हेडफोन यूज करने के फायदे और ईयरफोन के 8 नुकसान

ईयरफोन या हेडफोन का हम सभी यूज करते हैं। वैसे देखा जाए तो ईयरफोन से संगीत सुनना काफी मजेदार होता है। जब आप ईयर फोन को अपने कानों के अंदर डालकर संगीत सुनते हैं तो संगीत सुनने का मजा ही कुछ अलग होता है । ‌‌‌क्योंकि इसमे आप डीजे की तरह किसी भी सोंग का अच्छी तरीके से मजा ले सकते हैं।जब आप सफर पर होते हैं तो आप अपने कानों के अंदर ईयरफोन लगाकर गाने सुन सकते हैं ताकि आपको बोरियत महसूस नहीं हो ।

‌‌‌ईयरफोन का यूज करने का मकसद यही है कि सॉंग को मजे लेकर सुनना। यदि हम बिना ईयरफोन के सॉंग को सुनते हैं तो हम उतने मजे नहीं ले पाते हैं। क्योंकि उसमे हम वो ढोलक और झनकार को अच्छी तरीके से महसूस नहीं कर पाते हैं। ‌‌‌और जब ईयरफोन या हेडफोन का प्रयोग करते हैं तो निश्चिय ही हम उस सॉंग को अच्छे से महसूस कर पाते हैं। यह ठीक आपके VR डिवाइस के जैसा ही होता है। ‌‌‌रही बात ईयरफोन के नुकसान की तो हर चीज के अपने फायदे और नुकसान हैं। यदि आप किसी भी चीज का प्रयोग सीमित मात्रा के अंदर करते हैं तब तक तो सही रहता है। लेकिन यदि आप उसी चीज को ज्यादा यूज करते हैं तो वह आपको नुकसान पहुंचा सकती है। ‌‌‌तो आइए जानते हैं इयरफोन के नुकसान के बारे मे

‌‌‌1.ईयरफोन के नुकसान सुनना बंद हो जाना

.ईयरफोन के नुकसान

आमतौर पर हम जो ईयरफोन का यूज करते हैं। उनके अंदर उच्च डेसिबल वाले साउंड वेव्स होते हैं। आमतौर पर जब आप लंबे समय तक 90 डेसिबल से अधिक की घ्वनी सुनते हैं तो आपके कान स्थाई रूप से डेमेज हो सकते हैं। ‌‌‌अधिक शौर से आपके कान कापर्दा फट सकता है। और आपको सुनना बंद हो सकता है। इसलिए बेहतर होगा । आप लगातार उच्च साउंड नहीं सुने । और सबसे बेहतर तो यही होगा कि आप ज्यादा उंची आवाज के अंदर गाने ना सुने । ‌‌‌आजकल शादी विवाह के अंदर जो डीजे साउंड का प्रयोग किया जाता है। उससे भी आपके कान डेमेज हो सकते हैं। क्योंकि यह बहुत अधिक शौर करता है। तो डीजे के आस पास इयर प्लग लगाकर जाएं। ‌‌‌एक रिसर्च ने तो यहां तक दावा किया है कि यदि कोई व्यक्ति प्रतिदिन  80 डेसीबेल्स से अधिक ध्वनी को प्रतिदिन एक घंटे से अधिक  सुनता है। तो वह आने वाले पांच सालों के अंदर बहरा हो सकता है।

‌‌‌लगातार ईयरफोन का प्रयोग करने से सुनने की क्षमता धीरे धीरे कम होने लगती है। पहली दफा के अंदर तो आपको इसका पता नहीं चलता है। लेकिन जैसे जैसे समय बितता है। दूर की आवाज सुनाई देना बंद हो जाता है। और बाद मे यह स्थाई बहरापन आ सकता है।

‌‌‌2.ईयरफोन के नुकसान ईयर इन्फेक्सन

आमतौर पर घरों के अंदर हम लोग एक ही ईयरफोन का यूज करते हैं। उसी ईयरफोन को सभी लोग यूज करते हैं। ऐसी स्थिति के अंदर इन्फेक्सन हो सकता है। सो यदि आप के घर के सदस्य एक ही ईयरफोन का यूज करते हैं। तो इसका यूज करने से पहले ‌‌‌ इसे अच्छी तरीके से साफ कर लेना चाहिए। ताकि इन्फेक्सन का खतरा कम हो जाए।‌‌‌जब आप अपना ईयरफोन या हेडफोन दूसरों के साथ सांझा करते हैं तो उनके  बैक्टीरिया आपके कान के अंदर आ सकते हैं। भले ही उनको वे किसी तरह का नुकसान नहीं पहुंचा रहे हों । लेकिन हर इंसान की बोडी अलग अलग होती है।

‌‌‌3.कान मे दर्द

अक्सर यदि आप लो क्वालिटी का ईयरफोन का इस्तेमाल करते हैं तो इससे आपके कान के अंदर दर्द हो सकता है। हालांकि यदि आप कोई अच्छी क्वालिटी का ईयरफोन का इस्तेमाल करते हैं तो आप कान के दर्द से बच सकते हैं। हालांकि एक लो क्वालिटी के ईयरफोन का नुकसान यह है कि आप उसे ज्यादा देर ‌‌‌तक इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं।

‌‌‌4.एक्सीडेंट का खतरा

ईयरफोन का नुकसान यह भी है कि कुछ लोग ईयरफोन लगाकर बाइक चलाते हैं या फिर गाड़ी चलाते हैं। जिसका परिणाम यह रहता है कि एक्सीडेंट हो जाता है। पीछले दिनों एक खबर न्यूज के अंदर छपी थी। कि एक लड़का ईयरफोन लगाए बाइक को रेल्वे लाइन से क्रोस कर रहा था। ‌‌‌ईयरफोन की वजह से उसे यह नहीं सुनाई दे रहा था कि ट्रेन आ रही है। और ट्रेन ने उसको टक्कर मार दी। मौके पर ही उसकी मौत हो गई। इसी तरह की अनेक दूर्घटनाएं ईयरफोन की वजह से होती हैं। यदि आप कहीं पर भी कार बस या बाइक ड्राइव कर रहे हैं तो ईयरफोन का यूज ना करें ।‌‌‌सन 2014 की बात करें तो 379  लोग रेल्वे ट्रेक को क्रोस करते हुए मारे गए । सन 2017 के अंदर चैन्नई के अंदर 600 लोगों की मौत हो गई। उनमे से सभी लोग या तो ईयरफोन का यूज कर रहे थे । या फिर फोन से बातें कर रहे थे ।

‌‌‌5.दिमाग को क्षति

ईयरफोन को युज करने से हमारे दिमाग को क्षति होती है। वैज्ञानिकों के अनुसार  विद्युत चुंबकीय तरंगे ईयरफोन से निकलती हैं। यह तरंगे हमारे दिमाग के अंदर मौजूद सैल्स को काफी ज्यादा क्षति पहुंचाते हैं। जिससे अनेक समस्याएं पैदा हो सकती हैं। जैसे सिरदर्द ,नींद ना आना ,कान दर्द ‌‌‌आदि हो सकते हैं।

‌‌‌6.कान का सुन्न होना

यदि आप लगातार तेज आवाज के अंदर संगीत सुनते हैं या फिर ईयरफोन का यूज करते हैं तो इससे आपके कान सुन्न भी पड़ सकते हैं। कान का सुन्न तेज आवाज पर निर्भर करता है। जो लोग अधिक शौरगुल के अंदर काम करते हैं। उनके कान भी सुन्न हो सकते हैं। ‌‌‌जब कान सुन्न हो जाते हैं तो अजीब सी चीजे सुनने लगती हैं। मतलब कान के अंदर झनझन सुनाई देना आदि। इसका सीधा सा ईलाज तो यही है कि आप तेज आवाज के अंदर संगीत ना सुने ।और अधिक शौरगुल वातावरण से दूर रहें। या ईयरप्लग का प्रयोग करें ।

‌‌‌7.रबर कवर मे बैक्टीरिया

आमतौर पर हम लोग हेडफोन का प्रयोग करते हैं।उसको तब तक प्रयोग करते रहते हैं। जब तक कि वह खराब नहीं हो जाए । लेकिन इसमे सबसे बड़ी समस्या तो यह है कि हेडफोन के अंदर एक रबरकवर लगा होता है। यदि आप उसे लंबे समय तक नहीं बदलते हैं तो फिर उसके अंदर ‌‌‌कई प्रकार के कीटाणु पनप सकते हैं। इसलिए आपको जहां तक हो सके हेडफोन के रबर कवर को 2 महिने बाद बदल लेना चाहिए।

8.ईयरड्रम्स को नुकसान

कुछ स्पेसल प्रकार के ईयरफोन आते हैं जोकि आपके कान के अंदर तक जाते हैं। मतलब यह ईयर ड्रम्स के पास चले जाते हैं। भले ही आपको इनसे संगीत सुनना अच्छा लगता हो लेकिन सही मायने मे यह आपके सुनने की क्षमता को खत्म कर सकते हैं। ईयरड्रम्स हमारे कान के अंदर एक स्पेसल प्रकार की संरचना होती है जोकि साउंड वेब से वाइब्रेट होती है। जिससे हमारा दिमाग साउंड को प्रोसेस करता है।

‌‌‌कितनी डेसीबल ध्वनी से कानों पर असर ?

‌‌‌हेडफोन के नुकसान

हमारे कान एक निश्चित डेसीबल की ध्वनी सुन सकते हैं। यदि उससे ज्यादा है तो यह हमारे कानों को डेमेज कर सकती है। और यदि कम डेसीबन की है तो हमे सुनाई नहीं देगी ।

  • 95 डीबी पर, ध्वनी यदि आप प्रतिदिन 4 घंटे सुनते हैं तो यह नुकसान करती है।
  • 100 डीबी पर , यदि आप प्रतिदिन 2 घंटे सुनते हैं जोखिम रहता है।
  • 110 डीबी पर, प्रतिदिन 30 मिनट सुनते हैं तो जोखिम रहता है।
  • 120-प्लस डीबी पर, क्षति लगभग तुरंत होती है।
  • कानाफूसी आमतौर पर 30dB पर मापा जाता है
  • 75dB पर व्यस्त यातायात की ध्वनी
  • 90dB पर एक मेट्रो ट्रेन की आवाज
  • 100 डीबी पर एक बंदूक की गोली,
  • 140 डीबी पर एक जेट विमान
  • 180 डीबी पर एक रॉकेट लॉन्चिंग पैड।
  • 140 डीबी से ऊपर की आवाज आमतौर पर दर्द पैदा करती है।

‌‌‌हेडफोन के फायदे‌‌‌ और इयरफोन यूज करने के फायदे

‌‌‌ऐसा नहीं है कि हेडफोन यूज करने के नुकसान ही होते हैं। हेडफोन के फायदे भी कई सारे हैं। इसके फायदों को देखकर ही तो हेडफोन बनाया गया है। जैसे साउंड की क्वालिटी आदि । तो आइए जानते हैं। हेडफोन के फायदों के बारे मे भी ।

Productivity

यदि आप एक हेडफोन का यूज करते हैं तो आपको इसे कानों पर लगाना होता है। और उसके बाद आपके हाथ पूरी तरीके से स्वतंत्र हो जाते हैं। आप गाने सुनते हुए भी काम कर सकते हैं। जिससे प्रोडेक्सन बढ़ जाता है। अक्सर लोग दुकान वैगरह और खेत मे काम करते हुए हेडफोन का प्रयोग करते हैं। जो इसके सबसे‌‌‌शानदार फायदों मे से एक ही तो है।

‌‌‌हेडफोन के फायदे‌‌‌ Sound Quality

‌‌‌हेडफोन के फायदे‌‌‌

‌‌‌हेडफोन का फायदा यह भी है। कि आप एक अच्छी साउंड क्वालिटी प्राप्त कर सकते हैं।जब आप हेडफोन की मदद से सॉंग वैगरह सुनते हैं तो आपको सब चीजें एकदम से क्लियर सुनाई देती हैं। यदि आप इसी तरह की साउंडक्वालिटी को वैसे पाना चाहें तो आपको इस पर काफी पैसा खर्च करना पड़ सकता है।‌‌‌इसके अलावा जब आप हेडफोन का प्रयोग बातचीत के अंदर करते हैं तो भी यह आपके लिए काफी बेहतर तरीके से काम करता है। आप आवाज को एकदम से किलियर सुन सकते हैं। जो इसके बड़े फायदों मे से एक है। कई हेडफोन ऐसे भी आते हैं जो अनवान्टेड आवाज को खत्म करते हैं।

स्वास्थ्य

रिसर्च के अंदर यह बात सामने आई है कि हेडफोन आपके स्वास्थ्य के लिए भी अच्छा है। प्लांट्रोनिक्स के द्वारा किये गए सर्वेक्षण के अंदर यह बात सामने आई है कि यह काफी आरामदायक है।1990 के अंदर किये गए एक रिसर्च के अनुसार  औसतन हेडसेट उपयोगकर्ताओं को अपनी गर्दन, कंधों और ऊपरी पीठ में नियमित फोन उपयोगकर्ताओं की तुलना में 35 प्रतिशत कम मांसपेशियों में तनाव होता है।

सांता क्लारा वैली मेडिकल सेंटर के अध्ययन से पता चला है कि हेडफोन का यूज करने से तनाव कम हो सकता है। गर्दन, कंधे और ऊपरी पीठ पर तनाव को 40 प्रतिशत तक कम कर सकता है।

सुरक्षा

यदि आप बिना तार का हेडफोन का प्रयोग करते हैं तो इसका सबसे बड़ा फायदा यह है कि यह आपकी सुरक्षा को बढ़ाता है। आपको ज्यादा कम्फोरटेबल फील होता है।यदि आप एक तार युक्त हेडफोन का यूज करते हैं तो इसमे कई तरह की परेशानी हो सकती हैं।

‌‌‌ हेडफोन के फायदे नो डिस्टर्ब

हेडफोन और इयरफोन का काफी ज्यादा बड़ा फायदा तो नो डिस्टर्ब है। पहले जब टेपया रेडियो चला करते थे तो ईयरफोन वैगरह नहीं था तो लोग काफी तेज आवाज के अंदर यह सब बजाते थे । लेकिन समय के साथ इन चीजों के आजाने से डिस्टर्ब होने की समस्याए से बहुत हद तक छूटकारा मिल गया है।‌‌‌अब एक ही जगह पर कुछ लोग गाने सुन सकते हैं तो कुछ लोग वहीं पर पढ़ सकते हैं। मतलब हेडफोन का इस्तेमाल यदि आप खुद कर रहे हैं तो दूसरे उससे प्रभावित नहीं होंगे क्योंकि गाने सिर्फ आपको सुनाई देंगे ।

‌‌‌ हेडफोन के फायदे  कम कीमत

हेडफोन का फायदा यह भी है कि यह सस्ता आता है। मतलब यदि आप हेडफोन के जैसी साउंड क्वालिटी बाहर सुनना चाहेंगे तो आपको लाख रूपये खर्च करने पड़ सकते हैं। लेकिन आप उसी साउंडक्वालिटी को हेडफोन की मदद से सिर्फ 600 रूपये के अंदर सुन सकते हैं। जो हेडफोन के काफी बड़े फायदों के अंदर गिना‌‌‌जाता है।

best enjoy in song

हेडफोन का यूज करने का फायदा यह भी है कि आप इसकी मदद से सोंग का अच्छज्ञ मजा ले सकते हैं। यदि आप बोरियत महसूस कर रहे हैं तो आप अपना हेडफोन उठाएं और कानों पर लगाकर कुछ अच्छे सॉंग सुन सकते हैं। जिससे आपकी बोरियत दूर हो जाएगी ।‌‌‌अधिकतर लोग जब ईयरफोन या हेडफोन से गाने सुनने के आदी हो जाते हैं तो उनको इनके बिना गाने सुनना अच्छा नहीं लगता है। वैसे देखा जाए तो आनन्द ही वह फैक्टर है जिसकी वजह से ईयरफोन या हेडफोन का सबसे ज्यादा यूज किया जाता है।

‌‌‌ हेडफोन के फायदे  more attention

हेडफोन का यूज करने का फायदा यह भी है कि हम किसी भी चीज पर अधिक ध्यान केंद्रित कर सकें । अक्सर जो लोग सॉंग वैगरह सुनते हैं या ऑनलाइन एग्जाम वैगरह की तैयारी करते हैं , सॉंग को बनाने वाले , यह सब इन चीजों पर अधिक ध्यान केंद्रित करने के लिए‌‌‌हेडफोन का प्रयोग करते हैं। यह बाहरी आवाज को कानों के अंदर आने से रोकता है। एक स्टूडेंट हेडफोन की मदद से अच्छी स्टड़ी कर सकता है क्योंकि यह उसके मन को भटकने से रोकता है और एक ही चीज पर ध्यान केंद्रित करने मे काफी मदद करता है।

ईयरफोन के नुकसान और हेडफोन के फायदे लेख आपको कैसा लगा कमेंट करके बताएं ।

सुबह जल्दी उठने से होते हैं यह 19 आश्चर्यजनक फायदे

चाँद पर दाग क्यों है ? चंद्रमा पर काले धब्बे क्यों होते हैं

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!