दिमाग तेज करना है तो यह 7 काम अवश्य करें

दिमाग को तेज करना है तो हम आपको इस लेख के अंदर कुछ ऐसी अच्छे कामों के बारे मे बताने वाले हैं जिनको करके आप अपने दिमाग की शक्ति या अपने दिमाग को तेज कर सकते हैं। यानि आप अपने दिमाग की अंदर की शक्तियों को जाग्रत कर सकते हैं।

‌‌‌इंसानी दिमाग के अंदर बहुत सारी शक्तियां होती हैं । लेकिन उनको जाग्रत करने की आवश्यकता होती है। यदि यह शक्तियां जाग्रत हो जाती हैं तो इंसान किसी से कम नहीं होगा । क्या आपने कभी सोचा है कि कुछ लोगों का दिमाग तेजी से कैसे चलता है। जबकि कुछ का तेजी से काम क्यों नहीं करता।

 

‌‌‌इसकी एक ही बड़ी वजह है कि अपने दिमाग की अंदर कि ताकतों को जाग्रत करने वाले लोगों का दिमाग काफी तेज चलता है। ‌‌‌क्या आपने कभी सोचा है कि महान वैज्ञानिक श्रि निवास रामानुजन का दिमाग गणित के अंदर काफी तेज क्यों चलता था । वे अपनी गणितिय क्षमता की वजह से बढ़े बढ़े विद्वानों को पीछे बैठा देते थे । इसकी एक ही वजह थी । उन्होंने अपने दिमाग की गणित से जुड़ी ताकतों को जाग्रत कर लिया था ।

‌‌‌दिमाग को तेज बनाने के लिए नीचे दिये गए टिप्स को फोलो करें

‌‌‌1. दिमाग की तार्किक क्षमता को बढ़ाएं

जिस व्यक्ति के अंदर तर्क करने की क्षमता विकसित हो जाती है उसका दिमाग काफी तेजी से चलने लग जाता है। इसके लिए आपको करना यह होगा कि आप जो कुछ भी सीखें उसे तर्कों के साथ सीखें क्योंकि यदि आप उस चीज को तर्कों के माध्यम से सीखेंगे तो आप उन चीजों को कभी ‌‌‌भी भूलेंगे नहीं । अपने दिमाग की तार्किक क्षमता को जाग्रत करने के लिए हर चीज के बारे मे सोचना होगा । चीजें समझ मे आने का मतलब होता है आप तार्किक रूप से आप संतुष्ट हैं। मान लिजिए किसी ने गोली चलाई ।

तो गोली आगे कि और ही क्यों गई ? पीछे की और क्यों नहीं गई ? आप इस बात को जानते हैं कि गोली ‌‌‌पीछे की और इस लिये नहीं जा सकती क्योंकि फोर्स आगे की ओर अधिक है। यदि फोर्स को पीछे की और अधिक कर दिया जाए तो गोली पीछे की और जाएगी । इस तरह से हर चीज को तर्क के साथ समझने की कोशिश करें । आप जितनी चीजों को तर्क के साथ समझेंगे आप का दिमाग उतना ही तेज होता जाएगा ।

‌‌‌आप इस बारे मे दैनिक जीवन की चीजों को भी ले सकते हैं। हर चीज को तर्क से समझें । ऐसा आपको लम्बे समय तक करना होगा । धीरे धीरे आपके अंदर तर्क करने की क्षमता विकसित हो जाएगी । तर्क करने के लिए आपको निरंतर अभियास करने की आवश्यकता है चीजों को स्वीकार करो लेकिन समझ मे आने के बाद ।

‌‌‌तर्क करने का सबसे अच्छा तरीका है जो हो रहा है उसके उल्टे सोचो की ऐसा क्यों नहीं होता है। जैसे हर वस्तु जो उपर की और फेंकी जाती है उपर ही क्यों नहीं जाती ? चांक आसानी से टूट जाती है लेकिन लौहे का टूकड़ा आसानी से क्यों नहीं टूटता ? इस तरह के प्रश्नों को बनाकर उनके उतर जानने की कोशिश करें ।

‌‌‌2. निरंतर नॉलेज हाशिल करें

दिमाग को आप तभी तेज बना सकते हैं जब आपके पास नॉलेज हो । अपने खाली समय के अंदर आपको किताबों को पढ़ना चाहिए ताकि आपको अधिक से अधिक चीजों के बारे मे जानकारी हो । आपके पास जैसे जैसे जानकारियां होती जाएंगी । आपका दिमाग भी तेजी से काम करता जाएगा ।

‌‌‌आप कुछ ऐसे लोगों को भी देखते होंगे जिनके पास लगभग हर चीज के बारे मे कुछ ना कुछ जानकारी होती है। और वो आपको उन चीजों के बारे मे अच्छी तरह से बता भी देते हैं। ऐसे लोग अपने खाली समय का सही उपयोग करते हैं और जानकारी एकत्रित करते हैं।

‌‌‌जब आप निरंतर कुछ ना कुछ सीखते रहते हैं तो आपके अंदर अधिक कौशल का विकास हो जाता है और आप फिर किसी भी काम के अंदर अटकते नहीं है। दिमाग के पास जितनी अधिक संख्या के अंदर सूचनाएं होंगी दिमाग उतनी ही तेजी से काम करेगा । मानलिजिए आपको कोडिंग आती है तो आप उस कोडिंग की मदद से कुछ नया बना सकते हैं।

‌‌‌दिमाग के पास सूचनाओं का भंडार है तो दिमाग की सोचन क्षमता बढ़ जाती है क्योंकि दिमाग के पास प्रोसेस करने का डेटा अधिक होता है और सोच का दायरा भी बढ़ जाता है।

‌‌‌कुल मिलाकर हम यही कह सकते हैं कि आपका नॉलेज का दायरा आपको एक प्रतिभाशाली इंसान बनाता है।

‌‌‌3. कुछ हटकर सोचे और करने की कोशिश करते रहे

तेज दिमाग इंसान की सबसे बड़ी खास बात यह होती है कि वह लीक पर नहीं वरन लीक से हटकर कुछ करता है। यदि आप हर काम को वैसे ही करना पसंद करते हैं जैसे दूसरे करते आए हैं तो इसका मतलब आप सोचते नहीं हैं।

‌‌‌दूसरों से हटकर भले ही आप एक बार मे कर ना पाएं लेकिन आपको ऐसा करने पर बहुत सी चीजें समझने को मिलेंगी ।यह ऐसी बातें होती हैं जोकि आपको कोई नहीं सीखाएगा । जब थॅामस एडिशन ने 1000 हजार बार असफलता हाशिल की तो उनको इस बात का कोई अफसोस नहीं था कि वे असफल हो गए । बस इनसें उन्होने सीखा कि ‌‌‌यह 1000 तरीके उनके आविष्कार मे काम नहीं आते । लेकिन अंत मे वे सफल हो गए । इसलिए अपने दिमाग को हर दिसा के अंदर दौड़ाएं और दौड़ाते रहें । जिससे आपके दिमाग की ताकते धीरे धीरे जाग्रत होना शूरू हो जाएंगी ।

‌‌‌हो सकता है पहले पहले यह सब आपको अजीब लगे आपका दिमाग सही से काम न करें । लेकिन निरंतर अभियास करते रहें । उसके बाद आपको आदत हो जाएगी ।

‌‌‌4. हर काम को मजे लेकर करें बोर नहीं होए

दिमाग की सबसे बड़ी खास बात होती है कि जब आप किसी काम के अंदर बोर होने लगते हैं तो आपके दिमाग की सीखने की क्षमता के अंदर गिरावट आ जाती है। इसलिए कोशिश करें कि किसी काम को करते समय बोर नहों । ऐसे उपाय अपनाएं । जब आप हर काम के अंदर मजे लेंगे तो आप बहुत ‌‌‌कुछ सीखते ही चले जाएंगे । जब आप बोर या आलस्य के अंदर होते हैं तो अपने दिमाग का सही उपयोग नहीं कर पाते हैं जिस वजह से दिमाग की क्षमताओं का विकास सही तरीके से नहीं होता है।

‌‌‌कुछ स्टूडेंट को क्लाश के अंदर आपने देखा होगा कि वे निरंतर पढ़ते रहते हैं फिर भी कभी बोर नहीं होते हैं और वो आपसे होशियार बन जाते हैं क्योंकि वे अपने दिमाग को अच्छे से काम मे लेते हैं।

‌‌‌5. चीजों पर फोक्स करने की आदत डालें

कई लोगों को इस प्रकार की समस्या होती है कि जब वे एक काम को करने बैठते हैं तो उनका दिमाग उस काम को छोड़कर किसी दूसरे काम पर चला जाता है। ऐसा नहीं होना चाहिए । यदि आपके साथ भी ऐसा होता है तो आपको करना यह है कि मन मे ठान लें जब भी दिमाग के अंदर दूसरा विचार ‌‌‌आए तो उसे ब्लोक कर दें और वापस दिमाग को एक ही काम पर लें आएं ।

ऐसा प्रयास आपको कई बार करना पड़ेगा । जिससे धीरे धीरे आपके दिमाग की जो भागने की आदत है । वह दूर हो जाएगी । सही मायने मे यह होना चाहिए कि जब आप एक काम कर रहे हों तो बस उसमे इतने डूब जाएं कि आपको यह भी पता ना चले कि आस पास क्या

‌‌‌हो रहा है। जिससे आप अपने दिमाग की सही क्षमता का प्रयोग कर पाएंगे ।और आपका दिमाग भी तेज बन जाएगा ।

‌‌‌6. अपने बेस को सुधारें

वैसे यह काफी इंपोरटेंट पाईंट है। यदि आपका बैस कमजोर होगा तो आपकी दिमागी क्षमता भी कमजोर होगी । आप अपनी दिमागी क्षमता का उपयोग नहीं कर पाएंगे । इसलिए अपने बेस को सुधारते रहे हैं। बेस से यहां पर मतलब है बेसिक चीजों से है कई बार आप किसी काम को करना तो चाहते हैं आपके पास ‌‌‌क्षमता भी होती है लेकिन आपके पास बेस नहीं होता है। इस वजह से आप पीछे रह जाते हैं। जैसे यदि आपको अंग्रेजी सीखना है तो आपको पहले उसका बेस यानि व्याकरण सीखनी पड़ेगी । इसलिए क्रमवाईज चलें और अपने बेस के अंदर सुधार करें । आपके दिमाग की क्षमता अवश्य ही बढ़ेगी ।

‌‌‌7. निरंतर अभियास

dimag ko tez karna

दिमाग की ताकतों को जाग्रत करने का वैसे देखा जाए तो एक मात्र तरीका है निरंतर अभियास करना । यदि आपको जो भी काम नहीं आत है और आप उसे सीखना चाहते हैं तो तब तक अभियास करते रहे जब तक आपको वह काम आ नहीं जाता । यदि आप निरंतर अभियास करते रहेंगे तो आपके दिमाग की क्षमता अपने आप बढ़ती ‌‌‌चली जाएगी । आप जितना ज्यादा अभियास करेंगे आपके दिमागी क्षमता के अंदर उतना ही अधिक ईजाफा होगा । ‌‌‌यदि कोई काम आप बार बार भूल रहे हैं तो आपको अभियास करने की जरूरत है। बस अभियास करते रहें । आपका दिमाग सुपर मैन की तरह बन जागा । जिसके पास हर चीज का जवाब होगा ।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *