फिनाइल क्या है फिनाइल कैसे बनाएं What is phenyl?

इस लेख के अंदर हमने आपको फिनाइल बनाने की विधि , फिनाइल की गोली खाने के नुकसान , फिनाइल जहर के बारे मे बताएंगे

दोस्तों Phenyl  का नाम तो आपने सुना ही होगा । जिसका प्रयोग अधिकतर घरों के अंदर किटाणु मारने के लिए किया जाता है। आपके घर मे भी फिनाइल का प्रयोग किया जाता होगा । वैसे फिनाइल लिक्वीड और गोली दोनों रूपों के अंदर भी आती है। वैसे फिनाइल एक जहर है। ‌‌‌यदि कोई गलती से इसको पी लेता है। या फिनाइल की गोली भी गलती से खा जाता है तो उसकी मौत हो सकती है। इस लेख के अंदर हम फिनाइल क्या है? फिनाइल बनाने के तरीके ? और फिनाइल प्रभाओं पर बात करेंगे ।

फिनाइल क्या है

‌‌‌फिनाइल क्या है ? What is phenyl?

दोस्तों फिनाइल एक प्रकार का जहर होता है। जिसके अंदर फिनोल नामक तत्व का यूज किया जाता है। जो जहरीला होता है। बेंजीन केंद्रक का एक या एक से अधिक हाइड्रोजन हाइड्रॉक्सिल समूह से विस्थापित होता है, तब उससे जो उत्पाद प्राप्त होते हैं  उसे फिनोल कहा जाता है। ‌‌‌वैसे बाजार के अंदर दो प्रकार की फिनाइल उपलब्ध है। एक काले रंगकी  की फिनाइल और दूसरी सफेद रंगकी फिनाइल । सफेद रंग की फिनाइल का प्रयोग लगभग हर जगह पर किया जाता है। जैसे अस्पताल घर, ऑफिस , दुकान आदि ।

‌‌‌फिनाइल कैसे बनांए ? How to make a phenyl?

 

आप खुद भी फिनाइल बना सकते हैं। लेकिन इसके लिए आपको कुछ रॉ मटेरियल की आवश्यकता होगी । आप चाहें तो फिनाइल का बिजनेस भी कर सकते हैं। तो आइए जान लेते हैं फिनाइल बनाने मे किन किन सामान की जरूरत होगी ।

‌‌‌हम जो तरीका आपको फिनाइल बनाने का बता रहे हैं वह बहुत ही ईजी है। और इसको कोई भी व्यक्ति अपने घर पर भी कर सकता है।

  • आपको ,शुद्व जल की आवश्यकता होगी
  • आमतौर पर एक बोंतल की जो आपको 20 रूपये मे मिल जाएगा ।
  • Phenyl Concentrate जो आपको 140 रूपये लिटर मिल जाएगी ।
  • ‌‌‌700 ग्राम पानी एक मग के अंदर एकत्रित करलें । पानी शुद्व होना चाहिए

पानी की मात्रा को अच्छी तरह से माप लेनी चाहिए

उसके बाद उस पानी के अंदर आपको 90 ग्राम Phenyl Concentrate  मिलानी है।

यह सफेद होगी । यदि आप इसको दूसरे रंग की बनाना चाहते हैं तो आप इसमे रंग डालकर दूसरे रंग की बना सकते हैं।

‌‌‌उसके बाद फिनाइल को बोतल के अंदर पैक कर लें । अब आप इस फिनाइल का यूज कर सकते हैं। ‌‌‌वैसे फिनाइल को अलग अलग तरीके से बनाया जा सकता है। एक दूसरा तरीका इस प्रकार है।

  • गन्दा विरोजा                18 किलो
  • कास्टिक सोड़ा                 02 किलो
  • क्रियासोट ऑइल               20 लीटर
  • पानी                       112 लीटर

गन्दा विरोजा को गर्म किजिए उसके बाद आग बुझा दें । उसके बाद 12 लिटर पानी के अंदर कास्टिक सोड़ा मिलाकर फिर उसमे गन्दा विरोजा या रेजीन मिलाकर घूभ घोटदें ।उसके बादक्रियासोट ऑइल मिलाकर फिर पानी मिलादें । अब आपकी फिनाइल तैयार है।

‌‌‌फिनाइल बनाने का सामान कहां से खरीदें Where to Buy phenyl Making Goods

 

यदि आप घर पर ही फिनाइल बनाना चाहते हैं । तो आपको फिनाइल बनाने का सामान भी खरीदना पड़ेगा । आप फिनाइल बनाने का सामान ऑनलाइन खरीद सकते हैं। https://www.indiamart.com पर जाएं और जो भी प्रोडेक्ट आपको खरीदना है। उसे सर्च करें । और यहां पर आपको यह सामान आसानी ‌‌‌से मिल भी जाएगा ।

‌‌‌फिनाइल के उपयोग ‌‌‌और फायदे Uses and benefits of phenyl

फिनाइल का प्रयोग अधिकतर साफ सफाई के अंदर ही किया जाता है।आजकल लोग पहले से अधिक जागरूक हो चुके हैं। अस्पताल ,घर , स्कूल , कॉलेज आदि जगह पर फिनाइल का उपयोग किया जाता है। इसका यूज जीवाणुओं को नष्ट करने मे होता है। जब एक बार इसकी मदद से साफ सफाई हो जाती है। ‌‌‌तो कई घंटों तक जीवाणु वापस अपना बसैरा नहीं बना पाते हैं। सो फिनाइल के प्रयोग से दुर्गंध भी दूर की जाती है। टायलेट क्लीनर के रूप मे बहुत बार फिनाइल का प्रयोग किया जाता है। लेकिन यह उतनी सफाई नहीं दे पात है। जितनी की टायलेट क्लीनर देते हैं। ‌‌‌इसके अलावा फिनाइल के उपयोग जीवाणूओं को नष्ट करने मे भी किया जाता है। फिनाइल की गोली इसका उदाहरण है।

  • ‌‌‌फिनाइल का प्रयोग क्रषि के अंदर कवकनाशक के रूप मे भी किया जाता है। नींबू के फल के रोगों के उपचार के लिए फिनाइल का प्रयोग किया जाता है।
  • फिनाइल के उपयोग फाइबर बनाने के लिए भी किया जाता है।
  • पशु चिकित्सा के उपकरणों से जीवाणू हटाने के लिए फिनाइल उपयोग होती है।
  • अन्य उपयोग रबर उद्योग में और एक प्रयोगशाला अभिकर्मक के रूप में हैं। इसका उपयोग अन्य फंगसाइड, डाई सामान, रेजिन और रबर रसायनों के निर्माण में भी किया जाता है।

 

  • ऑर्थोफेनिल फिनोल का उपयोग खाद्य पैकेजिंग में एक कवकनाश के रूप में भी किया जाता है और सामग्री में माइग्रेट हो सकता है।
  • ऑर्थोफेनिल फिनोल, सोडियम ऑर्थोफेनिल फिनोल का सोडियम नमक, एक संरक्षक है, साइट्रस फलों की सतह का इलाज करने के लिए शेल्फ जीवन को लंबा करने के लिए प्रयोग किया जाता है।

‌‌‌फिनाइल की गोली के उपयोग The use of phenyl tablet

 

फिनाइल की गोलियों का प्रयोग कई प्रकार के कीड़े मकोड़े को रोकने और उनको दूर भगाने के लिए भी किया जाता है। फिनाइल की गोली की मदद से आप घर के अंदर छिपकली तक दूर भगा सकते हैं। लेकिन इनका प्रयोग सावधानी पूर्वक किया जाना चाहिए क्योंकि यह एक जहर है। जो आपको भी नुकसान ‌‌‌पहुंचा सकता है।

  • ‌‌‌यदि आप चहूों से परेशान हो चुके हैं तो आपको घर के अंदर जहां पर भी चूहे के बिल दिखें उनके आस पास फिनाइल की गोलियां रखदें । चूहें अपने आप घर से भाग जाएंगे

फिनाइल क्या है

  • फिनाइल की मदद से छिपकली को भगाने के लिए जहां जहां आपको छिपकली दिखाई देती है। वहां आस पास फिनाइल की गोली रखें । छिपकली अपने आप भाग ‌‌‌जाएगी ।
  • ‌‌‌बाथरूम के बाहर भी फिनाइल की गोलियां रखदें ताकि बाहर से आने वाले कीड़े मकोड़े अंदर नहीं आ सकें।
  • बाथरूम के अंदर भी कुछ फिनाइल की गोलियां रखें ताकि रात मे आने वाले जानवर बाथरूम के अंदर ना आ सकें।
  • ‌‌‌आप ने यदि कई सारे पौधे लगा रखे हैं। और उनको जानवरों से बचाना चाहते हैं तो उनकी जड़ों के अंदर फिनाइल की गोलियां रख सकते हैं। जिससे उनके अंदर लगने वाले जीवाणू दूर भाग जाएंगे ।
  • ‌‌‌अपने गार्डन के अंदर जहां पर कीड़े मकोड़े अधिक होने की संभावना हो । वहां पर आप फिनाइल की गोलियां रख सकते हैं ताकि कीड़े मकोड़ एकत्रित ना हो सकें ।
  • ‌‌‌यदि आप सांप भगाना चाहते हैं तो आप फिनाइल की गोलियों का प्रयोग कर सकते हैं। जहां पर सांप आने की संभावना अधिक रहती है। वहां आप फिनाइल का यूज कर सकते हैं।
  • ‌‌‌यदि आपके घर के अंदर चींटिया एकत्रित हो गई हैं। उनको घर से भगाने का अच्छा तरीका है। फिनाइल की गोलियों का पाउडर बनाने के बाद उसे वहां पर बिखेर दें ।

‌‌‌फिनाइल जहर Phenyl poison

क्या आप जानते हैं कि आप जो फिनाइल का प्रयोग अपने घर को कीटाणुनाशक बनाने मे करते हैं ।वह आपको खतरे के अंदर डाल सकता है। यदि इसका प्रयोग सावधानी पूर्वक नहीं किया जाता है। तो यह गम्भीर स्वास्थ्य समस्याएं भी पैदा कर सकता है।

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ के मुताबिक, फिनोल विषाक्त है और जो लोग अतिसंवेदनशील हैं, वे बहुत कम एक्सपोजर पर मौत या गंभीर साइड इफेक्ट्स का अनुभव कर सकते हैं। इसके अलावा, यह तेजी से अवशोषित हो जाता है और पूरे शरीर में विषाक्तता पैदा कर सकता है। आम तौर पर, केंद्रीय तंत्रिका तंत्र, हृदय, रक्त वाहिकाओं, फेफड़ों और गुर्दे पर फिनोल के प्रभाव से मौत और गंभीर विषाक्तता का परिणाम होता है।

और फिनिन सामान्य कीटाणुनाशकों में एकमात्र खतरनाक तत्व नहीं हैं। सामान्य उत्पादों में अन्य अस्थिर रसायनों में क्रेशोल, इथेनॉल, अमोनिया और क्लोरीन शामिल हैं। यहां कुछ अन्य गैर-सुलझाने वाले तथ्य हैं

  • खिड़की क्लीनर में पाए गए डायथिलीन ग्लाइकोल तंत्रिका तंत्र को निराश करता है।
  • स्प्रेड और विक डोडोरिज़र में पाए गए फॉर्मल्डेहाइड एक श्वसन उत्तेजक और संदिग्ध कैंसरजन है।
  • फर्श क्लीनर में पेट्रोलियम सॉल्वैंट्स श्लेष्म झिल्ली को नुकसान पहुंचाते हैं।
  • पर्चलोरेथिलीन, एक स्पॉट रीमूवर, यकृत और गुर्दे की क्षति का कारण बनता है।
  • ब्यूटिल सेलोसोल्व, सभी उद्देश्य, खिड़की और अन्य प्रकार के क्लीनर में आम अस्थि मज्जा, तंत्रिका तंत्र, गुर्दे और यकृत को नुकसान पहुंचाता है।

 

तो जब आपके घर को साफ रखने की बात आती है, तो अंगूठे का एक अच्छा नियम याद रखना है: अगर कुछ एसएमईएलएल साफ है, तो यह संभवतः जहरीला है। अधिकांश लोगों को रासायनिक क्लीनर में “गंध साफ” कारक द्वारा बेवकूफ़ बना दिया जाता है;

 

फिनाइल पीने से या फिनाइल की गोली खाने से क्या होता है What happens when drinking phenyl or by eating a pill of phenyl

दोस्तों आपकी जानकारी के लिए बता चुके हैं। कि फिनाइल एक जहर है। जिसको कभी भी खाना नहीं चाहिए क्योंकि इसकी वजह से इंसान की मौत भी हो सकती है। ‌‌‌यदि आप भुलवश फिनाइल को पी लेते हैं या गोली खा लेते हैं । तो आपको चाहिए कि जितना जल्दी हो सके अस्पताल पहुंचे और डॉक्टर को अपनी समस्या बताएं । यदि ऐसे केस के अंदर मरीज को जल्दी ही उपचार नहीं मिलता है। तो मरीज की मौत भी हो सकती है।

  • ‌‌‌फिनाइल यदि त्वचा के अंदर चला जाए तो जलन होती है।
  • फिनाइल यदि आंखों के अंदर गिर जाता है। तो अंधापन आने की संभावना होती है।
  • फिनाइल दिल की धड़कन को बदल सकता है।
  • फिनाइल के प्रभाव से दिल का दौरा पड़ सकता है। और व्यक्ति कौमा मे भी जा सकता है।
  • ‌‌‌इसके अलावा फिनाइल यदि कान नाक के अंदर चली जाए तो जलन पैदा कर सकती है।

 

‌‌‌इस लेख के अंदर हमने आपको फिनाइल बनाने की विधि , फिनाइल की गोली खाने के नुकसान , फिनाइल जहर के बारे मे बताया । यह लेख यदि आपको अच्छा लगा हो तो नीचे कमेंट करें ।

 

One Comment

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *