दरियाई घोड़ा क्या है? दरियाई घोड़ा क्या खाता है ? full history of Hippopotamus

दोस्तों दरियाई घोड़े का आपने नाम सुना होगा । जिसको जलिय घोड़ा या Hippopotamus कहा जाता है। इस लेख मे हम आपको बताने वाले हैं कि दरियाई घोड़ा क्या होता है ? और दरियाई घोड़ा क्या खाता है ? ‌‌‌दरियाई घोड़े का पसीने का रहस्य, ‌‌‌वैसें देखा जाए तो दरियाई घोड़ा सामान्य घोड़े से अलग है। यह घोड़ों की प्रजाति का नहीं है। वरन यह सूअर की प्रजाति का जीव है।हिप्पोपोटामस शब्द का मतलब होता है। वाटर होर्स पानी और थल दोनों के अंदर यह रह सकता है। पानी मे रहने की वजह से इसको जलिय घोड़ा या दरियाई घोड़ा कहा जाता है।हाथी और rhinoceros के बाद यह तीसरा सबसे भारी स्तन पायी है। सूअर के साथ निकटतम समानता के बावजूद व्हेल, डॉल्फ़िन, पोर्पोइज इसके निकटतक रिश्तेदार हैं। जो 55 मिलियन वर्ष पूर्व इससे अलग हो गए थे ।

दरियाई घोड़ा क्या है

‌‌‌यदि हम इसके वजन की बात करें तो नर का वजन 1,500 किलोग्राम  और मादा का वजन 13 किलोग्राम होता है। इसके पैर छोटे होते हैं। और यह 30 किमी / घंटा (1 9 मील प्रति घंटे) चलने में सक्षम है।‌‌‌दरियाई घोड़ा नदी ,झील , तालाबों के पास और मैंग्रोव दलदल के अंदर रहते हैं। दिन के समय यह पानी के अंदर रहते हैं। ताकि गर्मी से बचा जा सके । इसके अलावा प्रजनन भी पानी के अंदर ही करते हैं।हिप्पोपोटामस  दुनिया का सबसे खतरनाख जीव है। यह आक्रमक होता है।‌‌‌दरियाई घोड़े के मांस व दांत के लिए इसका शिकार किया जाता है।

हिप्पोपोटामस  30 के समूह के अंदर रहते हैं। इन समूह को झुंड, डेल, या ब्लोट कहा जाता है।हिप्पोपोटामस  ग्रीक शब्द है। जिसमे हिप्पोप्स का मतलब घोड़ा होता है। और पोटामस का मतलब नदी है। इस वजह से इसको नदी का घोड़ा भी कहा जाता है।

दरियाई घोड़ा क्या है? दरियाई घोड़ा क्या खाता है ? ‌‌‌दरियाई घोड़े का पसीने का रहस्य

‌‌‌दरियाई घोड़े का वर्गीकरण

दरियाई घोड़े के अंदर हिप्पोपोटामिडे प्रकार का जीन है। दरियाई घोड़े को 5 प्रजातियों के अंदर बांटा जा सकता है। यह विभाजन उनकी खोपड़ी और भौगोलिक मतभेदों के आधार पर किया गया है।

Great northern hippopotamus or Nile hippopotamus

यह प्रजातियां मिस्र के अंदर फैली हुई थी जोकि अब विलुप्त हो चुकी हैं। इनका विस्तार नील नदी के दक्षिण के अंदर तंजानिया तक था।

East African hippopotamus

इनकी नाक काफी चौड़ी होती है। यह केन्या के अफ्रकिी ग्रेट झील क्षेत्र के अंदर और सोमालिया में के अंदर यह फैले हुए हैं।

Cape hippopotamus or South African hippopotamus

जाम्बिया से दक्षिण अफ्रीका तक  फैले हुए हैं। इनकी पहचान यह है कि इनकी खोपड़ी चपटी है।

West African hippopotamus or Tchad hippopotamus

जैसा कि नाम से पता चलता है। यह पूरी पश्चिम अफ्रिका के अंदर फैले हुए हैं। इनका चेहरा छोटा और थोड़ा चौड़ा होता है।

Angola hippopotamus

अंगोला में, दक्षिणी लोकतांत्रिक गणराज्य कांगो और नामीबिया मे यह पाये जाते हैं।

‌‌‌हालांकि यह उपजातियों के विभाजन का पूरी तरीके से भौतिक रूप से सत्यापन नहीं किया जा सका । क्योंकि प्रजातियों के अंदर यह मतभेद बहुत छोटे थे ।आनुवांशिक रूप से केवल तीन ही उप प्रजातियों का विश्लेषण किया गया है।

‌‌‌दरियाई घोड़े की उत्पति

1 9 0 9 तक वैज्ञानिकों ने सूअरों के साथ दरियाई घोड़ों को जोड़ कर देखा था।  रक्त प्रोटीन , डीएनए और जिवाश्म रिकार्ड यह दिखाते हैं कि इनके निकटतम रिश्तेदार केटेशियन हैं। केटेशियन के अंदर व्हेल, डॉल्फ़िन और पोर्पोइज आते हैं। हालांकि केटेशियन और दरियाई घोड़े ‌‌‌बाद मे विभाजित हो गए थे ।हाल ही के सिद्वांत बताते हैं कि हिपपोज़ और व्हेल ने एक आम अद्वसूत्री विभाजन के बाद अन्य आर्टियोडैक्टिल से 60 मिलियन वर्ष पूर्व अलग हो गये थे ।

शुरुआती व्हेल पूर्वजों को सामूहिक रूप से आर्कियोसेटी के नाम से जाना जाता है, जोकि  इसकी एक शाखा पूरी तरह से जलिय बन गई और दूसरी शाखा एंथ्रेकोथेरेस बन गई। मतलब चार पैरों पर चलने वाली।एंथ्राकोथेरेस  की सभी शाखाएं हिप्पोपोटामिडे  को छोड़कर प्लायोसिन के दौरान लुप्त हो गई।‌‌‌दरियाई घोड़े के आम पूर्वज लगभग 20 मिलियन वर्ष पहले मिओसीन में रहते थे।

‌‌‌माना जाता है कि हिप्पोपोटामिडे सबसे पहले अफ्रिका के अंदर विकसित हुए थे ।सबसे पुराना ज्ञात हिप्पोपाटामिड जीनस केन्यापोटामस है, जो 16 से 8 मिलियन वर्ष पहले अफ्रीका में रहता था। हिप्पोपाटामिड प्रजातियां ऐशिया और यूरोप के अंदर फैली हुई थी । अमेरिका के अंदर कभी भी इसकी खोज नहीं हुई।आधुनिक हिप्पोपोटामस के पूर्वजों, आर्कियोपोटामस, अफ्रीका और मध्य पूर्व में रहते थे।

‌‌‌दरियाई घोड़े की विलुप्त प्रजातियां

मैडागास्सी हिप्पोपोटामस की तीन प्रजातियां विलुप्त हो गई। और उनमे से एक तो पीछले 1000 वर्षों के अंदर ही विलुप्त हुई है।मालागासी हिप्पोस आधुनिक दरियाई घोड़े से बहुत छोटे थे ।मालगासी हिप्पो के जिवाश्म यह बताते हैं कि इनकी विलुप्ति कारण इनका शिकार करना था।1 9 76 में, ग्रामीणों ने किलोपिलोपिट्सफी  नामक एक जीवित जानवर के बारे मे बताया था जोकि मालगासी हो सकता है।

हिप्पोपोटामस एम्फिबियस 30,000 साल पहले यूरोप और उत्तर अफ्रीका  के अंदर काफी अधिक संख्या के अंदर पाये जाते थे ।इसके साक्ष्य भी मौजूद हैं।मिस्र के नाइल क्षेत्र  के अंदर दरियाई घोड़े की कई प्रजातियां पाई जाती थी।प्लिनी द एल्डर लिखते हैं कि तब दरियाई घोड़े को पकड़े का सबसे अच्छा स्थान मिस्र के अंदर साइट नोम मे था।639 में अरब विजय के बाद भी यह काफी संख्या के अंदर पाया जाता था।1 9वीं शताब्दी नाताल प्रांत मे अंतिम दरियाई घोड़ा पाया गया था।

‌‌‌हालांकि दरियाई घोड़ा अभी भी कांगो, युगांडा, तंजानिया और केन्या के उत्तरी लोकतांत्रिक गणराज्य की नदियों और झीलों में रहते हैं, उत्तर में इथियोपिया, सोमालिया और सूडान, पश्चिम में गैंबिया और दक्षिण से दक्षिण अफ्रीका तक मिलते हैं।

युगांडा जनजातियां ने 20 वीं शताब्दी के अंदर अनेक दरियाई घोड़ों का भोजन के लिए शिकार किया था।

मई 2006 में, आईयूसीएन ने एक कमजोर प्रजाति के रूप मे दरियाई घोड़े को रेड चिन्ह के रूप मे मार्क किया था।अनुमानित आबादी 125,000 से 150,000  के बीच बताई थी।1 99 6 के अध्ययन के बाद से जाम्बिया (40,000) और तंजानिया (20,000-30,000) मेंइनकी  सबसे बड़ी आबादी है।विरुंगा राष्ट्रीय उद्यान के अंदर सन 1970 से लेकर 2005 के बीच पहले 2 9, 000 थी जो बाद मे केवल 900 हो गई। इतनी बड़ी गिरावट का कारण दूसरे कांगो युद्ध को ठहराया गया था।

‌‌‌हलांकि दरियाई घोड़े का मांस खाना कानूनी रूप से अफ्रिका के अंदर अवैध कर दिया गया है। लेकिन मध्य अफ्रिका के अंदर लोग इसको एक स्वादिष्ट मांस की संज्ञा देते हैं। इसके अलावा दरियाई घोड़े का शिकार इस वजह से भी किया जाता है क्योंकि इसके दांत को हाथी दांत के समतुल्य माना जाता है।

‌‌‌ दरियाई घोड़ा क्या है? दरियाई घोड़े के बारे मे जानकारी

आपको बतादें कि दरियाई घोड़े पुरूष अपने पूरे जीवनकाल के दौरान बड़े होते रहते हैं। जबकि महिलाएं केवल 25 साल की उम्र तक ही बढ़ पाती हैं। पुरूषों का अधिकतम वजन 3,200 किलो तक पहुंच सकता है।‌‌‌ इनकी कंकाल संरचनाएं इनके भारी वजन को ले जाने के लिए अनुकूलित हैं। वैसे यह भारी जानवर हैं। और इनके पैर छोटे होते हैं। यह एक अच्छे तैराक भी नहीं होते हैं। इस वजह से यह गहरे पानी के अंदर नहीं जाते हैं।‌‌‌जब यह पानी के अंदर रहते हैं तो अपने नाक को बाहर रखते हैं। ताकि इससे यह सांस आसानी से ले सके । इनके पैर छोटे होने की वजह से यह कूद नहीं सकते ।

‌‌‌दरियाई घोड़े के जबड़े की बनावट इस प्रकार से होती है कि वह 180 डिग्री पर अपना मुंह खोल सकते हैं।वयस्क महिला की काटने वाली शक्ति को 8,100 न्यूटन के रूप मे मापा गया है।पुरूष दरियाई घोड़े के नीचे और उपर के आगे के नस दांत लगातार बढ़ते रहते हैं। और यह  1 फीट 4 इंच तक पहुंच सकते हैं।

‌‌‌दरियाई घोड़े के उपर बाल बहुत कम होते हैं।त्वचा 6 सेमी (2 इंच) मोटी होती है।जानवरों के ऊपरी भाग बैंगनी-भूरे रंग से नीले-काले होते हैं। जबकि आंखों और कानों के आस-पास के हिस्सों और इलाकों के नीचे भूरे रंग के गुलाबी होते हैं।

रक्त पसीना भी इनके अंदर पाया जाता है। यह पहले रंगहीन होता है। लेकिन कुछ समय बाद इसका रंग लाल-नारंगी  बन जाता है। और फिर ब्राउन बन जाता है। दरसअल यह हिपोस्पूडोरिक एसिड ,नोरिपोस्पोडोरिक एसिड होते हैं जो रोग विकास करने वाले रोगाणुओं को रोकते हैं।

‌‌‌दरियाई घोड़े का जीवनकाल 40 से 50 साल का होता है।डोना हिप्पो पहला जीवित हिप्पो था।वह अमेरिका में इंडियाना के इवांसविले में मेस्कर पार्क चिड़ियाघर में रहती थीं । जिसकी मौत सन 2012 के अंदर 61 साल की होने पर हुई थी।

‌‌‌दरियाई घोड़ा क्या खाता है ? और इसका रहन सहन

दरियाई घोड़े नदियों तालाबों और झीलों के अंदर रहते हैं। और दिन का समय है पानी के अंदर खर्च करते हैं। इसके अलावा यह अधिक घास वाले स्थानों पर रहते हैं।‌‌‌यह सिर्फ चरने के लिए भूमी पर जाते हैं। इसके अलावा संभोग तक पानी के अंदर ही करते हैं।यह 6 मील तक की लंबी यात्राएं भी करते हैं।यह चार से पांच घंटे चराई करते हैं और हर रात 68 किलो घास का सेवन कर लेते हैं।‌‌‌वैसे तो दरियाई घोड़े शाकहारी होते हैं। लेकिन यह कभी कभी मांस खाते भी हैं। हालांकि इनकी आंते मांस को ठीक से पचा नहीं पाती हैं। इनका मांस खाने का कारण पौष्टिक तनाव के कारण होता है।

‌‌‌सन 2015 के अंदर हुए एक रिसर्च के अनुसार दरियाई घोड़े का गोबर मछली और अन्य जलिय जीव के लिए आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करता है।दरियाई घोड़े पानी के अंदर 5 मील प्रति घंटे तक चल सकते हैं। यह समय समय पर अपना स्थान बदलते रहते हैं।

‌‌‌आपको बतादें कि सांस लेने की प्रक्रिया अवचेतन होती है। इनको हर 3 मिनट के अंदर सांस लेने के लिए पानी से उपर आना पड़ता है।यदि यह पानी के नीचे सो रहे हैं तो सांस लेने के लिए अपने आप उपर आ जाएंगे । इसके लिए इनको जागने की आवश्यकता नहीं है।

नाइल मगरमच्छ और शेर भी कभी कभी दरियाई घोड़े का शिकार करते देखे गए हैं। हालांकि यह कम ही चांस होते हैं कि कोई जानवर इनका शिकार कर ले । क्योंकि यह बहुत आक्रमक होते हैं। ‌‌‌दरियाई घोड़े एक सामाजिक जानवर नहीं हैं। और उनके साथ रहने का कारण अज्ञात है। और इनके झुंड के अंदर 30 या इससे अधिक दरियाई घोड़े हो सकते हैं।और मादा दरियाई घोड़े अधिकतर केसों के अंदर एक दूसरे के साथ रहती हैं। कस्तूरी मर्ग की तरह ही दरियाई घोड़ा भी अपने मल के द्वारा अपने क्षेत्र को चिन्हित ‌‌‌करता है। और इनके अंदर पुरूष आपस मे लड़ते हुए भी देखे गए हैं। जब दो दरियाई घोड़े आपस मे लड़ते हैं तो एक दूसरे पर अपने नुकिले दांतों से हमला करते हैं।और एक दूसरे को घायल कर देते हैं।

‌‌‌जन्म के बाद मादा दरियाई घोड़ा 5 से 6 साल के अंदर परिपक्व होता है।और पुरूष दरियाई घोड़ा लगभग 7 साल के बाद परिपक्व होता है।युगांडा के अंदर हुए एक रिसर्च से पता चला है कि गर्मियों के अंदर और सर्दियों मे गिले मौसम के समय मादा गर्भधारण करती है।गर्भवती होने के बाद मादा 17 महिने तक अंडाशय ‌‌‌शूरू नहीं करेगा। ‌‌‌संभोग भी पानी के अंदर ही होता है।बेबी हिप्पोप्स 25 से 50 किलो का होता है। और 127 सेमी की औसत लंबाई होती है। इसके अलावा बच्चे पानी के अंदर ही पैदा होते हैं। इनका सांस लेने के लिए सतह पर आना पड़ता है।

‌‌‌कभी कभी यह अपनी मां के पीठ पर बैठे भी देखे जा सकते हैं। दरियाई घोड़े की माता ही इनकी सुरक्षा करती है। और दुश्मनों से इनकी दूरी बनाए रखती है। हालांकि चिड़िया घरों के अंदर इनकी देखभाल वयस्क करते हैं। एक बच्चा दरियाई घोड़ा जन्म के 8 महिने तक मां का दूध पीता है। ‌‌‌यह कभी कभी जुड़वा भी पैदा होते हैं।

‌‌‌दरियाई घोड़े के साथ इंसानों का कनेक्सन

‌‌‌ दरियाई घोड़े पर मानव हमले का पहला सबूत 160,000 साल पहले मिले जिवाश्म के अंदर मिल चुका है। उसके बाद दरियाई घोड़े के शिकार करने का सबूत सहारा के पहाड़ों में तस्सीली एन’जेजर पर्वत में दंजेट के पास मिले जिवाश्मों के अंदर मिला है। यह 4000 साल पहले की बात है। ग्रीक इतिहासकार हेरोदोटस ने द हिस्ट्रीज़  अपनी किताब के अंदर दरियाई घोड़े के बारे मे लिखा था।रोमन प्रकृतिवादी प्लिनी द एल्डर ने नेचुरलिस हिस्टोरिया के अंदर दरियाई घोड़े के बारे मे लिखा है।योरूबा लोगों को हिप्पोपोटामस एरिनमी कहा जाता है जिसका अर्थ है “पानी के हाथी”।

‌‌‌दरियाई घोड़े का इंसानों पर हमला

दरियाई घोड़े के इंसानों पर हमले के केस बहुत कम आते हैं। क्योंकि अब इनकी संख्या बहुत कम रह गई है। वैसे दरियाई घोड़ा बेहद आक्रमक होता है।और पानी के अंदर तैर रही बड़ी नावों को डूबो सकता है।नाइजर के अंदर हुए हमले के अंदर 13 लोगों की मौत हो गई थी ।

‌‌‌दरियाई घोड़ा चिडिया घर के अंदर

हिप्पो ओबेशक वह पहला चिड़िया घर था जिसमे दरियाई घोड़े को रखा गया था।25 मई 1850 को लंदन के अंदर इस दरियाई घोड़े ने 10000 से अधिक आगंतुओं को आकर्षित किया था।हालांकि चिड़िया घर के अंदर दरियाई घोड़े की जन्मदर कम होती है। जन्मदर कम होने का एक कारण खुद ‌‌‌चिड़िया घर को भी ठहराया जाता है। क्योंकि इसको बनाय रखना काफी महंगा होता है।टोलेडो चिड़ियाघर जोकि अमेरिका के अंदर है मे 1 9 87 मे बहुत से लोगों ने पानी के अंदर दरियाई घोड़े के जन्म को देखा था।

दरियाई घोड़ा क्या है? दरियाई घोड़ा क्या खाता है ? ‌‌‌दरियाई घोड़े का पसीने का रहस्य

लेख आपको कैसा लगा कमेंट करके बताएं।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *