वेब ब्राउज़र का इतिहास history of web browser in hindi

वेब ब्राउज़र का इतिहास के बारे मे हम विस्तार से चर्चा करेंगे । आज हम सभी इंटरनेट का प्रयोग करते हैं। और नेट पर कुछ भी सर्च करने के लिए वेब ब्राउजर का भी प्रयोग करते हैं। वेब ब्राउजर की मदद  से हम नेट पर अच्छी तरीके से सफरिंग कर सकते हैं।जब हमे नेट पर किसी भी वेबसाइट पर जाना होता है तो हम वेब ब्राउजर के अंदर ही सर्च करते हैं। ‌‌‌वेब ब्राउजर वर्ल्ड वाइड वेब  पर सूचनाओं को देखने दुबारा प्राप्त करने और संसोधित करने व सूचनाओं का पता लगाने का एक प्रोग्राम होता है। किसी विशेष सामग्री के पते को इसके अंदर दर्ज करके उसे खोजा जा सकता है।

1980 के दशक के अंदर हाइपरलिंक अनुप्रयोगों के रूप मे वेबब्राउजर थे ।टिम बर्नर्स-ली 1990 के अंदर पहला वेब ब्राउजर विकसित किया था। और इसका नाम वर्ल्डवाइडवेब था। इसके अंदर कोई स्पेस नहीं था। बाद मे इसका नाम बदलकर नेक्सस कर दिया गया था। ‌‌‌आज एक से एक से अच्छे वेबब्राउजर मौजूद हैं। लोकप्रिय वेब ब्राउजर के अंदर क्रोम, सफारी, इंटरनेट एक्सप्लोरर, फ़ायरफ़ॉक्स, ओपेरा शामिल हैं।

Microsoft ने अपने वार्षिक संमेलन के दौरान अपने नए वेब ब्राउजर का नाम  Microsoft Edge रखा और यह उम्मीद की जा रही है कि यह गूगल क्रोम और मोजिला को भी पीछे छोड़देगा ।Microsoft एज पीछले दो दशकों के लिए यह वेबब्राउजर है।यह विडों 10 के लिए एक डिफाल्ट ब्राउजर का काम करेगा। ऑपरेटिंग सिस्टम के माइक्रोसॉफ्ट के कॉर्पोरेट उपाध्यक्ष जो बेल्फ़ोर ने दावा किया  है कि यह वेब ब्राउजर पहले की तुलना मे काफी तेज है। और इसके अंदर कई सारे फिचर्स को जोड़ा गया है। इसके अलावा इसके अंदर अलग से रिडिंग मोड भी दिया हुआ है।

1995 में इंटरनेट एक्सप्लोरर का प्रयोग इंटरनेट के विकास के साथ तेजी से होने लगा था। क्योंकि इसका मुकाबला करने के लिए कोई अन्य वेबब्राउजर उस समय मौजूद नहीं था।2002 और 2003 के बीच, लगभग 95 प्रतिशत लोगों ने वेब पतों पर पहुंचने के लिए इंटरनेट एक्सप्लोरर का प्रयोग किया था। ‌‌‌ब्राउजर के इतिहास के अंदर इंटरनेट एक्सप्लोरर की यह एक बड़ी जीत थी।

मोज़िला के फ़ायरफ़ॉक्स और Google के क्रोम ब्राउज़रों के आ जाने के बाद इस मार्केट के अंदर काफी अधिक प्रतिस्पर्धा पैदा हो गई और इंटरनेट एक्सप्लोरर का प्रयोग 21 प्रतिशत तक गिर चुका है।इसके अलावा स्मोट फोन के प्रयोग से ब्राउजर का इतिहास ही बदल गया । और मार्केट के अंदर नए नए वेब ब्राउजर आने लगे ।

‌‌‌वेब ब्राउजर का इतिहास history of web browser

दोस्तों आज हमारे पास इतने अच्छे वेब ब्राउजर मौजूद हैं कि हम नेट पर इनकी मदद से आसानी से ही सफरिंग कर सकते हैं। लेकिन एक समय ऐसा भी था। जब हमारे पास कोई भी अच्छा वेब ब्राउजर नहीं था।‌‌‌वेब ब्राउजर का इतिहास के अंदर हम कुछ महत्वपूर्ण वेब ब्राउजरों की बात भी करने वाले हैं। वैसे तो अब तक बहुत सारे ब्राउजर मार्केट के अंदर आ चुके हैं।

वेब ब्राउज़र का इतिहास WorldWideWeb 1990

यह दुनिया का सबसे पहला वेबब्राउजर था। और यह दुनिया का सबसे पुराना वेब ब्राउजर भी था। अब इसका प्रयोग नहीं होता है। इसको सन 1990 के अंदर सर टिम बर्नर्स ली के द्वारा बनाया गया था। यह उस समय इंटरनेट पर देखने का एक मात्र तरीका था। ‌‌‌दुनिया के सबसे पुराने वेब ब्राउजर का नाम WorldWideWeb था । जिसको कन्फयूजन से बचने के लिए नेक्सस  कहा जाने लगा था।

वेब ब्राउज़र का इतिहास MidasWWW 1992

यह वेब ब्राउजर सन 1992 के अंदर SLAC के द्वारा विकसित किया गया था।अंतिम रिलीज़ संस्करण 2.2 था।टोनी जॉनसन  नाम एक व्यक्ति ने इस वेब ब्राउजर को बनाया था।

वेब ब्राउज़र का इतिहास Lynx 1992

लिंक्स कंसास विश्वविद्यालय के कुछ छात्रों और कर्मचारियों ने इस वेब ब्राउजर को बनाया था। यह सन 1992 के अंदर बनकर तैयार हो गया था।यह वेब ब्राउजर लो मोंटुल्ली, माइकल ग्रोब और चार्ल्स रेजैक के द्वारा बनाया गया था। 1993 में, मॉन्टुली ने एक इंटरनेट इंटरफ़ेस जोड़ा और ब्राउज़र का एक नया संस्करण (2.0) जारी किया। 1995 में, लिंक्स को GNU जनरल पब्लिक लाइसेंस के तहत जारी किया गया था

 वेब ब्राउज़र का इतिहास NCSA Mosaic 1993

मौसिकी का विकास नेशनल सेंटर फॉर सुपरकंप्यूटिंग एप्लिकेशन (NCSA)  में इलिनोइस विश्वविद्यालय में Urbana-Champaign में 1992 के अंत में शुरू हुआ।NCSA ने 1993 में ब्राउज़र जारी किया था। और 7 जनवरी 1997 को इस ब्राउजर का उत्पादन बंद कर दिया गया था। 1997  तक इस वेब ब्राउजर ने अपनी अधिकत हिस्से दारी को बाजार के अंदर खो दिया था। और अब इसके उपयोग कर्ताओं का छोटा अंश ही बचा हुआ था। इसकी वजह थी। सन 1995 के अंदर इंटरनेट एक्सप्लोरर का आ जाना ।

Internet Explorer 1995

इस वेब ब्राउजर को  August 16, 1995 मे Microsoft के द्वारा विकसित किया गया था। इसे Microsoft के विडों 95 के लिए सबसे पहले जारी किया गया था। उसके बाद  के विड़ों सिस्टमों के अंदर भी इस ब्राउजर का अपग्रेड वर्जन को दिया गया है। विंडो एक्स पी विड़ों 7 और 8 के अंदर भी Internet Explorer ‌‌‌वेब ब्राउजर मौजूद है। इंटरनेट एक्सप्लोरर सबसे व्यापक रूप से उपयोग किए जाने वाले वेब ब्राउज़रों में से एक था, जो 2003 तक लगभग 95% हिस्सेदारी हाशिल कर चुका था।

फ़ायरफ़ॉक्स (2004) और Google क्रोम (2008) के लॉन्च के बाद से इसके उपयोग में गिरावट आई है। एंड्रोयड और ओएस सिस्टम की बढ़ती लोक प्रियता की वजह से इंटरनेंट एक्सप्लोरर का प्रयोग काफी कम हो चुका है।टरनेट एक्सप्लोरर के बाजार में हिस्सेदारी का अनुमान सभी प्लेटफार्मों पर 2.88%  की मात्र रह गया है। जबकि डेस्कटॉप के अंदर इसकी हिस्से दार 6 प्रतिशत के आस पास है।

Microsoft ने 1990 के दशक के अंत में Internet Explorer पर US $ 100 मिलियन प्रति वर्ष खर्च किया था। 17 मार्च 2015 को माइक्रोसॉफ्ट  ने एक घोषणा की थी कि वह माइक्रोसॉफ्ट एज को अपने पुराने ब्राउजर के साथ बदल देगा । और माइक्रोसॉफ्ट एज अब डिफाल्ट वेब ब्राउजर होगा ।इंटरनेट एक्सप्लोरर 11 इंटरनेट एक्सप्लोरर का एक अंतिम वर्जन था। संयुक्त राज्य और यूरोपीय संघ ने इंटरनेट एक्सप्लोरर के बारे मे टिप्पणी करते हुए कहा की इस ब्राउजर के अंदर कई सारी कमियां थी और इसके अंदर डेटा सुरक्षा का भी काफी कम ध्यान रखा गया था।

वेब ब्राउज़र का इतिहास Opera1996

‌‌‌तो दोस्तों आइए जानते हैं ओपेरा ब्राउजर का इतिहास। Opera ब्राउजर को 10 April 1995 को Opera Software AS कम्पनी  ने विकसित किया था।यह अब तक 42 languages के अंदर उपलब्ध है। यह Windows 7 or later ,macOS, Linux, Android,Operating system    पर काम करता है। 1994 के अंदर ओपेरा की परिकल्पना एक अनुसंधान परयोजना के रूप मे की गई थी। 1995 में ओपेरा सॉफ्टवेयर के द्वारा इसको खरीद लिया गया था। पीछले 10 वर्षों के अंदर ओपेरा एक वाणिज्यक सॉफ्टवेयर था । और इसका खुद का प्रेस्टो लेआउट इंजन था लेकिन सन 2013  प्रेस्टो  का अंत हो गया । ओपेरा को पहली बार 1996 में संस्करण 2.10 के साथ सर्वाजनिक रूप से जारी किया गया था।जो केवल माइक्रोसॉफ्ट विंडोज पर ही काम करता था।1998 के अंदर ओपेरा को मोबाइल के लिए बनाने की परियोजना पर काम शूरू हुआ था। 2000 में जारी ओपेरा 4.0 वर्जन एक ऐसा वर्जन था। जिसके अंदर कई सारे प्लेटफोर्मों पर चलने की सुविधा दी गई थी। ओपेरा संस्करण 5.0 के अंदर विज्ञापन दिखाना शुरू कर दिया गया था।उस समय तक ओपेरा उन लोगों को विज्ञापन दिखाता था। जिन्होंने इसका भुकतान नहीं किया था।

ओपेरा के बाद के संस्करणों के अंदर गूगल के विज्ञापन भी लगाये गए थे ।हालांकि 2005 के बाद जारी संस्करणों के अंदर विज्ञापनों को पूरी तरह से हटा दिया गया था। ‌‌‌और ब्राउजर के लिए वित्तीय सहायता  गूगल के राजस्व से आई थी।

वेब ब्राउज़र का इतिहास Safari 2003

Safari वेब ब्राउजर को Apple के द्वारा develope किया गया था।January 7, 2003 Safari वेब ब्राउजर को बनाया गया था।2007 के अंदर इस वेब ब्राउजर को मोबाइल के लिए भी उपलब्ध करवा दिया गया था। 7 जनवरी, 2003 को Macworld सैन फ्रांसिस्को में, स्टीव जॉब्स ने घोषणा की थी की एप्पल ने सफारी नाम के खुद के वेब ब्राउजर को विकसित किया है।इसको उस समय WebKit  के नाम से भी जाना जाता था। पहले कम्पनी ने इसका बीटा संस्करण जारी किया था जो केवल ओएस एक्स  के लिए था।

सफारी को 24 अक्टूबर 2003 को मैक ओएस एक्स v10.3 के साथ डिफ़ॉल्ट ब्राउज़र के रूप मे दिया गया था।इसमे इंटरनेट एक्सप्लोरर एक वैकल्पिक वेब ब्राउजर था। ‌‌‌अब तक सफारी वेब ब्राउजर के कई वर्जन आ चुके हैं।

Safari 2 को April 2005,Dave Hyatt के द्वारा विकसित किया गया था। जोकि एक इंजिनियर था। Safari 4 को June 2, 2008 के अंदर विकसित किया गया था।

Safari 3 को January 9, 2007 के अंदर विकसित किया गया था।

Safari 12 जोकि इसका सबसे नया वर्जन है को September 17, 2018 को लांच किया गया था।

Mozilla Firefox 2004

यह एक ओपन सोर्स वेब ब्राउजर है। जिसको Mozilla Corporation के द्वारा सन 2004 के अंदर विकसित किया गया  था। हालांकि इसका सबसे पहले विकास सन 2002 के अंदर हुआ था।फ़ायरफ़ॉक्स विंडोज, मैकओएस, लिनक्स, बीएसडी,  इल्मोस  और सोलारिस जैसे आपरेटिव सिस्टम के लिए उपलब्ध है। इसको एंड्रायड के लिए भी बनाया जा चुका है। यह वेबकिट लेआउट इंजन का प्रयोग करता है।फ़ायरफ़ॉक्स लोगों के बीच काफी लोकप्रिय भी साबित हुआ ।इंटरनेट एक्सप्लोरर 6 की तुलना मे इसको काफी अच्छा समर्थन मिला । पहले 9 महिनों के अंदर ही इसको 60 मिलियन डाउनलोड कर चुके थे ।

नेटस्केप नेविगेटर ने इसको बनाया गया था। लेकिन बाद मे इसे एओएल  के द्वारा इसे अधि ग्रहण कर लिया गया था।2009 के अंत में फ़ायरफ़ॉक्स का उपयोग 32%  बढ़ चुका था। हालांकि गूगल क्रोम आ जाने की वजह से इसके यूजर के अंदर गिरावट भी आई थी।मोज़िला के अनुसार, दिसंबर 2014 तक, दुनिया भर में आधे बिलियन फ़ायरफ़ॉक्स उपयोगकर्ता थे।

Chrome 2008

इस ब्राउजर को Google LLC ने सन 2008 के अंदर विकसित किया था। यह Windows, macOS, Linux और Android व iOS ओपरेटिंग सिस्टम पर काम करता है।‌‌‌सन 2008 के अंदर  इसको सबसे पहले माइक्रोसॉफ्ट विंडोज के लिए जारी किया था। लेकिन बाद मे इसको दूसरे आपरेटिंग सिस्टम के लिए भी जारी कर दिया गया था।2018 स्टेटकाउंटर  की एक रिपोर्ट के अनुसार क्रोम के सभी प्लेटफार्मों में दुनिया भर में 61% ब्राउज़र मार्केट शेयर है।

इस वजह से प्रेरित होकर Google ने “Chrome”  का और अधिक विस्तार कर दिया है।Google के सीईओ एरिक श्मिट ने 6 साल तक एक स्वतंत्र वेब ब्राउजर को डवलप करने का विरोध किया ।क्योंकि उस समय गूगल एक छोटी कम्पनी थी और वह वेब ब्राउजर जैसी चीजों से गुजरना नहीं चाहती थी।सह-संस्थापक सेर्गेई ब्रिन और लैरी पेज ने मोज़िला फ़ायरफ़ॉक्स डेवलपर्स को काम पर रखा था। अच्छे प्रदर्शन की वजह से श्मिट  ने स्वीकार किया की यह एक अच्छा काम है।सितंबर 2004 के अंदर ऐसी न्यूज आई की गूगल एक वेब ब्राउजर डवलप कर रहा है।अमेरिकी  अखबारों ने उस समय कहा था कि गूगल मोज़िला फ़ायरफ़ॉक्स के डवलपर को काम पर रख रहा है। यह सूचना  इंटरनेट एक्सप्लोरर की बाजार के अंदर हिस्सेदारी को कम रही थी।

वेब ब्राउज़र का इतिहास Microsoft Edge 2015

यह सन 2015 के अंदर माइक्रोसॉफ्ट  के द्वारा विकसित किया गया था। यह Operating system iOS, Android, Windows 10, Xbox One System Software पर काम करता है। यह पहली बार 2015 में विंडोज 10 और एक्सबॉक्स वन के लिए जारी किया गया था, फिर 2017 में एंड्रॉइड और आईओएस के लिए भी जारी कर ‌‌‌दिया गया था।एड्रेस बार के भीतर वॉयस कंट्रोल, सर्च फंक्शनालिटी और सर्च से जुड़ी डायनामिक जानकारी देने के लिए एज माइक्रोसॉफ्ट के ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के साथ इंटीग्रेट करता है। Microsoft Edge विड़ों 10 के लिए एक डिफाल्ट वेब ब्राउजर है।जो इंटरनेट एक्सप्लोरर 11 और इंटरनेट एक्सप्लोरर मोबाइल की जगह लेता है।

‌‌‌स्टेटकाउंटर की रिपोर्ट और ब्राउजर की हिस्सेदारी

Chrome 62.4%

Safari 14.56%

Firefox 5.1%

UC Browser 4.17%

Opera 3.13%

Samsung Internet 2.8%

वेब ब्राउज़र का इतिहास history of web browser

लेख आपको कैसा लगा कमेंट करके बताएं।

One Comment

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *