भूत प्रेत सच्ची घटनाएं रहस्य और रोमांच से भरपूर सत्य कथा

‌‌‌दोस्तों भूत प्रेत के बारे मे तो आप सभी जानते ही होंगे ।और बहुत से ऐसे लोग भी होंगे जो भूत प्रेत के अंदर विश्वास नहीं करते हैं। उनके लिए हम इतना ही कहना चाहेंगे कि जब सामना होगा तो आपको अपने आप ही विश्वास करना पड़ेगा ।भूत प्रेत सच्ची घटनाएं लेख के अंदर हम आपको दुनिया भर के अंदर होने वाली कुछ ‌‌‌भूत प्रेत की सच्ची घटनाओं के बारे मे बताने वाले हैं। यह घटनाएं विभिन्न अंग्रेजी की किताबों से ली गई हैं। आप चाहें तो इन घटनाओं को अंग्रेजी की किताबों के अंदर पढ़ भी सकते हैं। ‌‌‌यहां पर हम कई सारी भूत प्रेत की सच्ची घटनाओं का उल्लेख कर रहे हैं।

‌‌‌भूतों की सेना

यह घटना the book of great mysteries नामक अंग्रेजी किताब के अंदर उल्लेखित है। इस घटना के अनुसार इग्लैंड के लेक जिले के साउटर फैल के अंदर सन 1745 ई के अंदर एक भुताहा सेना को देखा गया था। ‌‌‌इस गांव के उपर की तरफ कुछ पहाड़ियां पड़ती हैं। उन पहाड़ियों पर जब यहां के लोगों ने रथ और सेना के चलने की आवाज को सुना तो लोगों को लगा कि हो सकता है। सेना जा रही हो । और कोई युद्व हो रहा हो । पहले दिन तो लोगों ने गौर नहीं किया लेकिन यह सेना रात तक चलती रही । ‌‌‌और जब सुबह हुई तो कुछ लोग पहाड़ी पर चढ़े और जब लोगों ने देखा की वहां पर किसी भी तरह की कोई सेना के निसान तक नहीं थे । लोगों ने इस सेना को खेाजने की बहुत कोशिश की लेकिन असल मे यह सेना नहीं वरन कोई भुत सेना थी। जो बाद मे गायब हो गई थी। ‌‌‌यह भी भूत प्रेत सच्ची घटनाएं मे से एक है।

‌‌‌बिना सर का एक साइकिल सवार

वैसे तो यह घटना इैग्लेंड की है जो सन 1940 के अंदर घटित हुई थी। लेकिन बेहतर समझने के लिए हम लोगों के मूल नाम बदल रहे हैं। और नाम बदलने की एक और वजह है कि कोई कॉपीराइट का एक्सन हम पर नहीं लिया जा सके । ‌‌‌रामू दादा सन 1940 के अंदर कार मे एक सराय की तरफ जा रहा था। तो उसने देखा कि रात के अंदर एक साइकिल सवार  साइकिल चला रहा है। और उसे कुछ भी समझ मे नहीं आ रहा था कि यह सब क्या हो रहा है। ? उसके बाद अचानक से रामू ने देखा कि एक दूसरी कार उस साइकिल सवार को कुचलते हुए चली गई है। ‌‌‌वह जल्दी से कार से उतरा और वहां देखने लगा । लेकिन उसे वहां पर न तो वह साइकिल सवार नजर आया और ना ही वहां पर कोई एक्सीडेंट हुआ नजर आया। दूसरे दिन जब रामू ने यह चर्चा वहां पर अपने जानकार लोगों से की तो पता चला कि आज से 25 साल पहले । वहीं पर एक 20 साल का लड़का एक्सीडेंट के अंदर मारा गया था । ‌‌‌जिसका सर कटकर अलग हो गया था। ‌‌‌तब रामू को यह समझ मे आ गया कि वास्तव मे उस लड़के की आत्मा अभी भी भटक रही है। और उसे मुक्ति नहीं मिल सकी है। ‌‌‌यह भी भूत प्रेत सच्ची घटनाएं मे से एक है।

‌‌‌ भूत प्रेत सच्ची घटनाएं भूतों का जहाज

यह बात है द्वितिय विश्व युद्व की इैग्लेंड के अंदर एक गार्ड को समुद्र के पास बंदरगाह पर तैनात किया गया था ताकि यदि कोई जहाज दुर्घटना ग्रस्त होते देखे तो बचाव दल को सूचना देना । उसके बाद रात के अंदर गार्ड ने एक भाप से चलने वाले जहाज को दुर्घटनाग्रस्त होते देखा तो उसने तुरन्त ‌‌‌ही बचाव दल को संपर्क कर बुलालिया । बचाव दल आया और उस जगह जाकर चैक किया जहां पर जहाज दुर्घटनाग्रस्त होते दिखा था। उसके बाद बचाव दल ने उस जहाज को तलासने की बहुत कोशिश की किंतु वह जहाज नहीं मिल सका । ‌‌‌बचाव दल तो वापस लौट गया ।

 लेकिन गार्ड को कुछ भी समझ मे नहीं आ रहा था कि उसने जो जहाज देखा था वह आखिर गया कहां । उसके बाद उसने इधर उधर से जानकारी एकत्रित की तो उसे पता चला की उसने एक भुताहा जहाज देखा था। दरअसल उसने जो जहाज देखा था। वह कई साल पहले समुद्र के अंदर डूब गया था। ‌‌‌मतलब वह भूतकाल की घटना की पुनरावर्ति हो रही थी। ‌‌‌यह भी भूत प्रेत सच्ची घटनाएं मे से एक है।

‌‌‌भूत का एक्सीडेंट

सन 1974 ई कि बात है मोरिस नामक एक व्यक्ति रात को अपनी कार के अंदर कहीं पर जा रहा था। तो अचानक से उसे अपनी कार के आगे एक लड़की दिखी । कार की स्पीड काफी तेज थी और वह जब तक ब्रेक लगा पाता तब तक कार लड़की से टक्करा चुकी थी। मोरिस बुरी  तरह से घबरा गया और कार को रोककर उतरा । ‌‌‌उसके बाद उसने देखा कि लड़की के सर पर काफी ज्यादा चोटे आई थी। वह उसे सड़क के किनारे लिटाया और उसके उपर एक कंबल डाल दिया । उसके बाद उसने पुलिस को सूचना दी । कुछ ही समय मे पुलिस भी आ गई। लेकिन पुलिस ने देखा कि सड़क के किनारे केवल कंबल पड़ा है। वहां कोई लड़की नहीं है । ‌‌‌मोरिस को कुछ भी समझ मे नहीं आ रहा था। वह सोच रहा था कि लड़की गायब कैसे हो सकती है। वह खुद तो इस हालत के अंदर नहीं थी कि चलकर कहीं जा सके । उसे अपने प्रश्नों का उत्तर नहीं मिल पा रहा था। उस रात तो वह चला गया। लेकिन उसके बाद दूसरे दिन वह उसी  जगह पर आया और इस बारे मे पूछा तो उसे पता चला कि ‌‌‌ऐसा केवल उसी के साथ ही नहीं हुआ है।

वरन कई लोगों के साथ ऐसा हो चुका है। वह जिसे लड़की समझ रहा था वह कोई लड़की नहीं वरन लड़की की आत्मा है। ‌‌‌उसे यह जानकारी मिली की सन 1967 ई के अंदर यहां पर दो लड़कियों की एक्सीडेंट के अंदर मौत हो गई थी। और अब उनमे से एक लड़की भूत बनकर भटक रही है। कभी कभी वह लिफट की मांग भी करती है। और कई कार मालिक उसे अपनी कार के अंदर बैठाकर लाते हैं। लेकिन बाद मे वह गायब हो जाती है । ‌‌‌यह भी भूत प्रेत सच्ची घटनाएं मे से एक है।

St James’s Park का भूत

By Donald Brydon, CC BY-SA 2.0, Link

St James’s Park लंदन के अंदर अभी भी है। ऐसा माना जाता है कि यहां पर एक सर कटी औरत का भूत रहता है। सन 1975 ई के अंदर जब एक रिक्सा ड्राईवर अपना रिक्सा लेकर रात को इस पार्क के आगे से गुजर रहा था। तो उसने एक सर कटी औरत को रस्ता पार करते हुए देखा। ‌‌‌वह बुरी तरह से डर गया । उसे कुछ भी समझ मे नहीं आ रहा था। तो दूसरे दिन उसने इस घटना को दूसरे लोंगों को बताया तो पता चला कि केवल वह ही नहीं है। जिसने इस औरत के भूत को देखा था । वरन उससे पहले बहुत से लोग उस औरत के भूत को देख चुके हैं। ‌‌‌उसे आगे यह पता चला कि यह भूत 18 वीं शताब्दी की एक औरत का है। जिसका सर उसके ही पति ने काट कर इस पार्क की एक झील के अंदर फेंक दिया था।

‌‌‌ भूत प्रेत सच्ची घटनाएं आत्मा ने रूकवाई रेलगाड़ी

दोस्तों दुनिया के अंदर दो प्रकार की आत्माएं होंती हैं। एक अच्छी आत्मा होती हैं। तो दूसरी बुरी आत्माएं होती हैं। यह बात है सन 10 दिसंबर 1956 को इस समय भारत पाक युद्व चल रहा था । और यह घटना घटी थी आसाम मेल के साथ । ‌‌‌यह रेलगाड़ी इलाहाबाद से चलने के बाद जब Subedarganj railway स्टेशन के पास पहुंची तो ड्राइवर ने देखा की कोई रेल की पटरियों के पास खड़ा होकर ट्रेन रूकने का ईशारा कर रहा है। पहली बार तो ड्राईवर ने ध्यान नहीं दिया । लेकिन कुछ देर बाद फिर ड्राइवर ने देखा की कोई गाड़ी को रोकने का ईशारा कर रहा है। ‌‌‌अबकि बार भी डा्रवर ने कुछ भी ध्यान नहीं दिया लेकिन ट्रेन की स्पीड को धीमा कर लिया । जब फिर उसने देखा कि ट्रेन को रोकने का कोई ईशारा कर रहा है तो फिर ट्रेन को रोक दिया गया। और उसके बाद सैनिक भी वहां पर आ गए । सब जगह पर चैकिंग हुई। तो पता चला कि 100 गज की दूरी पर ट्रेक टूटा हुआ है। ‌‌‌आज तक यह पता नहीं चल सका कि वह कौन था जो बार बार तेजी से ट्रेन के आगे आकर उसे रूकने का ईशारा कर रहा था ? ‌‌‌यह भी भूत प्रेत सच्ची घटनाएं मे से एक है।

‌‌‌टोपीधारी भूत

By RuthAS – Own work, CC BY 3.0, Link

लंदन के अंदर Heathrow नामक एक एयर पोर्ट है। यहां पर अक्सर एक टोपी पहने भूत को देखे जाने का दावा कई लोग कर चुके हैं। हालांकि इस भूत के बारे मे कोई पुख्ता नहीं जानता है कि यह कहां से आया है। लेकिन ऐसा माना जाता है कि 2 March 1948 को इसी एयर पोर्ट पर Douglas DC-3C नामक एक प्लेन क्रेस हो गया था  जिसमे कुल 22 लोग सवार थे और उनमे से 20 लोग मारे जा चुके थे । ऐसा माना जाता है कि यह भूत उन्हीं लोगों मे से किसी का है।

 ‌‌‌यहां पर हुए इस प्लेन क्रेस की वजह से कई लोगों को भूतों का सामना करना पड़ा है। और इस वजह से यह एयर पोर्ट काफी डरावना हो चुका है। इसमे काम करने वाली महिलाओं की शिकायत है कि इसके भवन 3 के अंदर एक भूत रहता है। जोकि महिलाओं के साथ गलत हरकत करता है।

‌‌‌1981 के अंदर एक महिला के साथ भी कुछ ऐसा ही घटित हुआ । जब वह आराम कक्ष के अंदर जा रही थी तो उसे ऐसा लगा जैसे कोई उसका पीछा कर रहा है। उसके बाद वह तेजी से बाहर भागी तो उसे ऐसा लग रहा था की कोई उसके पीछे भाग रहा है। इसी तरह की घटना कुछ और लोंगों के साथ भी घट चुकी थी। ‌‌‌आपको बतादें की जब यहां से प्लेन के मलबे निकाले जा रहे थे तो एक 40 साल का व्यापारी लोगों से बार बार यह पूछा रहा था कि उसका ब्रिफकेस मिले तो बताना । लेकिन उस समय लोग यह देखकर शोकड़ हो गए कि वह व्यापारी मर चुका था। मलबे के अंदर उसकी लास निकली थी। ‌‌‌यह भी भूत प्रेत सच्ची घटनाएं मे से एक है।

‌‌‌ भूत प्रेत सच्ची घटनाएं व्हाइट हाउस के भूत

भूत प्रेत की सच्ची घटना
By Unknown (drawing)George Hayward, lithographer – This image is available from the New York Public Library‘s Digital Library under the digital ID 423427: digitalgallery.nypl.orgdigitalcollections.nypl.org, Public Domain, Link

अमेरिका के राष्ट्रपति के निवास स्थान व्हाइट हाउस का नाम तो आपने सुना ही होगा । लेकिन इसके संबंध मे आपने यह भी सुना होगा कि इसके अंदर भूत भी रहते हैं। अब्राहम लिंकन की जब 1865 ई के अंदर गोली मारकर हत्या करदी गई थी। तो उनका शव एक रेलगाड़ी के अंदर ‌‌‌रखकर लोगों के सामने पदर्शनी के लिये लेकर जाया गया ।

वही ट्रेन हर स्टेशन पर केवल आठ मिनट ही रूकती थी।उस शव यात्रा के बाद रात को 9 बजे एक ऐसी रेलगाड़ी भी उन सभी स्टेसनों से गुजरती हुई देखी गई। उसमे भी लिंकन का शव दिखाई दे रहा था। लेकिन रेलगाड़ी के पीछे वाले डिब्बे के अंदर कंकाल संगीत बजा ‌‌‌रहे थे । इस क्रिया को लाखों लोगों ने देखा । एक अंग्रेजी वेबसाइट ने दावा किया कि जब यह रेलगाड़ी जा रही थी। तो घड़ी का समय रूक गया था। उसी के बाद से लिंकन का भूत व्हाइट हाउस के अंदर दिखाई देने लगा था।‌‌‌सबसे पहले 1889 ई के अंदर कैनी नामक एक बैजामिन हैरिसिन राष्ट्रपति का अंगरक्षक था । वह जब एक कमरे के अंदर अपनी गन साफ कर रहा था तो उसने देखा की दरवाजे पर कोई है। लेकिन बाद मे उसे लिंकन का भूत साफ नजर आया । एक बार तो वह खुद ही डर गया था।

‌‌‌1893 ई तक वह कैनी को कई बार दिखाई दिया। वह कैनी की तरफ बड़ी उदास निगाहों से देखता था। जिससे देखकर ऐसा लग रहा था कि लिंकन अपनी मौत का जिम्मेदार कैनी को मान रहा हो ।‌‌‌उसके बाद जब कैनी काफी परेशान हो गया तो उसने राष्ट्रपति भवन के अंदर कुछ प्रेत जादुगर बुलाए और हवन वैगरह करवाया । तब जाकर लिंकन के भूत ने उसका पीछा छोड दिया था।

‌‌‌सन 1934 के अंदर राष्ट्रपति फ्रेंकलीन रूजबेलट ने निश्चिय किया की वे अब उस कमरे के अंदर सोयेंगे । जिसमे कभी अब्राहम लिंकन रहा करते थे । उसके बाद उन्होंने नौकरों को उस कमरे की सफाई करने के लिए भेजा । लेकिन कुछ ही देर मे वे सारे चिखते हुए नीचे आए और बोले कि‌‌‌जब वे कमरे के अंदर गए तो लिंकन सूट पहने हुए बैठे थे और अपने जूतों की डोरी बांध रहे थे । इससे पहले वे कुछ बोल पाते उससे पहले ही लिंकन का भूत गायब हो गया ।उसके बाद रूजवेल्ट को पता चल गया कि लिंकन को अपने कमरे से लगाव हो गया था। उसके बाद वे भी कभी उस कमरे के अंदर नहीं सोए ।

‌‌‌एक बार साक्षात्कार के अंदर रूजवेल्ट ने बताया कि एक बार जब वे बैठे हुए कुछ सोच रहे थे तो लिंकन के भूत को आलमारी से निकलकर खिड़की के अंदर जाते हुए देखा था। लिंकान का भूत काफी खामोश और दुखी नजर आता था। इसके बाद सन 1945 के अंदर रूजवेल्ट की रहस्यमय ढंग से मौत हो गई थी।

‌‌‌अप्रैल महिने के अंदर लिंकन का भूत राष्ट्रपति भवन के अंदर अवश्य ही दिखाई देता था। क्योंकि इसी महिने लिंकन की हत्या हुई थी। एक बार ब्रेटेन के प्रधान मंत्री विस्टन चर्चिल ने भी लिंकन का भूत देखा था।‌‌‌नीदरलैंड की महारानी जब प्रवास पर आई हुई थी तो रात के अंदर वह भी व्हाहट हाउस मे रूक थी। रात को जब दरवाजा खटखटाने की आवाज आई तो उसने सोचा की कोई नौकर होगा । लेकिन जब दरवाजा खोला तो लिंकन का भूत खड़ा था। लेकिन उसके कुछ ही समय बाद वह गायब हो गया ।

‌‌‌सन 1945 ई के अंदर जब जापान पर परमाणु बम गिराये गए थे । तो लिंकन का भूत कई रातों लगातार नजर आया था। और उसके बाद जिसने भी लिंकन को देखा लिंकन काफी दुखी और चिंतित नजर आ रहा था।

‌‌‌आपको बतादें कि लिंकन का साला एलेग्जेंडर भी व्हाइट हाउस के अंदर भूत के रूप मे देखा गया था। राष्ट्रपति कैनेड़ी ने अपनी हत्या से पहले लिंकन को देखा था। जिसके बाद उसकी भी हत्या हो गई थी।

‌‌‌राष्ट्रपति क्लीवलैंड की पत्नी का बेटा भी अल्प आयु के अंदर ही यहां पर मर गया था। वह भी मरने के बाद भूत बन गया था । और कई लोगों को दिखाई दिया था।

‌‌‌मैडीसन की बीवी का भूत भी यहां पर एक गुलाब की क्यारी के अंदर रहता था। जब यहां के लोगों ने इस गुलाब की क्यारी को वहां से हटाना चाहा तो मैडीसन की बीवी का भूत प्रकट हुआ और बोला कि खबरदार जो क्यारी के हाथ लगाया तो ।‌‌‌इसके अलावा व्हाइट हाउस के अंदर एडम्स की पत्नी का भूत भी यहां पर कई बार दिखाई दिया । दोस्तों व्हाइट हाउस के अंदर ऐसे व्यक्तियों की आत्मा भटक रही थी जोकि अपने अधुरी इच्छाओं के साथ मर गए थे ।‌‌‌मैडीसन की बीवी जब मर रही थी तो उसे बार बार गुलाब के फूलों की क्यारी की चिंता हो रही थी। तो ऐसी स्थिति के अंदर जाहिर सी बात है। उसकी आत्मा उन गुलाबों की क्यारी के अंदर ही रह गई। ‌‌‌यह भी भूत प्रेत सच्ची घटनाएं मे से एक है।

‌‌‌भूतों वाले सेनिमाघर

दोस्तों आपने भूतों के महल के बारे मे सुना होगा । और कब्रिस्तान के भूतों के बारे मे भी सुना होगा । लेकिन आपकी जानकारी के लिए बतादें की भूतों वाले सेनिमाघर भी होते हैं। इसी संबंध मे यह भूत प्रेत की सच्ची घटना है।‌‌‌इैंलैंड के Theatre Royal की शूरूआत सन 1874 ई के अंदर हुई थी। इस थियटर के अंदर  बैठने के लिए हजारों लोगों की जगह बनी हुई है। लेकिन इस थियटर की सबसे बड़ी खास बात तो यह है कि इसके अंदर फिल्मे दर्शक नहीं वरन भूत देखते हैं।‌‌‌इस थियटर को चालू होने के कुछ साल बाद बंद कर दिया गया था। लेकिन सन 1936 के अंदर इस को दुबारा खोला गया । यह थियटर भूत सेनिमाघर के नाम से काफी मसहूर हो चुका है। आपको बतादें कि यहां पर एक बूढ़े व्यक्ति की आत्मा दिखाई देती है। हालांकि वह किसी को नुकसान नहीं पहुंचाती है।

‌‌‌इस बूढ़े की आत्मा को देखने के लिए लोग रात को तीसरे पहर के अंदर आ जाते हैं। हालांकि वह दिन के अंदर भी कभी कभी दिखाई देती है। एक बुढ़े का भूत कुरसियों के आस पास घूमता है। और सर पर टोपी पहने रहता है। वह कभी कभी कुर्सी पर बैठ भी जाता है।

‌‌‌यह भूत किसका है ? इस बारे मे कुछ कहा नहीं जा सकता है। एक समाचार पत्र के अनुसार यह भूत इस थियटर के अंदर काम करने वाली एक महिला मनैजर का है।इस महिला का नाम सारा थोर्न था जोकि सन 1898 ई तक इसी थियटर के अंदर काम करती थी।‌‌‌उसकी मौत के लगभग 15 साल बाद ही यह भूत दिखाई देने लगा था। इसके अलावा इस भूत के संबंध मे एक दूसरा मत यह कहता है कि यह भूत इस थियटर के अंदर काम करने ‌‌‌की योजना बना डाली । तब उसने यहीं पर सुसाइड कर लिया था।

कुछ भी हो यह माना जाता है। कि जब जब यह भूत किसी फिल्म पदर्शन के दौरान दिखाई देता है। तब तब  ही वह फिल्म काफी हिट हो जाती है। ऐसा एक बार नहीं कई बार हो चुका है। वाले एक कलाकार का है। जिसका अभिनय अच्छा नहीं था। तो मालिक ने उसे नौकरी से निकालने‌‌‌इसके अलावा एक नाटक मंचन के दौरान इस थियटर के अंदर दो अभिनत्रियों की पीठ किसी अज्ञात शक्ति ने थपथपाई थी। जिसके बाद वे रातों रात फेमस स्टार बन गई थी ।

भूत प्रेत की सच्ची घटना औरत का भूत

‌‌‌यह भी भूत प्रेत की सच्ची घटना है। वैसे यह घटना है सन 1990 ई की । राजस्थान के एक शहर के एक शहर चूरू के अंदर है। उस महिला के नाम का तो पता नहीं है। लेकिन जिस महिला ने इन चीजों का अनुभव किया था। उस महिला का नाम रूकमणी देवी था‌‌‌तिलोका राम नाम एक व्यक्ति इसी महिला के परिवार के अंदर था। उसकी पहली पत्नी का नाम शांति देवी था। तिलोका राम कोई खास काम वैगरह करता नहीं था। और उसकी पत्नी को खाने पीने का सामान जुटाने के लिए खुद ही मेहनत करनी पड़ती थी।‌‌‌तिलोका राम को एक बच्चा भी था। अक्सर दोनो पति पत्नी के अंदर झगड़े होते रहते थे । एक दिन दोपहर को दोनों का झगड़ा हुआ और मिलोकाराम की पत्नी लड़ने के बाद अपने बेटे को लेकर रूकमणीदेवी के घर के पीछे से जागर कुए के अंदर गिर गई । यह बात भी 1990 की है।

‌‌‌उस समय तो तिलोका राम ने नहीं सोचा था कि उसकी पत्नी मर जाएगी । लेकिन जब शाम तक वह घर पर नहीं आई तो लोगों ने उसको तलासना शूरू किया ।जब आस पास के लोगों ने देखा तो वह कुए के अंदर पड़ी मिली ।

‌‌‌लोगों ने जैसे तैसे उस महिला को निकाला लेकिन वह मर चुकी थी। उसके बाद उसे दफनादिया गया। और अन्य मौतों की तरह बात आई गई हो गई। लेकिन 12 अक्टूबर 1990 ई के अंदर जब रूकमणी देवी सुबह चार बजे घर से बाहर जाकर आई तो वह महिला भूतनी उसके पीछे आ गई ।

‌‌‌उसके बाद घर के अंदर आकर महिला अपने पति के पास चली गई। उस समय टैन से बने मकान हुआ करते थे । तो तेजी से मकान की छत पर धमाका हुआ । तो महिला का पति समझ गया कि वही महिला भूतनी आ गई है। तो वह जोर से बोला जोर से धमाका कर । उसके बाद फिर जोर से धमाका हुआ । ‌‌‌इसी तरह से एक के बाद कई धमाके हुए । उसके बाद रूकमणी ने भगवान का नाम लिया और तब जाकर वह महिला भूतनी वहां से चली गई। रूकमणी देवी के साथ ही एक और घटना सन 1992 ई के अंदर घटी थी। उस समय महिलाएं सुबह 3 बजे ही उठ जाती थी। और लेटरिंग वैगरह के लिए घर से बाहर जाती थी।

भूत प्रेत की सच्ची घटना

‌‌‌रूकमणी भी रोज की तरह सुबह 3 बजे उठी और बाहर जाकर जब वापस आई तो एक भूतनी  उसके साथ आगई। पहले के समय मे महिलाएं सुबह हाथ की चक्की से आटा पीसती थी। क्योंकि उस समय बिजली से चलने वाली चक्की नहीं होती थी।‌‌‌जब रूकमणी चक्की से आटा पीसने लगी तो भूतनी भी यही काम करने लगे । उसके बाद चक्की और तेजी से घूमने लगी । रूकमणी को एहसास हो गया कि कोई भूतनी यह सब कर रही है। उसके बाद वह जोर से अपने पति को आवाज दी। उसका पति भींवाराम जब आया तो भूतनी छान को उंचा करके चली गई।

‌‌‌रूकमणी देवी की सन 2017 ई के अंदर मौत हो गई। वैसे यह महिला हमारी जानकार थी। और इसी ने हमको सब कुछ बताया था। और इस घटना को बयां करने वाली उसकी पांच बेटियां भी मौजूद हैं। जोकि अभी जिंदा हैं।‌‌‌हालांकि अब उस भूतनी का प्रभाव खत्म हो गया है। जैसाकि आपको पता होगा हर प्रेत का समय होता है। अब उसका समय समाप्त हो चुका है।‌‌‌यह भूत प्रेत की सच्ची घटना आपको कैसी लगी ?

तो यह भी दोस्तों भूत प्रेत की सच्ची घटनाएं थी।

भूत प्रेत सच्ची घटनाएं लेख के अंदर हमने जो भी घटनाओं के बारे मे आपको बताया है। वह पूरी तरह से प्रमाणिक हैं। इन सभी भूत प्रेत घटनाओं को हमने अलग अलग जगह से संकलित किया है। लेख जारी है।

बिल्ली का जूठा खाने से होते हैं यह 10 भयंकर नुकसान

बिल्ली क्यों रोती है ? इसके पीछे के 10 कारण आपको हैरान कर देंगे

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!