Why did God create us ? भगवान ने इंसान को क्यों बनाया था ?

‌‌‌भगवान ने इंसान को क्यों बनाया , ईश्वर ने इंसान को क्यों बनाया

दुनिया के हर धर्म के अंदर इस बात का जिक्र जरूर मिलता है। कि इस दुनिया को बनाने वाला ईश्वर एक है। जिसको अलग अलग नामों से जाना जाता है। जिसके बारे मे यह कहा जाता है। कि ईश्वर सर्वशक्तिमान है। उसी ने यह दुनिया बनाई है। और अपनी बनाई दुनिया के नियम ‌‌‌वह खुद निर्धारित करता है। यह बात तो तय है कि इस दुनिया को बनाने वाला ईश्वर ही है। लेकिन ईश्वर ने इंसान को क्यों बनाया ? इस प्रश्न का हमारे पास कोई खास जवाब नहीं है। लेकिन कुछ लोग इस प्रश्न का उत्तर देने की कोशिश करते हैं। यह सच है कि ईश्वर बिना उदेश्य के कोई काम नहीं करता

Why did God create us

‌‌‌ईश्वर ने हमे बनया जिससे हम उसे पूजे God made us so that we worship him

कई सारे विद्वानों का मानना है कि ईश्वर अपनी पूजा करवाने के लिए इंसानों को बनाया था उसने सबसे पहले कई सारे जीवों को बनाया था लेकिन वे ईश्वर की पूजा करने मे सक्षम नहीं थे इस वजह से उसने इंसानों को बनाया यह परिकल्पना ‌‌‌सच लगती है क्योंकि हर धर्म के अंदर ईश्वर की पूजा की जाती है। और ईश्वर रूष्ट होने पर दण्डि़त भी करता है। यह परम्परा आज की नहीं है। सदियों से चली रही है। इंद्र की पूजा करना और व्रज पर मूसलाधार वर्षा करना ईश्वर की रूष्टता का प्रमाण है। जिससे साबित होता है। कि उसने ईंसान को ‌‌‌अपनी पूजा करने के लिए बनाया था

‌‌‌ईश्वर ने हमे बनया ताकि हम दुनिया का आनन्द ले सकें God made us the order we can make the world enjoy

इस बात मे कोई शक नहीं है कि कुछ होने से अच्छा है कुछ होना ईश्वर ने हमे इस वजह से भी बनाया ताकि उसकी बनाई दुनिया का हम आनन्द ले सकें पूरा सुख उठा सकें और यह कहना गलत भी नहीं है प्राचीन लोग ईश्वर की बनाई दुनिया का पूरा आनन्द उठाते ‌‌‌भी थे लेकिन कुछ लोगों को आपति हो सकती है कि इस संसार मे आनन्द तो कहीं है ही नहीं तो उसको हम कहना चाहेंगे कि इस संसार मे आनन्द होने का कारण ईश्वर नहीं है। हम खुद हैं। किसी की हत्या करना , चोरी करना और कोई भी गलत काम करने वाले हम हैं ईश्वर नहीं है। ‌‌‌और यह सब हम अपने फायदे के लिए करते हैं। हम एक दूसरे से दुखी हैं की ईश्वर हमे दुखी कर रहा है। सोचो अपने दिमाग पर जोर डालो कि यदि ईश्वर हमारे दिमाग को गर्मी से बचने के लिए ठंड को अच्छा महसूस कराने वाला और ठंड से बचने के लिए गर्मी मे अच्छा महसूस कराने वाला भूख के समय खाना खाने के बाद ‌‌‌संतुष्टि महसूस करने वाला बनाता तो क्या हम जिंदा रह पाते है। लेकिन ईश्वर इसके विपरित इंसान को बना नहीं सकता था और ऐसा बनाता तो भविष्य के अंदर दुख झेलने की आशंका ‌‌‌थी लेकिन इंसान के जिने की गुंजाइस अधिक थी। इसी वजह से उसने हमे ऐसा बनाया यदि कोई व्यक्ति एक्सी डेंट के अंदर मारा ‌‌‌जाता है तो यह ईश्वर की गलति नहीं है यह साधन हमने बनाया है। और हम ही इसे चला रहे हैं तो ईश्वर इसमे क्या कर सकता है।

खुद को संतुष्ट करने के लिए ईश्वर ने हमे बनाया God made us to satisfy ourselves

यह बात साइंस भी मान चुका है कि पहले एक कोशिकिए जीव आए थे उसके बाद दूसरे कोशिकिए जीवों की उत्पति हुई थी ईश्वर ने पहले अलग अलग प्रकार के जीवों को बनाया था लेकिन वह किसी भी जीव को बना कर संतुष्ट नहीं हुआ उसके बाद उसने सर्व क्ष्रेष्ठ ‌‌‌जीव बनाने के लिए प्रयास किये और इंसान को बनाया जिसे देखकर ईश्वर को सुंतुष्टि मिली होगी इसका कारण यह भी है कि इंसान से क्ष्रेष्ठ जीव इस दुनिया के अंदर कोई दूसरा नहीं है।

 

‌‌‌ईश्वर ने हमे अपनी प्रजा के रूप मे पाने के लिए बनाया है

God has made us as our species.

ईश्वर चाहता था कि उसके पास इतनी सारी ताकते हैं।  इतनी सारी ताकतों के होने के बाद वह एक राजा नहीं बन सका इसी वजह से उसने इंसानों को पैदा किया ताकि इंसान उसकी प्रजा के रूप मे रह सकें यदि इंसान गलत काम करते हैं तो ईश्वर इंसानों को ‌‌‌दण्ड़ भी देता है।  मौत के बाद इंसान को को उसके कर्मों की सजा मिलती है।

 

‌‌‌ईश्वर की बनाई दुनिया को आगे बढ़ाने के लिए To pursue the created world of God

वैसे तो ईश्वर की बनाई दुनिया के अंदर कई सारे जीव हैं। लेकिन वे इंसान के जितने बुद्विमान नहीं हैं। और वे ईश्वर की बनाई दुनिया को आगे नहीं बढ़ा सकते लेकिन इंसान ही एक मात्र जीव है। जिसके पास बुद्वि है। और वह ईश्वर की बनाई दुनिया को आगे ले ‌‌‌जा सकता है। इसी वजह से ईश्वर ने हमे बनाया है ताकि उसकी स्रष्टि रचना को आगे बढ़ाया जा सके उसका विकास किया जा सके

‌‌‌हमे अच्छे कर्म करने के लिए बनाया है We have been made to do good deeds

दुनिया के हर धर्म के अंदर इस बात का उल्लेख मिलता है कि जो इंसान बुरे कर्म करता है। भगवान उसे सजा देते हैं भगवान ने इंसान को अच्छे और बुरे के अंदर फर्क महसूस करने की ताकत दी है ताकि वह अच्छे कर्म करे उसके बाद भी यदि इंसान बुरे कर्म करते हैं तो उन्हें ‌‌‌सजा मिलती है। भगवान चाहता है कि इंसान अच्छे कर्म करें और उनको खुशी मिल सके बुरे कर्मों से दूर रहें और मेरी तरह से अच्छे बने बुराई से नफरत करें

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *