यह हैं दुनिया की उड़ने वाली कार 11 most flying car in world

‌‌‌उड़ने वाली कार अब सच मे होगी एक दिन आपके पास और वो भी कम कीमत पर मिलेगी।

उड़ने वाली कार आपने कई हॉलिवुड फिल्मों के अंदर देखी होगी किंतु । जिनके अंदर यह दिखाया जाता है कि बहुत सी कारें आसमान मे उड रही होती हैं और लोग इनकारों के अंदर बैठ के मजे उठा रहे होते हैं। अब यह महज केवल फिल्मों की ही कल्पना नहीं रही है। अब उड़ने वाली कारें भी आ चुकी हैं।‌‌‌अब वह दिन भी दूर नहीं होगा ।जब आपको कार सड़क की बजाए हवा के अंदर उड़ती दिखाई देंगी । हम आपको कुछ ऐसी ही उड़ने वाली कारों के बारे मे बता रहे हैं जोकि काफी मजेदार हैं।

Curtiss AutoPlane

उड़ने वाली कार

1 9 17 में, ग्लेन कर्टिस नामक एक विमानन इंजीनियर ने अपने स्वयं के एक विमान को तोड़कर इस कार को बनाया था। इसके चार पहिऐ थे जोकि एक सामान्य कार के होते हैं। और हेल्किॉपटर की तरह उपर इस कार के पंख लगे थे । यह हवा और जमीन दोनों पर ही काम करती थी।‌‌‌लेकिन यह कार प्रभावशाली तरीके से काम नहीं करने की वजह से इस प्रोजेक्ट को हमेशा हमेशा के लिए बंद कर दिया गया था ।

Jess Dixon’s Flying Auto

इस कार के बारे मे पूरी जानकारी ज्ञात नहीं है। लेकिन सुना है कि यह कार 1940 ई के आसपास बनाई गई थी। इस कार के उपर पंखे लगे हुए थे । इसको बनाने वाले डिक्सन इसका कई बार प्रयोग भी किया था। इस कार की गति 160 किलोमिटर प्रतिघंटा थी।

ConvAirCar

Convair मॉडल 116 फ्लाइंग कार 1 9 46 में पहली बार उड़ान भरी थी। इस कार के उपर लगे पंखों को आसानी से उतारा जा सकता था। जब कार को सड़क पर चलाना होता था। इस कार के अंदर दो ही ईंधन टैंक थे एक कार के लिए और दूसरा कार को हवा मे उड़ाने के लिए । यह बहुत हद तक एक विमान की तरह ही लगती थी।‌‌‌लेकिन एक दुर्घटना होने के बाद इस कार का प्रयोग हमेशा हमेशा के लिए बंद कर दिया गया था।

Curtiss-Wright VZ-7

आदर्श रूप में, वीजेड -7 एक प्रकार का फ़्लाइंग जीप था। एक जीप की तरह, इसने पायलट को जमीन पर किसी न किसी इलाके के माध्यम से पैंतरेबाज़ी करने की अनुमति दी, इस कार का प्रयोग अमरीका सेना ने दो साल तक किया था लेकिन 1960 के बाद इस कार का प्रयोग बंद कर दिया गया था।‌‌‌इस कारको राइट कंपनी (राइट ब्रदर्स) और कर्टिस एयरप्लेन (ग्लेन कर्टिस) के माध्यम से बनाया गया था।

Piasecki AirGeep

यह कार भी काफी दिलचस्प थी। इस कार का प्रयोग सबसे पहले सैना द्वारा किया गया । लेकिन बाद मे सेना ने इसका प्रयोग बंद कर दिया। इसके कई मॉडल भी बने थे ।लेकिन कोई भी ज्यादा सक्सेस नहीं हो सका । और इस कार का प्रयोग समुद्र के अंदर करने की कोशिश भी की गई । लेकिन असफल रहा।

AVE Mizar

उड़ने वाली कार

1 9 71 में, कैलिफ़ोर्निया में उन्नत वाहन अभियंता कंपनी ने एक फ्लाइंग कार को डिजाइन करने का फैसला किया यह कार नीचे से देखने पर एक बुलैरो जीप की तरह लगती थी। और उपर से इसके हवाइ जहाज के जैसे पंख भी मौजुद थे । इसकार को बड़े पैमाने पर उत्पादन करने की कोशिश भी हुई । लेकिन दुर्घटनाओं की वजह ‌‌‌यह आइडिया काम ना आ सका।

Super Sky Cycle

सुपर स्काई साइकिल का निर्माण 2009 में किया गया था और अब (2012 तक) पूरी तरह से ड्राइव करने के लिए कानूनी, बशर्ते आप एक मोटरसाइकिल लाइसेंस और एक पायलट का लाइसेंस आवश्यक है। आप इस कार को खरीद सकते हैं लगभग 40000$ के अंदर । और आप इसे आसानी से अपने गैरेज के अंदर भी रख सकते हैं।

Terrafugia Transition

200 9 में, टेराफ्यूगिया संक्रमण की पहली सफल परीक्षण उड़ान थी सन 2012 के अंदर इस कार की डिजाईन वैगरह के अंदर और सुधार किये गए। यह सड़क पर 110 किमी प्रति घंटा और हवा मे 185 किमी प्रति घंटा चल सकती है। लेकिन इस कार का वजह बहुत भारी है। और इसकी कीमत भी काफी अधिक है। जिसकी ‌‌‌वजह से यह एक आम इंसान की खरीद से बाहर है।

PAL-V One

इसके तीन टायर होते हैं। और जिनकी मदद से यह जमीन पर आसानी से चल सकती है। यह 1200 मिटर की उंचाई पर आसानी से उड सकती है। यह सामान्य उड़ने वाली कारों की तुलना मे काफी अच्छी है।

AirMule

यह कार इजराइल की एक कम्पनी ने बनाई है। यह खास कर दुर्घटनाओं के समय राहत कार्यों मे काफी मदद कर सकती है। यह ऐसे स्थानों पर भी जा सकती है। जहां पर हेल्किॉपटर नहीं जा सकते । यह एक तरह से हवाई एम्बुलेंस का काम करती है। और शीघ्र सहायता पहुंचाने के लिए मददगार हो सकती है।

ऐरोमोबिल

स्लोवाकियाई कंपनी ऐरोमोबिल ने एक ऐसी कार को 2017 के अंदर बनाया था जोकी उड़ सकती है। यह सड़क पर 160 किलोमिटर चल सकती है। जबकि आसमान के अंदर यह 200 किलोमिटर प्रतिघंटा की स्पीड से चल सकती है। कम्पनी ने इसका एक विडियो भी जारी किया है।

  1. इंजन- रोटैक्स 912
  2. चौड़ाई 8320 मिमी, लंबाई 6000 मिमी
  3. ईंधन की खपत: 15 लीटर प्रति घंटा
  4. रेंज- 700 किलोमीटर
  5. कम से कम स्पीड 60 किमी प्रति घंटा
  6. टेक ऑफ स्पीड 130 किमी प्रति घंटा
  7. फाइबर स्टील की बॉडी पर कार्बन काेटिंग

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!