई थी। उन्होंने मरने से पहले यह कहा था कि उनको गंगाजी ना घाला जाए । उन्हें भ्यास ले जाया जाए । लेकिन हमारी बुआ नहीं मानी । उनकी मौत हो जाने के बाद वे उनके फूल गंगाजी लेकर चले गए । ‌‌‌लेकिन ऐसी स्थिति के अंदर मेरी बुआ के ससुर काफी दुखी हो गए । उसके बाद एक दिन बुआ के सपने मे आकर कहा कि उनको भ्यास ले जाया जाए । बस उसके बाद मेरी बुआ को समझ मे आ गया कि क्या करना है। वे उसे भ्यास लेकर चले गए । उसके बाद मेरी बुआ के ससुर कभी भी सपने के अंदर नहीं आए।

‌‌‌इसी तरीके की एक घटना और भी घटी थी। मेरे नाने की मौत से पहले उन्होंने कुछ अटडम बटडम के बारे मे बताया था। लेकिन उसके बेटों ने उन सब को किया नहीं । तब मेरे ना ना कई बार सपने के अंदर आकर बोले की उनकी इच्छा पूर्ण की जाए। इच्छा पूर्ण होने के बाद वे कभी भी सपने मे नहीं आए । ‌‌‌यदि आपको भी आपका कोई  प्रियजन बार बार सपने मे आ रहा है। तो इसका मतलब है कि वह कष्ट के अंदर है और आपको उसकी मदद करनी चाहिए ताकि उसे आगे गति मिल सके । इसके लिए आप किसी ज्योतिषी से संपर्क कर सकते हैं।

‌‌‌रिसर्च के अंदर यह पता चला है कि मरे हुए लोगों का सपने मे आने का 70 प्रतिशत मकसद सहायता पाना होता है।

‌‌‌अनिष्ट करने के लिए सपने मे आना

कुछ मरे हुए लोगों की आगे गति नहीं होती है। और इस वजह से वे प्रेत योनी के अंदर चले जाते हैं। इस प्रकार के लोग बार बार सपने के अंदर आते हैं । इनकी वजह से आपके साथ बहुत बार गलत होता है। यदि आप भी ऐसा महसूस कर रहे हैं तो आपको इसका ईलाज करवाना चाहिए।

सपने में मृत व्यक्तियों को सपने मे आने से कैसे रोके

‌‌‌दोस्तों यदि कोई मरा हुआ व्यक्ति आपके सपने के अंदर बार बार आ रहा है तो संभव है उसे आपकी मदद की आवश्यकता है। वैसे मरे हुए लोगों के कल्याण के लिए कई तरीके उपलब्ध हैं। जिनमे नागबलि और नारायण बलि व क्ष्राद्व अदि। ‌‌‌इसके अलावा मंत्र उच्चारण भी कई प्रकार के होते हैं। जिससे म्रत लोगों को सदगति मिलती है। इस संबंध मे हमे ज्यादा जानकारी नहीं है। लेकिन आप किसी भी अच्छे ज्योतिषी से संपर्क कर सकते हैं। वह आपको बहुत अच्छे तरीके से इस बारे मे बतादेगा ।

करते हैं लोग ? suicide करने के कारण क्या हैं ?

dil ki sune ya dimag ke दिल और दिमाग मे कौन सही है ?

व्यक्ति दिन मे कितनी बार हसता है ? हंसी से जुड़ी मजेदार बातें

ऐसी कौनसी चीज है जिसमे सबसे ज्यादा मजा आता है ?

संगीत या म्यूजिक सुनने से होते हैं यह 22 एक्सीलेंट फायदे benefits of

listening music

jyada mobile use karne ke 38 nuksan जिनको जानकर आप हैरान रह जाएंगे

3 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *