मनुष्य के दिमाग का वजन कितना होता है ? Who has the biggest brain

‌‌‌‌‌‌इस लेख के अंदर हम बात करने वाले हैं कि मनुष्य के दिमाग का वजन कितना होता है ? मनुष्य का दिमाग सबसे रहस्यमय चीजों मे से एक है। अभी तक इसके रहस्य की गुत्थी को पूरी तरीके से सुलझाया नहीं जा सका है। हालांकि अभी भी वैज्ञानिक इस पर रिसर्च कर रहे हैं।और ऐसी उम्मीद जताई जा रही है कि आने वाले समय के अंदर वैज्ञानिक दिमाग के रहस्यों को पूरी तरीके से सुलझा लेंगे ।‌‌‌आमतौर पर साईज की बात करें तो छोटे शरीर वाले स्तनधारियों का दिमाग बड़ा होता है। और बड़े शरीर वाले स्तनधारियों का दिमाग छोटा होता है। मनुष्य के दिमाग की स्टोरेज कैपेसिटी 2.5 million gigabytes तक होती है। तो आइए जानते हैं मनुष्य के दिमाग का वजन कितना होता है ?

मनुष्य के दिमाग का वजन कितना होता है ?

‌‌‌वैसे तो मनुष्य के दिमाग का वजन शिशु अवस्था और अडल्ट अवस्था के अंदर अलग अलग होता है। ‌‌‌आइए जानते हैं दिमाग के वजन और उससे जुड़े कुछ मजेदार तथ्यों के बारे मे । ‌‌‌मानव मस्तिष्क  का वजन जानने के लिए 8000 से अधिक शवों का परिक्षण किया गया । जिससे पता चला कि  वयस्क पुरुष का औसत मस्तिष्क का वजन 1336 ग्राम था; जबकि एक महिला के मस्तिष्क का वजन 1198 ग्राम  था। बढ़ती उम्र के साथ, पुरुषों में मस्तिष्क का वजन 2.7 ग्राम और महिलाओं में प्रति वर्ष 2.2 ग्राम कम हो जाता है।

  • हाथी के दिमाग का वजन लगभग 6,000 ग्राम होता है।
  • बिल्ली के मस्तिष्क का वजन लगभग 30 ग्राम होता है
  • औसत मानव मस्तिष्क 140 मिमी चौड़ा है।
  • औसत मानव मस्तिष्क 167 मिमी लंबा होता है।
  • औसत मानव मस्तिष्क 93 मिमी ऊंचा होता है।
  • मानव मस्तिष्क में लगभग 86 बिलियन न्यूरॉन्स होते हैं।
  • सेरेब्रल कॉर्टेक्स की कुल सतह का क्षेत्रफल लगभग 2500 वर्ग सेमी है।
  • 1965 में रैंडी गार्डनर ने 11 दिन बिना नींद के बिताये थे । जबकि श्रीमती मॉरीन वेस्टन ने 18 दिन और 17 घंटे बिना नींद के  बिताये थे ।
  • एक नवजात शिशु के मस्तिष्क का वजन लगभग 350 से 400 ग्राम या तीन-चौथाई पाउंड होता है।

‌‌‌दुनिया का सबसे वजन वाला दिमाग किसका है ?

वैसे तो दिमाग के वजन के अंदर बदलाव होते रहते हैं मनुष्य की उम्र मे बढ़ोतरी के साथ दिमाग का वजन कम हो जाता है। लेकिन एक जानकारी के अनुसार सबसे अधिक वजन वाला दिमाग 2.3 kg का था। जो 1992 के अंदर रिकोर्ड किया गया था। जबकि एवरेज मनुष्य के दिमाग का ‌‌‌वजन केवल 1.4kg  होता है।

                       [ मनुष्य के दिमाग का वजन कितना होता है ?]

‌‌‌दुनिया का सबसे कम मस्तिष्क वजन वाला जीव कौन सा है ?

सबसे छोटा प्राइमेट ब्रेन मेडागास्कर के माउस लेमुर (माइक्रोसेबस मुरिनस) का है। 0.004 पाउंड (2 ग्राम) (यह दुनिया का सबसे छोटा प्राइमेट भी है।mouse lemur   बिल्कुल चूहे जैसा ही होता है। और वैसे यह एक चूहा ही है। इसकी अब तक 24 प्रजातियों को ‌‌‌खोजा जा चुका है।

Who has the biggest brain in the world?

आपको बतादें कि मनुष्य के दिमाग का वजन अन्य जीवों के दिमाग के वजन की तुलना मे कुछ नहीं है। कई जीव ऐसे भी धरती पर मौजूद हैं जिनकी दिमाग का वजन और साइज सब कुछ मनुष्य से कई गुना अधिक

हैं। ‌‌‌ऐसा माना जाता है कि जिस जीव का दिमाग बड़ा होता है वह ज्यादा बुद्विमान होता है। लेकिन यह बात सच नहीं है।sperm whale पानी मे रहने वाला एक ऐसा जीव है जिसका दिमाग  काफी बड़ा है। लेकिन चतुराई के मामले मे वह कुछ खास नहीं है। ‌‌‌sperm whale  के दिमाग का वजन 18 पाउंड होता है। जो मानव के मस्तिष्क से लगभग 5 गुना बड़ा है।उनके बड़े मस्तिष्क के आकार के बावजूद, शुक्राणु व्हेल में डॉल्फिन और व्हेल प्रजातियों की तुलना में कम एन्सेफलाइज़ेशन  होता है। जोकि इनको कम बुद्विमान बनाता है।

पृथ्वी पर दूसरा सबसे बड़ा मस्तिष्क वाला जानवर भी एक समुद्री जीव है। हत्यारा व्हेल, जिसे आमतौर पर ओर्का के रूप में जाना जाता है, वास्तव में, अपने परिवार में, समुद्री डॉल्फिन परिवार, ओर्का उन सभी में सबसे अधिक विशाल है। उनके दिमाग का वजन 12 से 15 पाउंड के बीच है। उनकी बुद्धि अधिकांश प्राणियों की तुलना में अधिक है।

‌‌‌यदि बात करें हाथी की तो उसके दिमाग का वजन 11 पाउंड होता है। जो मनुष्य के दिमाग के वजन से कहीं अधिक है।जब वे पैदा होते हैं, तो हाथी के दिमाग में पहले से ही लगभग 30-40% वजन होता है, जब हाथी वयस्कता में पहुंचता है। सेरेबेलम और सेरेब्रम अच्छी तरह से विकसित होने के साथ टेम्पोरल लोब बहुत बड़े ‌‌‌होजाते हैं।डॉल्फ़िन  का दिमाग का वजन भी 4 पाउंड के आस पास होता है।

‌‌‌मनुष्य के मस्तिष्क के वजन और आकार को नियंत्रित करते हैं जीन

शिकागो विश्वविद्यालय में हावर्ड ह्यूजेस मेडिकल सेंटर के ब्रूस लाहन ने बताया की मनुष्य के दिमाग के आकार को नियंत्रित करने वाले 214 जीन हैं। वैज्ञानिकों ने दिखाया की मनुष्य के दिमाग को विकसित करने के लिए इन जीन ने अन्य ‌‌‌जीवों की तुलना मे काफी तेजी से काम किया था। मानव मस्तिष्क का आकार भी समय के साथ बहुत अधिक बदला है। यदि 2 मिलियन साल पहले की बात करें तो  मनुष्य के दिमाग का आकार बढ़ रहा है। होमो हैबिलिस  के समय दिमाग का आकार 600 cm3  था।Homo habilis  प्रजाति जोकि 1.5 मिलियन साल पहले धरती पर रहती थी के दिमाग का आकार 1600 cm3 था। जबकि होमो सिपियंस की बात करे ‌‌‌तो इनके दिमाग का आकार  1,200 to 1,450 cm3 ‌‌‌है।

‌‌‌              [मनुष्य के दिमाग का वजन कितना होता है ?]

बच्चे का दिमाग पूरी तरह से कब विकसित हो जाता है।

आपको यह जानकर हैरानी होगी की जन्म के समय बच्चे का दिमाग काफी कम विकसित हो होता है। लेकिन जब बच्चा पांच साल का हो जाता है तो उसका दिमाग 90 प्रतिशत विकसित हो जाता है।ऐसा रिसर्च के अंदर सिद्व भी किया जा चुका है।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *