आईएएस चंद्रकला हिस्ट्री ias b chandrakala history in hindi

‌‌‌बी चंद्रकला का नाम तो आपने सुना ही होगा । हमेशा सुर्खियों के अंदर रहने वाली आईएस अफसर बी चंद्रकला तब और अधिक मसहूर हो गई। जब उनका एक विडियो सोसल मिडिया पर वायरल हो गया था। जब वह अफसरों को फटकार लगा रही थी। इसके अलावा तब भी उनका एक विडियो वायरल हुआ था। जब सैल्फी लेनेकी वजह से बी चंद्रकला ने ‌‌‌एक लड़के को जेल भिजवादिया था। आपको बतादें कि बी चंद्रकला के twitter  पर लाखों की संख्या के अंदर फोलोवर भी हैं। ‌‌‌इनका वास्तविक नाम भुक् चंद्रकला निरु है। और उनको लेडी दबंग के नाम से भी जाना जाता है।

facebook image

आईएएस चंद्रकला हिस्ट्री

‌‌‌लंबाई –       163 सेमी ,1.5 inch लगभग

वजन –       55 किलो के आस पास

आंखों का रंग काला और बालों का रंग भी काला

‌‌‌सिविल सेवा

बी चंद्रकला भारतीय प्रशासनिक सेवा  बैच 2008 की IAS ऑफिसर है। वे उत्तर प्रदेश मे काम कर रही है।

  • 2016: जिला मजिस्ट्रेट बिजनौर
  • 2015: जिला मजिस्ट्रेट बुलंदशहर
  • 2014: जिला मजिस्ट्रेट मथुरा
  • 2012: जिला मजिस्ट्रेट हमीरपुर
  • 2010: एसडीएम इलाहाबाद (सदर)
  • 2009: मुख्य विकास अधिकारी  इलाहाबाद
  • ‌‌‌सन 2017 के अंदर उन्हे शिक्षा विभाग के अंदर स्पैसल स्कैटरी नियुक्त किया गया ।
  • सन 2017 के अंदर ही उन्हें स्वच्छ भारत के मिशन के निदेशक और पेयजल और स्वच्छता मंत्रालय के उपसचिव के रूप मे नियुक्त किया गया था।
  • सितंबर 2016 को मेरठ के जिला मजिस्ट्रेट के रूप मे नियुक्ति ।

‌‌‌बी चंद्रकला का जन्म 27 सितंबर 1979 को गजर्नपल्ली येलारेडी मंडल करीमनगर आंध्रप्रदेश के अंदर हुआ था। वह केंद्रिय विधालय रामागुंडम के अंदर पढाई की थी। आगे की पढ़ाई हैदराबाद के अंदर पूरी की थी। उसने कोटी महिला कॉलेज उस्मानिया विश्वविधालय के अंदर से भूगौल के अंदर स्नातक किया था।‌‌‌उसके बाद हैदराबाद से ही अर्थशास्त्र से परास्नातक किया । आंद्रप्रदेश की लोकसेवाआयोग की परिक्षाओं के अंदर सहकारी समितियों के उप पंजियन पद पर नयुक्त हुई। अपने पति के मार्गदर्शन के अंदर सिविल सेवा की परिक्षा की तैयारी की और 4 प्रयास के अंदर 409 वीं रैंक मिली।

आईएएस चंद्रकला हिस्ट्री पारिवारिक जीवन

बी चंद्रकला का जन्म हिंदु परिवार के अंदर बंजारा जनजाति के अंदर हुआ । उनके पिता बी किशन हैं और उनकी माता लक्ष्मी है। उनके पिता रामागुंडम के अंदर तकनीशियन हैं और माता उधमी है।वे अपने माता पिता की तीसरी संतान हैं। उनके बड़े भाई बी रघुवीर जो एक तकनीकी ‌‌‌अधिकारी हैं। और छोटे भाई महावीर करीमनगर के अंदर स्टैट बैंक के अंदर काम करते हैं। उनकी एक बड़ी बहन भी है। जो सौंदर्य उधोग से जुड़ी हुई है।‌‌‌बी चंद्रकला ने एक इंजिनियर ए रामुलु शादी की थी जब वह बीए पार्ट 2 के अंदर थी। उनकी एक बेटी किर्थी चंद्रा भी है।

‌‌‌अपनी कार्य शैली को लेकर रहती है सुर्खियों मे

बी चंद्रकला तब पहली बार सुर्खियों के अंदर आई थी। जब बुलंदशहर के अंदर जिलाधिकारी रहते है। रोड निर्माण के अंदर खराब मैटेरियल का यूज किये जाने की वजह से स्थानिए अधिकारी और ठेकेदारों को तलाड़ लगाई थी। ‌‌‌उस समय बी चंद्रकला नगरपालिका के विकास कार्यों की  जांच कर रही थी।  इसी दौरान एक रोड़ क्रंस्ट्रक्सन की जांच के लिए पहुंची थी। और घटिया टाइल्स का इस्तेमाल को देखकर गुस्सा हो गई और अधिकारियों को उसने कहा था

शर्म करो जनता का पैसा है। आपके घर का नहीं है इसी तरह से चीट करते हैं आप लोग मैं ‌‌‌इन सब की शिकायत प्रसाशन को करूंगी । यह विडियो सोसल मिडिया पर वायरल हो गया था।

 ‌‌‌इसी तरह से सन 2015 के अंदर एक स्कूल का बी चंद्रकला का एक और विडियो वायरल हो गया था। जिस विडियो के अंदर पहले चंद्रकला बच्चों से कॉमन सवाल पूछती है। और जब बच्चे नहीं बता पाते हैं तो वह शिक्षिकों को लताड़ लगाती है।

‌‌‌इसी तरह से सन 2016 की बात है। जब बी चंद्रकला अखिलेश यादव की सरकार मे थी। तब एक लड़के ने बिना उनकी इजाजत के उनके साथ एक फोटो लेली । जिसकी वजह से उसने लड़के को जेल भिजवादिया । और इसी वजह से जब एक पत्रकार ने इस मामले के बारे मे जानने के लिए बी चंद्रकला को फोन किया तो ‌‌‌तब बी चंद्रकला ने पत्रकार को कड़ी फटकार लगाते हुए कहा की अंजान मर्द यदि उसकी मां बहन के साथ फोटो खिंचवाने का प्रयास करेगा तो क्या वह ऐसा करने देगा । बेचारा पत्रकार कुछ नहीं कर सका । इस वजह से भी चंद्रकला ने महिलाओं के सम्मान की एक तरह से रक्षा ही की है।

‌‌‌सन 2017 के अंदर आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद की बी चंद्रकला को एक चिटठी मिली जिसके अंदर यह कहा गया था कि बी चंद्रकला तुम्हारे डीएम आवास को बम से उडा दिया जाएगा । डीएम आवास का विडियो बनाकर आतंकी संगठन के सरगाना हाफिज सईद को भेज दिया गया है।इस वजह से भी भारतिए सुरक्षा एंजेसियों के अंदर हडकम्प ‌‌‌मच गया था। यह थी आईएएस चंद्रकला हिस्ट्री जिससे उन्हें काफी पोपुलर बना दिया।

‌‌‌social मिडिया पर एक्टीव

बी चंद्रकला शोसल मिडिया पर काफी ज्यादा एक्टीव है। फेसबुक पर वह काफी एक्टिव है। उनके फोलोवर की बात करें तो उनके फोलोवर अरविंद केजरीवाल से भी ज्यादा हैं। यदि वह कोई भी पोस्ट फेसबुक पर करती है। तो केवल कुछ ही मिनटों के अंदर हजारों लाइक और कमेंट आ जाते हैं।

‌‌‌ आईएएस चंद्रकला हिस्ट्री और उन पर लगे आरोप

वैसे तो हम जब आईएएस चंद्रकला हिस्ट्री  खंगालेंगे तो उन पर कई सारे आरोप पहले भी लग चुके हैं। लेकिन ऐसा माना जा रहा है कि पूर्व की सरकारों के समय वह राज्य सरकार की काफी चहेती रही है। और ऐसी स्थिति के अंदर उसकी छवी पर कोई आंच नहीं आइए लेकिन ‌‌‌अब आईएएस चंद्रकला हिस्ट्री   कमजोर पड़ती दिख रही है। पीछले 10 सालों से कमाए फोलोवरस और लोकप्रियता धूमिल होती दिख रही है। आइए जानते हैं। पूरा मामला क्या है ?

‌‌‌IAS बनने के बाद बी चंद्रकला की पहली नियुक्ति सन 2009 के अंदर इलाहाबाद  के फूलपूर के अंदर एसडीएम के रूप मे हुई थी। सन 2012 के अंदर उनको हमीरपूर का डीएम बनाया गया था। और 2017  तक वह कुल पांच जिलों की डीएम रह चुकी है।

‌‌‌ऐसा माना जाता है की हमीरपुर मे तैनात होने के बाद से ही खनन को लेकर उनकी संदिग्ध भूमिका की वजह वह काफी चर्चा मे रहने लगी ।उनकी लगातार होती तरक्की से यह बात आम हो गई कि वे सपा सरकार के बेहद करीबी हैं।

‌‌‌शोसल मिडिया मे चर्चा के चलते उनके कई काम जनता के सामने नहीं आ सके जिनकी वजह से उनकी छवी खराब होती हो । इसके अलावा यदि विधानसभा चुनाव के दौरान वह मेरठ के अंदर बीजेपी नेताओं से न उलझती तो शायद वह इस सरकार की भी काफी चहेती बनकर रह सकती थी। ‌‌‌बीजेपी के नेताओं ने उन पर पक्षपातपूर्ण रवैया अपनाने और सताधिकरी पार्टी के एक एजेंट के रूप मे काम करने का आरोप भी लगाया था। और नेताओं ने इसकी शिकायत चुनाव आयोग से भी कही थी ताकि बी चंद्रकला का ट्रांसफर किया जा सके।

बीजेपी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मीकांत वाजपेयी  ने कहा था कि पीछली सरकारे जिस तरह से इन अफसरों से मिलकर भ्रष्टाचार को बढ़ावा दे रही थी। यह इसका ही सबूत है। हमने इसकी शिकायत पहले भी की थी किंतु हमारी सुनवाई नहीं हुई।

‌‌‌सन 2017 के अंदर सता परिवर्तन के बाद उनके प्रभाव के अंदर भी बदलाव आ गया । उनको पहले दिल्ली जाना पड़ा और फिर वापस अपनी मूल जगह पर लौट आई। उसके कुछ दिन बाद ही सीबीआई ने उनके घर पर अवैध खनन के मामले के अंदर छापेमारी की है। ‌‌‌केन बेतवा और यमुना नदियों मे अवैध खनन का कारोबार इन अधिकारियों की मिलिभगत से ही होता है। और यह अधिकारी सता के लोगों से मिले हुए रहते हैं। क्योंकि यह ही उनके हित मे होता है।

Chandrakala-IAS- image by https://www.instagram.com/chandrakalaias/?hl=kn

‌‌‌मई के अंदर इलाहाबाद हाई कोर्ट से भी बी चंद्रकला को एक बड़ा झटका लगा था। कोर्ट ने बी चंद्रकला के खिलाफ जारी समन आदेश  को सही मानते हुए उनकी अर्जी को खारीज कर दिया था।इस मामले मे बी चंद्रकला पर आरोप था उसने और कुछ लोगों ने मिलकर अनंती देवी  नामक एक महिला के घर को आने जाने वाले रस्ते पर कब्जा ‌‌‌कर लिया था। और आसमा बानो को सन 2011 के अंदर उसे देदिया गया था। ‌‌‌अनंती देवी ने एसडीएम के इस फैसले को इलाहाबाद की सीजेएम कोर्ट के अंदर चुनौती दी थी। बाद मे बी चंद्रकला को समन जारी किया गया । जबकी हाई कोर्ट ने भी चंद्रकला की अर्जी को खारिज कर दिया था।

हमीरपुर अवैध खनन घोटाले मे चंद्रकला का नाम

देश की ईमानदार IAS कही जाने वाली बी चंद्रकला कितनी ईमानदार है यह तो भगवान ही जाने या फिर सब कुछ  मसूहर होने के लिए किया होगा । लेकिन हमीरपुर अवैध खनन घोटाले के अंदर सीबीआई ने ‌‌‌उनके लखनउ आवास पर स्थिति मकानों के अंदर छापेमारी की और कई महत्वपूर्ण दस्तावेज अपने कब्जे मे लेलिए ।उन पर डिएम रहते हुए अवैध खनन करवाने का आरोप है। यह काम अखिलेश यादव की सरकार के दौरान हुआ था।

हमीरपुर जिले  के अंदर जब बी चंद्रकला डीएम रही थी।तब 50 खनन पट्टे आवंटित  किये थे । इसके लिए पहले टेंडर देने का नियम था। बाद मे सन 2015 के अंदर हाईकोर्ट के अंदर एक याचिका भी दायर की थी। बाद मे कोर्ट ने इन पटटों को निरस्त कर दिया था।

‌‌‌यह थी खनन से जुड़ी आईएएस चंद्रकला हिस्ट्री

‌‌‌बी चंद्रकला ने लिखी कविता

सीबीआई की छापेमारी के बाद बी चंद्रकला ने अपने लिंकडिन प्रोफाइल पर एक खुद की लिखी कविता शैयर भी की है। हम उनकी कविता को यहां पर उल्लेख करना उचित समझते हैं। वैसे एक यूजर की कमेंट का जवाब देते हुए बी चंद्रकला ने लिखा है कि ‌‌‌उन पर लगे आरोप बेबुनियाद हैं समय आपने पर आपको पता भी चल जाएगा ।

प्रिय दोस्तों,

नफरत और घृणा से जीवन, दूषित होता है।।

इन सुंदर पंक्तियों के साथ शुभारम्भ करते हैं…

आ सोलह श्रृंगार करूं, मैं,

आ मैं तुमको, प्यार करूं, मैं।।

घर से निकल कर, सीधी सड़क पर,

चौवाड़े से दायीं, मुड़ जाना,

वह जो गंगा तट है, देखो,

ऊपर एक मंदिर है, पुराना।।

उसके पीछे पीपल का वृक्ष,

जाने मन तुम, वहीं आ जाना,

आना तुम छिप-छिप कर आना,

आना, नजरें चार करेंगे,

मधुवन का श्रृंगार बनेंगे।।

हेट की रात है, बड़ी ही सुहानी,

माहताब है, देख दिवानी,

रातरानी, चंपा, चमेली,

फूल, तुम लाना संग में सहेगी।।

रजनीगन्धा को भी ले आना,

दोस्त है ये अपना, बड़ा ही पुराना,

आना, जरा जल्दी आ जाना।।

चंदा की बे-सब्री देखो,

उग आयी है, रात की रानी,

नदियों की धारा तुम, देखो,

देखो इसका, कल-कल पानी।।

कोयल की स्वर, देखो, हे प्रिये!

उर्वशी भी है, तेरी दिवानी,

कुमकुम के रंगों से सज गयी,

गौधूली की प्रीत पुनानी।।

देखो, जब मंदिर में बजेगी,

संध्या-भजन की घंटी, तब तुम,

बीत जाए जब, एक पहर और,

घर से निकल ही आना प्रिय तुम।।

मैं बैठा इंतजार करूंगा,

पीपल के नीचे, चांदनी रात में,

मैं बन दर्पण, श्रृंगार करूंगा,

आना तुमको मैं प्यार करूंगा।।

छापा, जांच की प्रक्रिया का एक हिस्सा मात्र है ।। — आपकी चंद्रकला ।।

बी चंद्रकला  ईमानदार या भ्रष्ट ?

दोस्तों कई बार क्या होता है कि किसी भी चीज को हम इतना ज्यादा पसंद करने लगते हैं कि उसके संबंध मे हम कुछ भी गलत स्वीकार नहीं कर पाते हैं। अब यही बात बी चंद्रकला के फैन के साथ हो रही है। उनके फैन जितना उनको ईमानदार बताते थे । और अचानक उनके घर सीबीआई का छापा पड़ना ‌‌‌और इलाहाबाद हाईकोर्ट से एक और बी चंद्रकला को झटका और लोकल सूत्रों की माने तो कई न्यूज चैनल इस बात का दावा कर चुके हैं कि उनकी संपति के अंदर आईएएस बनने के बाद तेजी से बढ़ोतरी हुई है।‌‌‌जिससे कुछ हद तक यह संकेत मिलते हैं कि बी चंद्रकला उतनी दूध की धुली नहीं है। जितनी की उसको लोग समझ रहे हैं।

‌‌‌कुछ न्यूज के अनुसार बी चंद्रकला ने मसहूर होने के लिए एक ऐजेंसी को भी हायर किया था। इसी एजेंसी के द्वारा बी चंद्रकला के उन विडियो को शोसल मिडिया पर डाले जाते थे जिनकी मदद से वह आसानी से पोपुलर हो सके । बस इसी वजह से बी चंद्रकला के 85 लाख फेसबुक फोलोवर तक पहुंच गए थे । ‌‌‌कुल मिलाकर हम यह तो नहीं कह सकते कि बी चंद्रकला एक भ्रष्ट है। लेकिन यह भी नहीं कह सकते की बी चंद्रकला एक ईमानदार ऑफिसर है। हां समय ही यह तय करेगा कि बी चंद्रकला की छवी कैसी रहने वाली है।

आईएएस चंद्रकला हिस्ट्री लेख आपको कैसा लगा कमेंट करके बताएं।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *