डायरी लिखने के क्या लाभ हो सकते हैं? डायरी लिखने का महत्व

डायरी लेखन के बहुत सारे फायदे हैं। इस लेख के अंदर हम डायरी लेखन के फायदे या डायरी लेखन के लाभ के बारे मे विस्तार से चर्चा करेंगे ।‌‌‌वैसे तो डायरी लेखन कई तरह से किया जाता है। जैसे पर्सनल डायरी लेखन के अंदर आप अपने जीवन से जुड़ी पर्सनल चीजें उसके अंदर लिखते हैं। मसलन पर्सनल डायरी लेखन के अंदर ऐसी चीजे लिखी जाती हैं। जिनको किसी से शेयर नहीं किया जाता है।‌‌‌ एक होता है स्टूडेंट लाइफ पर डायरी लेखन जिसके अंदर हम केवल हमारी स्कूल लाइफ से जुड़ी चीजे ही लिखते हैं।

 जैसे हमने क्या किया क्या नहीं किया ? इसके अलावा बिजनेस पर आप अलग से डायरी लिख सकते हैं। हालांकि यह बहुत कम देखा गया है कि कोई व्यक्ति केवल एक टॉफिक को लेकर डायरी लिखे।‌‌‌आमतौर पर अधिकतर व्यक्ति एक कॉमन डायरी लिखते हैं। जिसके अंदर मुख्य मुख्य चीजे लिखी जाती हैं। वैसे इस तरह की डायरी का कोई खास फायदा नहीं होता है।

Table of Contents

‌‌‌रिफ्रेंस डायरी लेखन के फायदे

दोस्तों रिफ्रेंस डायरी लेखन मतलब ऐसा डायरी लेखन जिसके अंदर सभी तरह की चीजे आ जाती हैं। जैसे स्कूल कॉलेज बिजनेस । मतलब सब कुछ आ जाता है। रिफ्रेंस डायरी लेखन के कुछ आम फायदे हैं। और रिफ्रेंस डायरी लेखन दुनिया के बहुत सारे लोग करते हैं।

‌‌‌ ‌‌‌डायरी लेखन के फायदे यह हमारी यादों को ताजा करती है

रिफ्रेंस डायरी लेखन के अंदर आमतौर पर पूरे दिन का डेटा नहीं लिखा जाता है। और इसके अंदर केवल पूरे दिन की महत्वपूर्ण चीजों को ही लिखा जाता है। दिन के अंदर जो कुछ भी महत्वपूर्ण होता है। वह इसमे लिख दिया जाता है। और जब लंबे समय बाद जब हम इन चीजों को पढ़ते हैं ।‌‌‌तो हमे पूरानी यादे ताजा हो जाती हैं। जोकि डायरी लेखन का काफी बड़ा फायदा है।‌‌‌यदि हम डायरी लेखन नहीं करेंगे तो हमारी लाइफ के अंदर घटचुकी छोटी छोटी घटनाएं हम भूल जाएंगे । लेकिन डायरी लिखने से हम उनको दुबारा याद कर पाएंगे।

‌‌‌
डायरी लेखन के फायदे खुद को समझने के लिए

जब हम लंबे समय से डायरी लिखते हैं तो हम उसके अंदर बहुतसी चीजे लिखते चले जाते हैं। और समय समय पर हमारे अंदर बहुत से बदलाव होते रहते हैं। इन सब बदलावों को गहराई से समझने के लिए हमे डायरी लेखन करना चाहिए ।‌‌‌डायरी लेखन की मदद से हम यह आसानी से जान सकते हैं कि आज और आज से पहले हमारे अंदर क्या अंतर था? और हमारे अंदर क्या बदलाव आए हैं ?। खुद का मुल्यांकन करने के लिए डायरी लेखन बहुत ही अच्छा है।

‌‌‌ ‌‌‌डायरी लेखन के फायदे हम अपने लेखन स्किल को सुधार सकते हैं

आमतौर पर होता यह है कि जब हम पढ़ाई छोड़ देते हैं तो हमारे अंदर लिखने की क्षमता खत्म सी होने लगती है। बहुत से लोग बाद मे ऐसे काम करने लग जाते हैं। जिसके अंदर लिखने की कोई आवश्यकता ही नहीं रहती है। ‌‌‌इस तरह के लोगो के लिए डायरी लेखन बहुत अच्छा है। यह अपने लेखन स्किल को सही सही बनाए रख सकते हैं।‌‌‌रोज आप 15 मिनट भी लिखते हैं तो आपके लिखने की स्पीड के अंदर फर्क आएगा । और आपका स्किल भी खत्म नहीं होगा ।

‌‌‌ ‌‌‌डायरी लेखन के लाभ कल्पना शक्ति के अंदर सुधार

डायरी लेखन के लिए हमे कोई खास कल्पना नहीं करनी पड़ती है। लेकिन घटनाओं को जोड़ना तोड़ना पड़ता है। यह तय करना पड़ता है कि कौनसी चीजे महत्वपूर्ण हैं। इसके अलावा जब हम डायरी के अंदर अपनी भावनाओं को लिखते हैं तो हमे अपनी कल्पना शक्ति की भी मदद लेनी होती है।‌‌‌और इससे हमारी कल्पना शक्ति के अंदर सुधार होता है।‌‌‌आपको बतादें कि एक अच्छी कल्पना शक्ति वाला इंसान ही इस दुनिया के अंदर सक्सेस होता है। बेहतर कल्पना शक्ति वह होती है जो विश्वास पर टिकी होती है।

‌‌‌स्मरण शक्ति तेज होती है

आमतौर पर आजकल लोगों को चीजे भूलने की आदत होती है। ऐसी स्थिति के अंदर डायरी लेखन बहुत उपयोगी होती है। उसके अंदर आप कई चीजे लिख सकते हैं। जैसे कि आपके फ्रेंड का जन्म दिन वैगरह और भी बहुत सारी महत्वपूर्ण चीजे आप उसके अंदर लिख सकते हैं। ‌‌‌यह सब चीजें जब आप बार बार पढ़ते हो तो आपकी स्मरण शक्ति तेज होती है। और इस वजह से आपका कोई फ्रेंड यह शिकायत भी नहीं करेगा कि अबकि बार आपने मेरे बर्थडे पर कोई उपहार नहीं दिया ।

‌‌‌यदि कोई डायरी लेखन नहीं करता है तो फिर वह बहुत सी चीजे भूल जाता है। यहां तक की खुद की शादी की सालगिरह तक याद नहीं रख  पाते हैं। और जब पत्नी शिकायत करती है  तो आपको कहना पड़ता है कि मैं तो भूल गया था। ‌‌‌यदि आप इस तरह की स्थिति से बचे रहना चाहते हैं तो डायरी लेखन आज से ही करना र्स्टाट कर दिजिए । हालांकि बचपन से जो डायरी लेखन किया जाता है। वह काफी महत्वपूर्ण  होता है।

‌‌‌अपनी भावनाओं को व्यक्त करने का जरिया

दोस्तों आपने इस बात को नोटिस किया होगा कि जिंदगी के अंदर कुछ बाते या कहें कि कुछ फिलिंग ऐसी होती हैं कि उनको किसी को बताया नहीं जा सकता उन्हें तो केवल कागज पर ही लिखा जा सकता है। ‌‌‌जैसे की आपकी फ्रेंड आपके बारे मे क्या सोचती है ? आप यह उससे पूछोगे तो वह कोई खास उत्तर नहीं दे पाएगी । लेकिन यदि आप उसकी डायरी पढ़ोगे तो आपको अवश्य ही सही सही पता लग जाएगा कि आपके प्रति उसकी क्या फिलिंग है। ‌‌‌फिलिंग कुछ ऐसी ही चीज है जिसे बताया नहीं जा सकता है। और आप यदि अपने जीवन साथी की फिलिंग को जनना चाहते हैं तो आपके बस  एक मात्र तरीका है। और वह उसकी लिखी डायरी को पढ़कर देख लेना । यदि वह डायरी नहीं लिखते तो आपके पास कोई तरीका नहीं है।

‌‌‌ ‌‌‌डायरी लेखन के लाभ पूरी लाइफ का बायोडेटा

आपने पूरी जिंदगी के अंदर क्या क्या किया ? और उससे आपको कैसे अनुभव मिले ? आपकी जिंदगी कैसी रही ? मतलब इन सब सवालों के जवाब आपको डायरी लेखन के अंदर मिल जाएंगे । यदि आपको अपनी पूरी जिंदगी का बायोडेटा चाहिए तो आपको डायरी लेखन अवश्य ही करना चाहिए। ‌‌‌हमारी जिंदगी के अंदर बहुत सी चीजे होती हैं। और उन सबको याद रखना मुश्किल होता है। ऐसी स्थिति के अंदर हमारे पास केवल एक ही चारा होता है कि लाइफ की इन चीजों को डायरी के अंदर लिख देना ताकि यह याद रहे ।

‌‌‌डायरी लेखन का महत्व‌‌‌ डायरी आपका सबसे अच्छा दोस्त

जब आप दुखी होते हो या बहुत ज्यादा खुश होते हो तो अपने सबसे करीबी दोस्त को जाकर बताते हो कि आपने आज क्या किया ? डायरी आपके दोस्त से भी बहुत अच्छी है। आप इसके अंदर अपनी खुशी और गम दोनों को लिखते हो । मतलब यह आपके दोस्त की भांति होती है और इसमे लिखने के बाद ‌‌‌आपको ऐसा लगेगा जैसे कि आपने अपने मन की बात अपने दोस्त से कहदी हो । यकीन मानों जब आप बहुत ज्यादा दुखी होते हो तो आपको अपना दुख डायरी के अंदर लिखने से अच्छा महसूस होगा ।

‌‌‌डायरी आपके दोस्त से इस लिए बढ़कर है क्योंकि यह आपसे सवाल नहीं करती है। यह आपके सवाल को सुन लेती है। बस जवाब देना नहीं जानती है। बस जवाब तो यह अपने आप आपके अंदर से उठा देती है।

‌‌‌ ‌‌‌डायरी लेखन के लाभ अनुभवों का फायदा

यदि आप डायरी लिखते हैं तो आपको जिंदगी के अंदर कई सारे अनुभव हुए होंगे और आपने उनको अपनी डायरी के अंदर लिखा भी होगा । यह अनुभव वास्तव मे काफी काम के होते हैं। जिंदगी के अंदर कुछ बुरे अनुभव होते हैं तो कुछ अच्छे अनुभव होते हैं। ‌‌‌बुरे अनुभवों से भी हमे सीख मिलती है। और अच्छे अनुभवों से भी हमे सीख मिलती है। डायरी के अंदर लिखे अनुभवों से हम बहुत कुछ सीख सकते हैं। यही अनुभव हमे जिंदगी के अंदर आगे बढ़ने मे मदद करते हैं।

‌‌‌और वैसे भी आज का समय ही ऐसा है कि जिसके पास अनुभव है। उसके पास सब कुछ है। और जिसके पास अनुभव नहीं है। मतलब उसके पास कुछ नहीं है। यदि आप अपनी जिंदगी के अनुभवों से कुछ सीखना चाहते हैं तो आपको डायरी लेखन करना चाहिए । इससे आप जिंदगी के अनुभवों से बहुत कुछ सीखते चले जाएंगे।

‌‌‌डायरी लेखन का महत्व‌‌‌ अकेलापन दूर होता है

यदि आप डायरी लिखते हैं तो इससे आपका अकेलापन भी दूर होता है। आमतौर पर आज की भागदौड़ भरी जिंदगी के अंदर किसी को दूसरे के लिए टाइम नहीं है। ऐसी स्थिति के अंदर डायरी लिखना आपके लिए बहुत फायदे मंद होता है। ‌‌‌डायरी के अंदर जब आप अपनी भावनाओं को उकेरते हो तो आपको ऐसा महसूस होता है कि आप अपने फ्रेंड को यह सब चीजे बता रहे हो । जिससे आपका अकेलापन अपने आप दूर हो जाता है। और दिमाग हल्का हो जाता है।

‌‌‌खुद को सुधारने के लिए

आपको हम बतादें कि इंसान अपनी जिंदगी के अंदर कई सारी गलतियां करता है। और आप भी करते हो । यदि आप डायरी लिखते हैं तो आपको यह पता रहेगा कि आप कहां पर बार बार गलती कर रहे हैं। और आप उस गलती को आसानी से सुधार सकते हैं। यदि एक स्टूडेंट डायरी लिखता है। ‌‌‌तो वह डायरी की मदद से आसानी से यह पता लगा सकता है कि वह कामयाब क्यों नहीं हुआ? और कमी कहां पर रह गई है ? मतलब डायरी लेखन खुद को सुधारने मे बहुत मदद करती है। इतना ही नहीं स्टूडेंट के अलावा हर इंसान डायरी की मदद से खुद को इप्रूव कर सकता है।

‌‌‌लाइफ की रोचक हिस्ट्री

जब कोई पर्सनल डायरी लिखता है तो उसके अंदर उसकी जिंदगी की बहुत सी रोचक घटनाएं दर्ज हो जाती हैं। और जब बहुत सालों बाद जब वह उन घटनाओं को पढ़ता है। तो उसे बहुत मजा आता है। इसी तरह से यदि कोई दूसरा भी उन्हें पढ़ता है तो उसे भी आनन्द आता है। कुल मिलाकर डायरी लेखन से हम ‌‌‌अपने जीवन की रोचक घटनाओं को दूबारा याद करके रोमांचित हो सकते हैं।

‌‌‌ ‌‌‌डायरी लेखन के लाभ जिंदगी का मकसद तय करने मे

बहुत से लोगों को यह पता नहीं होता है कि उनकी जिंदगी का मकसद क्या है ? ऐसी स्थिति के अंदर डायरी लेखन उनके लिए काफी मददगार होता है। डायरी के अंदर उनके मकसद की साफ झलक मिल जाती है। यदि आप भी अपनी जिंदगी का सही मकसद नहीं तलास पा रहे हैं। ‌‌‌तो आपको आज ही डायरी लेखन शूरू कर देना चाहिए। डायरी लेखन के अंदर आपका झुकाव कब किस समय किस ओर था। इस सब चीजों के आधार पर मकसद तय करना बहुत आसान हो जाएगा ।

‌‌‌पीढ़ियों के लिए एक यादाश्त

आमतौर पर हम डायरी नहीं लिखते हैं। इस वजह से जब हम मर जाते हैं तो हम अपने बारे मे किसी को बता कर नहीं जाते हैं। जैसे हम कैसे थे ? हमे क्या पसंद था ? वैगरह वैगरह । जब हम डायरी लिखते हैं तो हमारे मरने के बाद भी कई पिढ़ियां उन डायरी को बड़े चाव से पढ़ेंगी और उनको ‌‌‌यह याद भी रहेगा कि अमुख आदमी कैसा था ? कुल मिलाकर यह काफी रोचक होगा ।मरने के बाद भी कोई हमे काफी बेहतर ढंग से जान पाएगा । कई बार जब बच्चे का पिता मर जाता है।और जब बच्चा बड़ा होकर पूछता है कि पापा कैसे थे तो उसकी मां कुछ नहीं बता पाती । लेकिन यदि वही पापा की डायरी पढ़ेगा तो उसे कैसा लगेगा ?

‌‌‌आपके अनुभवों से दूसरे भी सीखेंगे

यदि आप एक फेमस इंसान हैं और डायरी लेखन नहीं करते तो आपको तो जरूर ही करना चाहिए और अपनी डायरी को प्रकाशित भी करवाना चाहिए । आपने जो कुछ अनुभव किया है उससे दूसरे भी बहुत कुछ सीख सकते हैं। और यदि आप एक फेमस इंसान नहीं है तो भी आपको डायरी लेखन करना चाहिए  ताकि ‌‌‌कम से कम आपके परिवार के लोग तो आपके अनुभवों का फायदा उठा सके । और उनको वही ज्ञान पाने के लिए वर्षों का इंतजार नहीं करना पड़े।

‌‌‌तो दोस्तों अब तक आपको डायरी लेखन के फायदे अच्छी तरह से समझ मे आ गये होंगे । डायरी लेखन के नुकसान की बात करें तो हम पायेंगे कि डायरी के अंदर कभी भी ऐसी बातें ना लिखें जिससे आपकी छवि खराब होने का डर हो । डायरी मे हमेशा उपयोगी बाते ही लिखे जिससे कल को यदि कोई उसे पढ़े तो भी ‌‌‌आपको इससे कोई आपति ना हो। बस डायरी लेखन के अंदर बहुत से लोग यही गलती कर देते हैं कि वे इसमे अपनी गुप्त बातें लिख देते हैं और बाद मे जब वह किसी के हाथ लग जाती है तो फिर काफी नुकसान होता है। ऐसा ना करें ।

‌‌‌डायरी लेखन के फायदे लेख आपको कैसा लगा कमेंट करके बताएं।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *