कल्कि अवतार और मुहम्मद , kalki avatar janam le chuka hai ?

‌‌‌इस लेख मे हम बात करेंगे कल्कि अवतार और मुहम्मद , kalki avatar janam le chuka hai के बारे मे

पीछले दिनों मेरे हाथ एक किताब लगी थी । जिसके अंदर यह लिखा गया था कि कल्कि अवतार कोई और नहीं हैं। वरन मुहम्मद साहब हैं। और वे ही विष्णु भगवान के अंतिम अवतार हैं। उसके बाद भगवान का कोई अवतार नहीं होगा ।  Ved Prakash Upaddhay ‌‌‌की एक पुस्तक के अंदर भी यह साफ साफ कहा गया है कि मुहम्मद जी ही हिंदु धर्म मे भगवान विष्णु के अंतिम अवतार हैं। इस पुस्तक को हमने भी पढ़ा इसके अंदर इस संबंध मे कई सारे तर्क भी दिये गए हैं। वैसे देखा जाए तो उनके सभी तर्क गलत नहीं हैं। लेकिन वे सिर्फ सिक्के का एक पहलू ही है। ‌‌‌बहुत से ऐसे पहलू भी हैं। जोकि इस बात से इनकार करते हैं कि वे कल्कि अवतार हैं। मुहम्मद इस्लाम के दूत थे । ‌‌‌और अल्लाह ने उनको इस्लाम धर्म के लिए भेजा था ।

न की हिंदु धर्म के लिए । । इस लेख के अंदर हम इसी विषय पर चर्चा करने वाले हैं कि मुहम्मद साहब भगवान विष्णु के क्लिक अवतार क्यों नहीं है? इसके अलावा हम उन तर्कों पर भी विचार ‌‌‌करने वाले हैं जिनकी मदद से मुहम्मद साहब को कल्कि अवतार सिद्व करने की कोशिश की गई है।

Table of Contents

kalki avatar janam le chuka hai ?

‌‌‌वैसे तो हिंदु धर्म के अंदर कई महापुरूषों को कल्कि अवतार सिद्व करने की कोशिश की गई। लेकिन उनमे से अधिकतर कल्कि अवतार पर सटीक नहीं बैठते हैं। जैसा कि हम आपको नीचे बता रहे हैं। ‌‌‌यदि हम एक बार यह मान लें कि कल्कि अवतार जन्म लेकर मर चुका है। तो हम से बड़ा कोई अज्ञानी नहीं है। कल्कि अवतार ने वास्तव मे जन्म नहीं लिया है। इंटर नेट पर जिन लोगों को कल्कि अवतार का दर्जा दिया जा रहा है। ‌‌‌क्यों जन्म नहीं लिया है ? इस बारे मे आपको नीचे पता लग जाएगा । और दूसरी बात वैसे तो आपको नेट पर कई ऐसी वेबसाईट मिल जाएंगी जिनपर यह लिखा है कि kalki avatar janam le chuka hai । लेकिन यह नहीं बताया जाता है कि जन्म कहां पर लिया है। सब फेक न्यूज हैं कोई भी सच नहीं है।

‌‌‌ कल्कि अवतार और मुहम्मद  ‌‌‌के माता पिता के नाम मे अंतर

 विष्णुयश भगवान क्लिक के पिता का नाम बताया गया है। और माता का नाम सुमति बताया गया है। अब बात करे मुहम्मद साहब के माता पिता के नाम की तो  मुहम्मद साहब के पिता का नाम  अब्दुल्लाह और माता का नाम आमना है। ‌‌‌हम यह सिद्व नहीं करना चाहते हैं कि अमुख नाम का मतलब यह होगा और अमुख का मतलब यह होगा तो यह समान हो जाएंगे । करने को तो 2 बराबर 0 भी सिद्व किया जा सकता है। यदि हम कुछ पौराणिक कथाओं पर नजर डालें ‌‌‌बात करें द्वापर युग के अंदर क्रष्ण अवतार की तो यह पहले ही पता चल चुका था कि द्वापर युग के अंदर भगवान अवतार लेंगे और उनका नाम क्रष्ण होगा उनके पिता का नाम भी पहले ही तय हो चुका था। और ठीक वैसा ही हुआ । ‌‌‌भगवान राम के जन्म की भविष्यवाणी भी बहुत पहले ही हो चुकी थी। और बाद मे भगवान राम ने जन्म भी लिया और नाम भी वही रखा। त्रिकुटा ने राम से कहा था कि वे उनको पति के रूप मे मान चुकी है।तब राम ने खुद कहा था कि कलयुग के अंदर वे कल्कि के नाम से प्रकट होंगे तब उससे विवाह करेंगे । कहने का मतलब है। अन्य अवतार की भविष्य वाणियों के अंदर भगवान ने जिस नाम से पैदा होने को कहा उसी नाम के साथ वे पैदा भी हुए । ‌‌‌मतलब अन्य कथाएं जिस तरह से सच हुई। उसी तरह से यह भी सच होगी ।


कल्कि अवतार ‌‌‌अपने घोड़े के साथ

हम यह कहना चाहेंगे कि भगवान विष्णु कोई आम आदमी नहीं हैं। वरन दुनिया के पालहार हैं और उनके अंदर इतना सामर्थ्य हैं कि वे अपने लिखे ग्रंथों को गलत ना सिद्व होने दें । ‌‌‌और जो भगवान खुद की बातों पर खरा नहीं उतरता वह भगवान नहीं इंसान होता है। ‌‌‌भविष्य के अंदर भगवान विष्णु जन्म लेंगे तो उनेके पिता का नाम विष्णुयस ही होगा और माता का नाम सुमति ही होगा ।क्योंकि वेद पुराण लिखने वाले ने यह सब कल्पना से नहीं लिखा वरन किसी ने उसको बताया है। तभी तो लिखा है।

‌‌‌‌‌‌ कल्कि अवतार और मुहम्मद  ‌‌‌के जन्म स्थान का अंतर

बात करे मुहम्मद साहब की तो उनका जन्म स्थान अरब के शहर मक्का था । जबकि भगवान कल्कि के जन्म के बारे मे यह कहा गया है कि वे संभल ग्राम के अंदर पैदा होंगे । अब तक यह कोई नहीं जानता है कि संभल ग्राम कहां पर है। इस संबंध मे कई लेखक इसको उड़ीसा, हिमालय, पंजाब, बंगाल और शंकरपुर ‌‌‌मे मानते हैं तो कई इसको मरूस्थल के अंदर मानते हैं। जैसा कि हम पहले ही बता चुके हैं कि इसका अर्थ मरूस्थल से जोड़कर लिया जाता है।

और कुछ लोग मानते हैं कि मुहम्मद का जन्म भी मरूस्थल के अंदर हुआ है। इस वजह से वे हिंदुओं के भगवान हुए । ‌‌‌लेकिन वास्तव मे ऐसा नहीं है। संभल ग्राम अब भले ही ना हो लेकिन आने वाले लाखों सालों कें अंदर यह संभव हो सकता है। और इस बात से कोई इनकार नहीं कर सकता । लाखों साल इस लिये क्योंकि कलयुग 4 लाख से अधिक साल का है। और आपको बतादें कि अभी तो पूरा कलियुग शूरू भी नहीं हुआ।

ब्राह्मण के घर पैदा होंगे भगवान क्लिक

वेद पुराण के अंदर यह साफ साफ लिखा है कि भगवान कल्कि केवल ब्राह्मण के घर पैदा होंगे । तो भगवान रस्ता भूल गए थे जो मुस्लिम के घर मे पैदा हो गए । लेकिन सच तो यह है कि भगवान क्लिक अभी जन्मे ही नहीं हैं। और जब जन्म लेंगे तो अवश्य ही ब्राह्मण के घर मे ‌‌‌ पैदा होंगे । क्योंकि कथनी और करनी के अंदर फर्क इंसानों से होता है। भगवान से नहीं जब भगवान ही कथनी और करनी मे अंतर रखने लगे तो इंसानों के भले की उम्मीद भगवान से नहीं की जा सकती ।

‌‌‌शिव के भगत और अल्लाह के दूत

क्लि्क पुराण के अंदर बताया गया है कि भगवान क्लि्क शिव के भगत होंगे । जबकि पैगम्बर मुहम्मद साहब के बारे मे कहीं पर यह नहीं लिखा मिलता है। लिखा हुआ मिलता है तो यही मिलता है कि वे अल्लाह के दूत थे ।ऐसा हो ही नहीं सकता कि विष्णु को जिसने बनाया उसी ‌‌‌उसकी  भक्ति छोड़कर अल्लाह की भक्ति करने लग जाएं। इतने मे आपको समझ जाना चाहिए कि जब क्लिक अवतार होगा तो वे भगवान शिव के भक्त होंगे । और उन्हीं की पूजा करेंगे ।

हयग्रीव अवतार का कोई मतलब नहीं

विष्णु के 16 वा अवतार हयग्रीव अवतार कहलाता है। एक बार मधु और कैटभ ने जब वेद चुरा लिए और रसताल के अंदर जाकर छिप गए तो ब्रह्माजी विष्णु के पास पहुंचे और सहायता की प्रार्थना की । तब भगवान ने हयग्रीव अवतार लिया और राक्षसों को मारकर वेदों को वापस लाए।

‌‌‌तो क्या अब वेदों को नष्ट करने के लिए भगवान ने मुहम्मद का अवतार लिया है। ताकि हर हिंदु मुस्लिम बन जाए और कुरान पढ़े । यह बात हज्म नहीं होती । आप खुद सोचिए कि वेदों के की रक्षा के लिए भगवान पहले ही अवतार ले चुके हैं तो अब मुहम्मद का अवतार भगवान कैसे ले सकते हैं ? इतना तो भगवान भी जानते हैं। ‌‌‌और देवता गण भी जानते हैं कि इसका परिणाम क्या होगा ? ‌‌‌धर्म कोई विज्ञान नहीं है। जिसे तर्कों से सिद्व किया जा सके । सिद्व उन्हीं चीजों को किया जा सकता है। जो सिद्व करने लायक हों।

‌‌‌भगवान कल्कि शास्त्रों के ज्ञानी होंगे

कल्कि पुराण के अंदर यह यह लिखा हुआ मिलता है कि भगवान कल्कि वेदों और पुराणों के ज्ञाता होंगे । तो भाई मैने तो कहीं नहीं पढ़ा कि मुहम्मद साहब पुराणों और वेदों के ज्ञानी थे ।कहने का मतलब है कि भगवान कल्कि जन्म ही नहीं हुआ तो वे ज्ञाता कैसे बन सकते ‌‌‌हैं। ज्ञाता तब बनेंगे जब भगवान कल्कि धरती पर सचमुच अवतरित होंगे ।

‌‌‌मनचाहा भोजन अपने आप आएगा

कल्कि पुराण के अंदर यह भी लिखा हुआ मिलता है कि भगवान के पास ऐसी ताकत होगी कि वे अपना मनचाहा भोजन शक्ति के बल पर प्राप्त करेंगे । लेकिन मुहम्मद साहब के पास तो ऐसी कोई ताकत नहीं थी। क्योंकि वे कल्कि अवतार नहीं थे । ‌‌‌आप सोच रहे होंगे कि आज के विज्ञान के युग के अंदर इस तरह की बातें करना अंधविश्वास है। तो हम आपको बतादें कि विज्ञान पंगु है और जब विज्ञान ही भगवान की लीला को समझलेगा तो भगवान को कौन पूछेगा । ‌‌‌पुनर्जन्म की घटनाओं की व्याख्या आज तक विज्ञान नहीं कर पाया । एक इंसान कई सालों से बिना खाना खाए रहा । विज्ञान उसके सामने पंगु बन गया । एक पेड़ से अनाज के दाने हर साल बरसते हैं। जिसको मैंने आंखों से देखा है। क्या विज्ञान उसको समझा पाया , जीवों मे चेतना का रहस्य के बारे मे विज्ञान कुछ ‌‌‌नहीं बोलता है। कई जगह पर ऐसी बालू है जिससे संगीत निकलता है। विज्ञान के लिए यह एक रहस्य है। मतलब ऐसी हजारों चीजे हैं जिनको विज्ञान सिद्व करने मे नाकाम है।

देवदत्त घोड़े पर सवार होंगे भगवान

मुहम्मद और भगवान क्लि्क दोनों के घोड़े सफेद थे । यह समानता है। लेकिन दोनों के घोंड़ों के नाम अलग अलग थे । सही भी है कि भगवान क्लिक भूल गए होंगे कि उनको धरती पर अवतरित होना है। लेकिन भाई नाम तब समान होगा ना जब असल मे भगवान कल्कि धरती पर जन्म लेंगे ।

‌‌‌भगवान कल्कि कलयुग के अंत मे पैदा होंगे

कल्कि पुराण के अंदर साफ लिखा है। चश्मा लगा कर हम को पढ़ लेना चाहिए कि भगवान कल्कि कलयुग के अंत मे पैदा होंगे और वह तब होगा जब कलयुग अपने चर्म पर होगा ।‌‌‌जबकि मुहम्मद साहब की मौत 8 जून 632 के अंदर हो चुकी थी। अब बात करें हिंदु धर्म के अंदर पुराणों की तो पुराणों के अनुसार कलयुग 4,32,000 वर्ष का है। और अभी केवल 6000 वर्ष गुजरें हैं। अभी के लिए हम इतना ही कहना चाहेंगे । अब जो हो रहा है वह कलयुग का आगमन है। भयंकर कलयुग आएगा ‌‌‌तब इसका सबको एहसास होगा । सच तो यह है कि अभी भगवान को धरती पर अवतरित होने की आवश्यकता नहीं है। अब जो मार काट होती हैं वैसी तो हमेशा से होती हैं।

‌‌‌जब इंसानों की आयु 20 से 30 वर्ष की होगी

धर्म ग्रंथों के अंदर यह भी लिखा हुआ है कि कलयुग के अंत मे इंसानों की आयु केवल 30 वर्ष ही रहजाएगी । यह भविष्यवाणी कोई झूंठी नहीं है। इंसानों की आयु समय के साथ धीरे धीरे घट रही है। इस संबंध मे हम रिसर्च की चर्चा करना चाहेंगे । ‌‌‌यदि हम आज से 1000 साल पीछे चले जाएंगे तो हम पाएंगे कि उस समय का मनुष्य आज के मनुष्य की तुलना मे अधिक साल तक जीवित रहता था। इसके अलावा हमारे पूर्वजों की बात कर लिजिए वे लगभग 100 साल तक जीये । कहने का मतलब है। अब इंसान 100 साल तक जिंदा रही नहीं पाता । ‌‌‌बात करें मोर्डन समय की तो सबसे अधिक एज 122 साल दर्ज की गई है। लेकिन कोई भी व्यक्ति 122 साल तक जिंदा नहीं रह पाता है। अमेरिका के अंदर अधिकतर लोग बस 80 साल तक ही पहुंच पाते हैं। ‌‌‌और जैसे जैसे घोर कलयुग आएगा वैसे वैसे इंसानों के पास अच्छे खाने की कमी होती चली जाएगी और इंसान घास फूस खाएंगे तो ऐसी स्थिति के अंदर हम उनकी आयु 80 वर्ष होने की उम्मीद नहीं कर सकतें । ‌‌‌भगवान कल्कि तब अवतार लेंगे जब इंसानों की आयु 20 से 30 वर्ष हो जाएगी ।

‌‌‌भगवान कोई खाई हुई चीज नहीं है जिसे रिसर्च से सिद्व करने की आवश्यकता हो

मुझे यह सोच कर हंसी आती है कि इंसान एक धर्म के भगवान को रिसर्च पेपर की मदद से दूसरे धर्म का भगवान सिद्व करने की कोशिश कर रहे हैं। मैं उन लोगों से कहना चाहूंगा कि भगवान कोई खोई हुई चीज नहीं है। जिसे रिसर्च पेपर की ‌‌‌मदद से सिद्व करने की आवश्यकता हो। ‌‌‌रिसर्च पेपर देखकर तो यही लगता है कि भगवान कल्कि कहीं पर खो गए हैं क्योंकि वे बच्चे हैं और हिंदू उनको हर धर्म के पैगम्बर के अंदर अपने भगवान को तलास रहे हैं। ‌‌‌ मैं हिंदुओं को यह कहना चाहूंगा कि भगवान कल्कि कोई बच्चे नहीं वरन महान हैं। सर्वज्ञानी हैं और संसार के पालन कर्ता हैं। वे कैसे खो सकते हैं। जब भगवान पैदा होंगे तो पूरी दुनिया को पता चल जाएगा कि आज हिंदु के पवित्र भगवान कल्कि धरती पर पैदा हो चुके हैं और ‌‌‌उन्हें सिद्व करने के लिए किसी रिसर्च पेपर की नहीं वरन लोगों के प्यार की जरूरत होगी । और उनके पास इतना सामर्थ्य भी होगा जिससे वे खुद को सिद्व कर सके।


kalki avatar janam le chuka hai ?

‌‌‌जब चारों और त्राहि त्राहि मच जाएगी

कल्कि पुराण के अंदर यह लिखा हुआ है कि भगवान क्लिक तब पैदा होंगे ।जब चारो और  लोग पीड़ित हो रहे होंगे । देवताओं को भोजन मिलना बंद हो जाएगा तो वे भगवान विष्णु के पास जाएंगे और उनसे धरती पर अवतरित होने की प्रार्थना करेंगे । ‌‌‌देवताओं को भोजन मिलने का मतलब है। हम जो भोग लगाते हैं वह भोग देवता के लिए भोजन है। लेकिन जैसा कि आंकड़े बता रहे हैं कि हिंदु धर्म तेजी से घट रहा है। मतलब हिंदु लोग दूसरे धर्मों के अंदर बदल रहे हैं। इसी तरह से हिंदु दूसरे धर्म को अपनाते रहेंगे तो एक समय ऐसा आयेगा । जब ‌‌‌हिंदुओं की संख्या ना के बराबर रह जाएगी । तब देवताओं को भोग नहीं मिलेगा और चारो ओर देवताओं के अंदर त्राहि त्राहि मच जाएगी और तब वे भगवान विष्णु को अवतार लेने के लिए कहेंगे ।

‌‌‌भगवान कल्कि तलवार से दुष्टों का संहार करेंगे

पुराणों के अंदर यह लिखा हुआ मिलता है कि भगवान कल्कि दुष्टों का संहार तलवार से करेंगे । और मुहम्मद साहब ने भी ऐसा ही किया था। यह बात दोनों के अंदर मिलती है। और कई हिंदु यह भी मानते हैं कि अब परमाणु बम का युग है। भला तलवार से कोई कैसे ‌‌‌दुश्मनों को मार सकता है ? उनका कहना सही है। लेकिन अभी कलयुग का बहुत समय बाकी है। और आने वाले लाखों सालों के अंदर क्या हो जाए कोई नहीं जानता । कई विद्वान यह भी कहते हैं की आने वाले समय मे युद्व पत्थरों से लड़े जाएंगे । क्योंकि ‌‌‌इंसान अपने पास जमा सारा ज्ञान खो देंगे । 4 लाख साल के अंदर यह भी संभव है कि दुनिया के अंदर ऐसा बदलाव आ जाए जिसमे बम का प्रयोग करना संभव नहीं हो । इस बारे मे कौन जानता है। तो इस बात की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता।

‌‌‌भगवान कल्कि सतयुग लाएंगे

धर्म ग्रंथों के अंदर यह कहा गया है कि भगवान कल्कि धरती पर सतयुग लेकर आएंगे । तो इस संबंध मे मुझे यह लगता है कि धरती पर अभी भी कलयुग चल रहा है। और बिना भगवान के अवतरित हुए सतयुग आ भी नहीं सकता । यदि हम किसी को भी भगवान मान लेते हैं तो अभी तक सतयुग नहीं आया और ना ‌‌‌ही हमे सतयुग आने के संकेत अभी दिख रहे हैं।

‌‌‌इंसानों का कद छोटा हो जाएगा

यह भी माना गया है कि कलयुग के अंत मे इंसानों का कद छोटा हो जाएगा । यदि हम बात करें अबकि तो अभी तो इंसानों का कद छोटा होने के प्रमाण नहीं मिलते हैं। लेकिन विज्ञान के अंदर हुए अनेक रिसर्च इस बात को प्रमाणित कर चुके हैं कि इंसान का कद उसके पोषण पर निर्भर करता है।‌‌‌और घोर कलयुग के अंदर जब इंसानों के पास खाने के लिए अन्न नहीं होगा तो उनका कद तो अपने आप ही छोटा होना तय है। कुपोषण से इंसान का कद अपने आप ही छोटा हो जाएगा ।

‌‌‌गीता मे भगवान क्रष्ण ने क्या कहा है ?

गीता के श्लोक तो आपको पता ही होंगे उसमे भगवान क्रष्ण कहते हैं कि

यदा यदा हि धर्मस्य ग्लानिर्भवति भारत ।

अभ्युत्थानमधर्मस्य तदात्मानं सृजाम्यहम् ॥४-७॥

परित्राणाय साधूनां विनाशाय च दुष्कृताम् ।

धर्मसंस्थापनार्थाय सम्भवामि युगे युगे ॥४-८॥

‌‌‌मतलब जब जब धर्म की हानि होगी तब तब मैं अवतार लूंगा ।

यदि मुहम्मद साहब ही कल्कि अवतार हैं तो भगवान क्रष्ण गलत हैं क्योंकि वे खुद अपने ही धर्म की हानि कर रहे हैं। सच तो यही है कि ऐसा कभी नहीं हो सकता । एक तरफ वो धर्म की रक्षा की बात बोलते हो और दूसरी धर्म धर्म का विनास करने के लिए अवतार ‌‌‌लेते हों।

‌‌‌यह कोई नई कहानी नहीं है

आपको हम बतादें कि कुछ धार्मिक लोग जो खुद को बहुत बड़ा मानते हैं और अपने ज्ञान की मदद से कई लोगों को कल्कि अवतार सिद्व करने की कोशिश की है। लेकिन अभी तक इनकी एक भी कोशिश कामयाब नहीं हुई ।‌‌‌और लोग इनकी बातों पर जरा भी यकीन नहीं करते हैं। उन्हें बस यही लगता है कि उनको गलत बातें बताई जा रही हैं। इतना तो वे भी जानते हैं कि भाई अवतार तो अवतार होता है। और उसे इंसान सिद्व करेगा तो फिर कैसा अवतार ? वरन सच तो यह है कि वो खुद सिद्व करेगा कि वह अवतार है लोगों के दिलों पर राज करके ।

केबी पाठक ने सम्राट मिहिरकुल हूण को कल्कि अवतार माना है । वहीं कुछ दूसरे विद्वान इस बात से इनकार करते हैं वहीं Ved Prakash Upaddhay  कहता है कि मुहम्मद साहब कल्कि अवतार हैं। कुल मिलाकर हम यह कह सकते हैं कि खुद विद्वानों को यह पता नहीं है कि असल मे कल्कि अवतार कौन है ? वे खुद आपस मे अलग ‌‌‌अलग राय रखते हैं।

हिंदु विद्वान यह तलासने मे लगे हुए हैं कि कल्कि अवतार कौन है? अब वे किसी और को कल्कि अवतार सिद्व करने के लिए दूसरा रिसर्च पेपर निकालेंगे और बोलेंगे भाई वो तो गलत था अब यह आपका भगवान है।

‌‌‌ kalki avatar janam le chuka hai असली भगवान कौन ?

दोस्तों असली भगवान वही है जो लोगों के दिलों पर राज करेगा । दुश्मन उससे कांपेगे । और वह सत्य का संदेश दुनिया के अंदर देगा । लोग खुद उसकी शिक्षाओं को ग्रहण करने आयेंगे । न की वह जबरदस्ती अपनी शिक्षा  लोगों को देगा । लोग उससे ह्रदय से प्रेम करेंगे । उनका नाम लेने से ‌‌‌दुश्मन गलत काम करना छोड़देंगे और धार्मिक लोग या सच्चे इंसान भगवान का दर्शन करके धन्य हो जाएंगे ।

‌‌‌जो दुनिया के अंदर शांति का संदेश देंगे । भाईचारे की भावना पैदा करेंगे । हर इंसान को न्याय दिलाएंगे । बस वही भगवान कल्कि होंगे । जिन्हें पन्ने से नहीं वरन लोगों की उनके प्रति बोली गई मीठी जुबान से और उनके विराट रूप से सिद्व किया जा सकेगा ।

भगवान कल्कि की जय हो ।

‌‌‌इस लेख मे हम बात करेंगे कल्कि अवतार और मुहम्मद , kalki avatar janam le chuka hai ‌‌‌पर लिखा लेख आपको कैसा लगा कमेंट करके बताएं। ‌‌‌नीचे दी गई लिंक पर क्लिक कर आप सच्चाई जान सकते हैं।

https://youtu.be/LuRU4O_xPOw

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!