सावधान नेट के अधिक इस्तेमाल से होते हैं 7 खतरनाक नुकसान

दोस्तों आज हम सभी नेट का बहुत प्रयोग करते हैं । सारे दिन नेट से चिपके रहते हैं। और कुछ लोग तो नेट के इतने आदी बन चुके हैं कि वे रात दिन चैट करना विडियो देखना गेम खेलना । यानि लगे ही रहते हैं। लेकिन यदि हम ज्यादा नेट का यूज करते हैं। ‌‌‌तो यह हमारे लिए खतरे की घंटी है। इसके अधिक यूज से मानसिक बिमारियों के साथ साथ शारीरिक समस्याएं भी पैदा हो सकती हैं।

‌‌‌यदि आप भी नेट का प्रयोग अधिक सीमा तक कर रहें हैं तो इसको जल्दी कम किजिए । आलतू फालतू के अंदर नेट का प्रयोग मत किजिए । अनके वैज्ञानिक रिसर्च इस बात को प्रमाणित कर चुके हैं कि आधुनिक युवाओं की नेट पर निर्भरता इस कदर बढ़ चुकी है। कि वे इसके बिना रहने की कल्पना भी नहीं कर सकते ।

सावधान नेट के अधिक इस्तेमाल से होते हैं 7 खतरनाक नुकसान

‌‌‌अधिक नेट के इस्तेमाल से होते हैं यह नुकसान

1.गर्दन और कंधे मे दर्द

जब हम काफी देर तक हमारे पिसी के सामने गर्दन झुकाकर रखते हैं तो गर्दन के अंदर दर्द होने लगता है । और लगातार ऐसा करने पर यह दर्द स्थाई भी हो सकता है। कई बार smart फोन पर चैटिंग करते वक्त एक ही तरह से पड़े रहने पर कंधे मे ‌‌‌भी दर्द होने लग जाता है।

‌‌‌2.मैमोरी लॉस होना

नेट के अधिक यूज से इंसान के सोचने समझने की क्षमता पर असर पड़ा है। वह बहुत कम सोचता है। क्योंकि उसे सारे हल नेट पर आसानी से उपलब्ध हो जाते हैं। जिसकी वजह से धीरे धीरे दिमाग की यादाश्त कमजोर होने लग जाती है। आज हर 10 मे से दो बच्चे भूलने की समस्या से पीड़ित हैं।

‌‌‌3.टनल सिंड्रोम का खतरा

लगातार टाईप करने से हमारे हाथों की उंगलियां सुन्न हो जाती है। जिसकी वजह से वे कई बार दर्द भी करने लग जाती हैं। ऐसा तो मेरे साथ भी हो चुका है। बाद मैं मेन टाइप करना कम किया तो सही हुआ । सह सुन्न होना टनल सिंड्रोम को भी पैदा कर सकता है।

‌‌‌4.हर्ट पर बुरा प्रभाव

हमारे वाई फाई से निकलने वाले रेडिएसन हमारे हर्ट को भी प्रभावित करते हैं। मोबाइल रेडिएसन से दिल का दौरा आने का खतरा बढ़ता है। यह रेडिएसन इंसान को नपुसंक भी बना सकते हैं। ‌‌‌इसलिए अपने स्मार्ट फोन को हर्ट के पास ना रखें । ‌‌‌हम लोग कई बार छाती पर रखकर मोबाइल चलाते हैं जोकि सही नहीं है।

‌‌‌5.ड्राई आई सिंड्रोम

लगातार मोबाइल की स्क्रीन पर आंखे गड़ोए रखने से आंखों के अंदर सूखा पन आ जाता है। और आंखों की रोशनी भी कमजोर हो सकती है। इसलिए जहां तक हो सके अधिक समय तक मोबाइल नहीं देखें । खास कर अंधेरे मे अधिक रोशनी मे मोबाइल चलाना आंखों के लिए खतरनाख है।

‌‌‌6.भुल्कड़पन का विकास

आज हम नेट पर अधिक चिपके रहने की वजह से भुल्कड़पन तेजी से बढ़ रहा है। क्योंकि नेट चलाने के बाद हर समय उसके बारे मे ही कुछ ना कुछ सोचते रहते हैं तो हम दैनिक जीवन की चीजों की ओर ठीक से ध्यान नहीं दे पाते हैं। इस वजह से भूलने की समस्या बढ़ रही है।

‌‌‌7.बहरापन

कई लोग ऑनलाइन विडियो चलाते हैं और कानों के अंदर तेज साउंड के गाने सुनते हैं। कानों के अंदर तेज आवाज मे गाने सुनना सही नहीं है ।क्योंकि तेज आवाज आपको स्थाई रूप से बहरा बना देती है। यह बात वैज्ञानिक भी कह चुके हैं। इसलिए इयर फोन से गाने सुने लेकिन कम आवाज में।

 

‌‌‌दोस्तों हमारा काम आपको बताना है। आगे जैसी आपकी मर्जी है करो । क्योंकि लाईफ आपकी है और आप जैसें चाहें वैसे उसे जी सकते हैं।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *