अंतरिक्ष से आती है रहस्यमई आवाज

अंतरिक्ष के अंदर बहुत  रहस्य  हैं जिनको  समझना   इंसान के बस की बात नहीं है वैज्ञानिक निरंतर नहीं नहीं खोजे करते रहे हैं अंतरिक्ष केंद्र पर होने वाली  तेज तेज light बारे में सभी वैज्ञानिक जुटे हुए हैं हुए हैं हालांकि वैज्ञानिकों ने इसके उत्पादन स्थान को खोज लिया है पिछले 20 सालों में अचानक  अंतरिक्ष से आने वाली तेज रोशनी से वैज्ञानिक काफी परेशान है सन 2007 के अंदर वैज्ञानिकों ने पाया कि इस रोशनी के अंदर किसी  की आवाज है वैज्ञानिकों ने खोज निकाला है कि यह एक ऐसा रेडियो सिग्नल है क्योंकि आंखों से नहीं देखा जा सकता लेकिन टेलिस्कोप से इसे देखा जा सकता है

एफआरबीएम वैज्ञानिकों  के लिए एक पहेली थी रिसर्च वैज्ञानिकों ने 94 प्रकाश वर्ष दूर गृह  को इस आवाज के लिए जिम्मेदार माना है

वैज्ञानिकों के अनुसार जब भी कोई हमारे सौर मंडल में जोरदार सिग्नल देता है तो वह दूसरी सभ्यताओं के वजूद को दर्शाता है इन्हीं सभी घटनाओं होने के बाद मेरी नाम के एक  संस्था हेल हेलो signal send krne का निर्णय लिया

यह हेलो सिग्नस जब  दूसरी  सभ्यताओं को सुनाई देंगे तो वह हम से कांटेक्ट कर सकते हैं और इस वजह से हम भी जान सकते हैं कि पृथ्वी के बाहर जीवन मौजूद है

वैज्ञानिकों का मानना है कि इस तरह की सिग्नल केवल विकसित सभ्यता ही भेज सकती है हालांकि वैज्ञानिकों को इसके बारे में कुछ हासिल नहीं हुआ लेकिन वह अभी भी उस तारे पर नजर बनाए हुए हैं जिससे यह सिग्नल निकलते हैं

रेडियो तरंगों से दूसरे ग्रह के जीव से संपर्क करने की कोशिश को 1907 के अंदर एक अमेरिका वैज्ञानिक ने की थी की थी उसके बाद नासा ने भी अत्याधुनिक यंत्रों के साथ इस को आगे बढ़ाया उसके बाद  एक अन्य ग्रह 581 डी का पता लगाया था वहां पर जीव की संभावना हो सकती है और यही से यह आवाज आती थी 2010 के अंदर वैज्ञानिकों ने कहा था  इस  ग्रह पर जीवन के आसार हो सकते हैं और भविष्य के अंदर उसको रहने लायक बनाया जा सकता है


इसके अलावा नासा ने एक बात बताई थी कि जब 1972 के अंदर नील  ने चंद्रमा पर कदम रखा था  जब यान चंद्रमा की कक्षा में घूम रहा था तो उसका धरती से संपर्क टूट गया था और अचानक हेडफोन  मैं संगीत की आवाज आने लगी थी अब वैज्ञानिकों  ने भी  इस आवाज को  सुना था
समय-समय पर nasa रेडियो तरंगे अंतरिक्ष के अंदर एलियन के बारे में जानने के लिए भेजता रहा है लेकिन अभी तक aliyan ke bare me koi pata nhi chala

15 अगस्त 1977 को एक और रेडियो सिग्नल दर्ज किया गया था यह संकेत ध्रुव तारा मंडल के द्वारा भेजा गया संदेश था इसके बारे में जानकारी जिसके बारे में जानकर विज्ञानिक हैरान रह गए हालांकि इसी तरह से एक ओर संकेत 1986 को भी मिला था सही कहा जा सकता है कि हमारे सौरमंडल के अतिरिक्त ब्रहमांड में और कहीं भी जीवन मौजूद है क्योंकि earth छोटी है और इसके जैसे बरमांड में न  keetane ग्रह है   वैज्ञानिक aliyan पर निरंतर नई नई research कर रही है takee aliyan से संपर्क साधा जा सके

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!