कमर दर्द के लक्षण कारण और आसान ईलाज

आज कल कमर दर्द होना आम बात हो चुकी है। आजकज बच्चे बुढ़े जवान सब कमर दर्द के शिकार हो रहे हैं। जब कमर मे दर्द रहने लग जाता है तो कोई भी काम नहीं हो पाता है। क्योंकि नीचे उंचे होने पर कमर दर्द करती है। कमर दर्द के लिए वैसे बाजार के अंदर कई सारी दवाएं भी

‌‌‌उपलब्ध हैं। इस लेख के अंदर हम आपको कमर दर्द के बारे मे पूरी जानकारी देंगे ।

‌‌‌कमर दर्द वह होता है जोकि पीठ के नीचले हिस्से के अंदर होता है। यह दर्द कभी कभी पूरी कमर के अंदर होता है।

कमर दर्द के लक्षण

‌‌‌कमर दर्द पैदा होने के कारण

‌‌‌1.भारी वजन उठाना

2.एक्सरसाईज नहीं करना

3.मानसिक तनाव

4.लंबे समय तक बैठे रहना

5.मोबाईल कम्पयूटर का अधिक प्रयोग

  1. ‌‌‌औरतों को मासिक धर्म की वजह से कमर के अंदर दर्द होता है।

7.लम्बे समय तक ड्राईविंग करना

8.नम गददों पर सोने की वजह से भी कमर दर्द होने लग जाता है।

9.क्षमता से अधिक मेहनत करना

‌‌‌10. शरीर की कमजोरी होना

‌‌‌दोस्तों उपर दिये गयी वजह से कमर दर्द पैदा होता है। इसलिए आपको तमाम सावधानियां बरतनी चाहिए । ताकि आपको कमर दर्द की समस्या पैदा नहीं हो सके । यदि आपको कमर दर्द की शिकायत पहले से ही है तो हम इसको दूर करने के उपाय बता रहे हैं।

‌‌‌कमर दर्द दूर करने के उपाय

आप कमर दर्द दूर करने के लिए बाजार से दवाइयां भी ले सकते हैं किंतु अधिक दवाइयां लेना हानि कारक है। इसलिए आपका दर्द यदि दवाओं से नहीं जा रहा है तो आप घरेलू उपाय अपना सकते हैं।

back pain

1. ‌‌‌मालिस करें

कमर दर्द के अंदर तेल से मालिस कराना काफी फायदे मंद होता है। मालिस के लिए आप कोई भी तेल इस्तेमाल कर सकते हैं। आप चाहें तो बाजार मे उपलब्ध तेल भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

 

‌‌यदि आप आयूर्वेदिक तेल का इस्तेमाल करना चाहते हैं तो आप नीचे दिये गए तरीके से तेल बना सकते हैं।

सबसे पहले के तेल को ले और उसे एक कड़ाई के अंदर गर्म करें । और उसमे लहसून डाल दें । तेल को तब तक गर्म करें जब तक कि लहसुन काली ना पड़ जाएं ।उसके बाद ठंडा होने पर उससे मालिस करलें ।

  1. ‌‌‌सुबह उठकर व्यायाम करें और धूमने जाएं । ऐसा करने से भी कमर के अंदर दर्द से आराम मिलता है।

3‌‌‌.गर्म पानी के अंदर नमक डालकर इससे दर्द वाले स्थान की सिकाई करें । ऐसा करने से भी कमर दर्द से राहत मिलती है।

‌‌‌4.भारी वजन वाली वस्तुओं को ध्यान से उठाएं क्योंकि इनसे कमर के अंदर झटका लग सकता है। जिससे आपकी कमर दर्द करने लग सकती है।

‌‌‌5.अजवाइन को हल्का सेक कर मुंह मे धीरे धीरे से चबाएं । ऐसा करने से कमर दर्द से जल्दी आराम मिल जाता है।

‌‌‌6. तिल के तेल को गर्म करें और हल्के गर्म तेल को कमर दर्द वाले स्थान पर लगाएं । जिससे आपको जल्दी आराम मिल जाएगा।

‌‌‌7. कमर दर्द वाले स्थान पर मैथी के तेल से मालिस करने से भी लाभ मिल जाता है। यह एक बार जरूर करें ।

‌‌‌8.गर्मियों के अंदर 5 ग्राम और सरदियों के अंदर 15 ग्राम अलसी का सेवन करने से कमर दर्द होने की शिकायत कभी नहीं होगी ।

‌‌‌9. 20 ग्राम दूध के अंदर 5 ग्राम एरंड की गिरी को पकाकर कई दिन तक सेवन करने से कमर दर्द हमेशा के लिए ठीक हो जाता है।

‌‌‌कमर दर्द के लिए कुछ उपयोगी योगाशन

यदि आप निंरतर योग करते हैं तो आपको कमर दर्द की शिकायत कभी नहीं होगी । हम आपको कमर दर्द निवारक कुछ योग के बारे मे बता रहे हैं। जिनको आपको रोजाना करना चाहिए ।

1. ‌‌‌मकरासन

यह योग भी कमर दर्द के लिए उपयोगी है। इस योग को लेट कर किया जाता है। मकरासन के अंदर आप उल्टे लैट कर कर सकते हैं। इस योगा से दमा और श्वांस सबंधी बिमारियां जड़ से खत्म हो जाती है। इसके अंदर पहले उल्टे लेटना होता है। उसके बाद गर्दन को उपर की और उठाना होता है। देखिए विडियो ।

‌‌‌2.भुजंगासन

इस योगा के अंदर आपको सबसे पहले जमीन पर उल्टे लैट जाना है। उसके बाद अपने दोनों हाथों को जमीन पर रखना है। और अपनी गर्दन को उठाना है। और फिर नाक को जमीन से टच करना है। गर्दन को उपर उठाते समय श्वांस को अंदर लें । और हाथों पर दबाव नहीं दें । और धीरे धीरे सिर को उपर उठाएं । और नाभी को जमीन ‌‌‌से टच करें ।

‌‌‌3.हलासन

हलासन पीठ के बल किया जाने वाला योगा है। इसके अंदर आपके दौनो पैर और सर एक तरफ और हाथ दूसरी ओर होते हैं। सबसे पहले आपको जमीन पर आपनी गर्दन नीचे की और करनी है। और हाथ गर्दन की दूसरी दिसा के अंदर रखे व अपने पैर जमीन से टच करें । यह योग रोजाना करने से कमर दर्द से राहत मिलती है।

‌‌‌4.अर्ध मत्स्येन्द्रासन

यह योग भी कमर दर्द के लिए काफी महत्वपूर्ण है। यदि आपको कमर दर्द की शिकायत है तो यह योगा आपके लिए काफी लाभकारी हो सकता है। यह काफी आसान है। इसमे आपका एक पैर मुडा रहता है और दूसरा उस पैर के उपर की और मूडा होता है। आपकी गर्दन और हाथ पैरों के बाएं और होते हैं।

‌‌‌दोस्तों आप इन योगा मे से कोई भी कर सकते हैं। जोकि आपको ठीक लगे । यदि आपके पास समय है तो आप सभी योगा भी कर सकते हैं।

‌‌‌कमर दर्द के लिए कुछ उपयोगी दवांए

दोस्तों बाजार के अंदर कमर दर्द से राहत के लिए कई सारी दवाएं मौजूद हैं । लेकिन अधिकतर दवाओं के लम्बे समय तक लेने से साईड इफेक्ट होते हैं। हम आपको कमर दर्द दूर करने के लिए प्रयोग की जाने वाली कुछ टॉप दवाओं के बारे मे बता रहे हैं।

Tylenol (एसिटामोनोफेन),

‌‌‌यह दवा सर्वाधिक प्रयोग मे ली जाती है। हांलाकि यह दर्द से राहत भी प्रदान करती है। लेकिन इससे स्थाई तौर पर कम ही राहत मिलती है। लम्बे समय तक इस दवा के प्रयोग से कई नुकसान जैसे अल्सर गुर्दा की क्षति आदि हो जाते हैं।

‌‌‌यदि आपका दर्द 6 से 8 महिने पूराना है तो यह दवा कोई खास असर नहीं कर पाती है।लेकिन आपको हमेशा इस दवा की सही मात्रा ही लेनी चाहिए।

Muscle Relaxants

यदि ओवर-द-काउंटर दर्द रिलेवर या नुस्खा एनएसएआईडी आपकी पीठ दर्द से राहत नहीं दे रहे हैं, तो आपका डॉक्टर एक मांसपेशियों में आराम करने वाले को जोड़ने का सुझाव दे सकता है इन दवाओं में शामिल हैं:

साइक्लोबेनज़ाप्राइन (फ्लेजेरिल)

टीज़ानिडाइन (ज़ानाफ्लक्स)

बैक्लोफेन (लियोरेसल)

कैरिसोप्रोडोल (सोमा)

‌‌‌यह दवाएं खास कर तब उपयोगी हैं। जबकि दर्द तीव्र चोट की वजह से पैदा हो गया हो । यह दवाएं आपके मांसपेशियों को आराम देने के लिए काफी मददगार होती हैं।

Tylenol (एसिटामोनोफेन),

जबकि नॉनस्टेरियोडल एंटी-इन्फ्लॉमेटरी दवा नहीं, पीठ दर्द का इलाज करने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला एक सामान्य ओवर-द-काउंटर दर्द रिलीवर भी है।इसमें केवल नुस्खे-केवल एनएसएआईडी हैं, जैसे कि सेलेकॉक्सिब (सेलेब्रेक्स), डिक्लोफेनाक (वोल्टेरेन), मेलॉक्सिकम (मोबिक), और नेबुमेटोन (रिलाफ़ेन)

‌‌‌इन दवांओ से कई दुष्प्रभाव भी हो सकते हैं। जैसे खासकर यदि आप उन्हें लंबे समय तक उच्च मात्रा में लेते हैं। NSAID साइड इफेक्ट्स में जठरांत्र संबंधी समस्याएं, अल्सर, और गुर्दा की क्षति शामिल हो सकती है, जबकि एसिटामिनोफेन यकृत को प्रभावित कर सकता है।

Opioids

‌‌‌यह दवाएं दर्द को नियंत्रित करने के लिए दिमाग के रिस्पेक्टरों का प्रयोग करती हैं। जिन लोगों को पीठ दर्द काफी पूराना हो चुका होता है। उन लोगों के लिए यह दवा लाभदायक होती है। लग भग 70 प्रतिशत कमर दर्द से पीड़ित रोगियों को इस दवा को लेने का सुझाव दिया जाता है।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *