अंगदान कैसे करें अंगदान की पूरी प्रक्रिया

 

भारत और विश्व के दूसरे देश अंगदान की समस्या से ग्रस्ति हैं। ऐसा नहीं है कि केवल भारत के अंदर ही अंगों का दान कम किया जाता है। वरन दुनिया के बहुत से ऐसे देश हैं जहां पर अंगदान केवल सामाजिक अविश्वास के चलते नहीं किया जाता है।

‌‌‌वैसे अंगदान पुण्य का काम है। लेकिन धार्मिक अंधविश्वास के चलते बहुत से लोग अंगदान करने को राजी नहीं होते हैं। ऐसा केवल भारत के अंदर ही नहीं है। वरन यह विदेशों के अंदर भी हो रहा है। कुछ धार्मिक अंधविश्वास के अनुसार यदि कोई इंसान इस जन्म के अंदर आंखे दान करता है। तो वह अगले जन्म मे बिना ‌‌‌आंखों के पैदा होता है। इस तरह का विश्वास सरासर गलत है। ऐसे तो यदि कोई व्यक्ति हर्ट का दान इस जन्म मे कर देता है तो वह अगले जन्म के अंदर बिना हर्ट के पैदा हो जाएगा जोकि मुमकिन नहीं है।

 

‌‌‌अंगदान बहुत पुण्य का काम है। हमारे मरने के बाद यदि हमारे शरीर के पार्ट का दान किया जाता है तो वह किसी भी इंसान की जिंदगी को बचा सकते हैं। जबकि इंसान के मरने के बाद उसके अंग तो नष्ट होने ही हैं। इससे अच्छा है उनका उपयोग किया जाए ।

‌‌‌भारत के अंदर अंगदान

भारत के अंदर कोई भी इंसान मरने के बाद अपने अंगों का दान कर सकता है। इसके लिए उसे जीवित रहते हुए एक फोर्म भरना होता है। वैसे भारत मे अंगों का कारोबार करना ईलिगल माना जाता है। और किसी मरीज को उसके परिजन ही अंगदान कर सकते हैं। यदि कोई अंग की खरीद फरोख्त करता है तो उसे सजा ‌‌‌हो सकती है। केवल इंसान की स्वेच्छा से ही उसके अंगों का मरने के बाद दान किया जा सकता है। नीचे हम आपको स्टेप बाई स्टेप बताएंगे कि अंगों को कैसे दान किया जाना है।

‌‌‌भारत के अंदर अंगदान प्रत्यारोपण द ट्रांसप्लांट ऑफ हाूमेन ऑर्गन एक्ट 1994 के तहत किया जाता है।

‌‌‌स्पेन एक ऐसा देश है जहां पर सबसे अधिक अंगदान होता है। इस देश के अंदर अंगदान करने वाले लोगों की संख्या बहुत अधिक है। इस वजह से अंगों की कोई कमी नहीं है।

ईरान भी एक ऐसा देश है जहां पर अंगदान काफी अधिक होता है। क्योंकि यहां पर अंगबेचना वैध माना जाता है। इस वजह से अंगों का व्यापार भी होता है।

‌‌‌अंगदान कैसे करें पूरी जानकारी

यदि आप भी अंगदान करना चाहते हैं तो हम आपको इसकी पूरी प्रोसेस नीचे बता रहे हैं कैसे आप अपने अंगों का दान कर सकतें हैं ? और अपने परीजनों को भी इसके लिए राजी कर सकते हैं। हो सकता है आपके दान किये हुए अंग किसी इंसान के काम आ जाए और आपकी जिंदगी सफल हो जाए ।

‌‌‌हम आपको 3 ऐसी वेबसाईट के बारे मे बताने वाले हैं जिनकी मदद से आप अपना अंगदान कर सकते हैं।

Notto.nic.in

‌‌‌यह एक सरकारी वेबसाईट है जो अंगदान के लिए बनाई गई है। आपको सबसे पहले notto.gov.in पर जाना होगा । वहां पर आपको अंदान से जुड़ी गाईड लाईन भी मिल जाएगी । ‌‌‌इस वेबसाईट पर आपको कई सारे फोर्म भी मिल जाएंगे । और आपको पूरी गाईडलाइन भी दी गई है।

यदि आपको इसमे समझने मे कोई दिक्कत होती है। तो आप इस वेबसाईट की हेल्पलाइन नम्बर पर बात कर सकते हैं। यह लोग आपको स्टेप बाईस्टेप पूरी जानकारी देंगे । ‌‌‌अंगदान करने के बाद आपको यहां से एक डोनर कार्ड मिलता है। यदि आप मरने के बाद अंगदान करते हैं तो यह कार्ड आपके परिजनों को मिलता है।

mfjcfnavjeevan.info

की मदद से भी आप अपने अंगो का दान कर सकते हैं। इस वेबसाईट पर आपको कई सारी डोनर के फोटो भी मिल जाएंगे । आप को अपना अंगदान करने के लिए क्या करना होगा । इसकी पूरी प्रोसेस इस वेबसाईट पर फोंन नम्बर दिया हुआ है। फोन करके यह सब पता कर सकते हैं। आप ईमेल भेजकर भी पता कर सकते हैं ‌‌‌यहां पर भी यदि आप अंगदान करते हैं तो आपको डोनर कार्ड मिलता है। इसके अलावा आप अपने जनदीगी ट्रांसप्लॉट अस्पताल का पता लगाकर इस वेबसाईट की मदद से अंगदान कर सकते हैं।

angdaanmahadaan.com

यह एक काफी ईजी वेबसाईट है जो दैनिक भास्कर के योगदान का प्ररिणाम है। आप इस वेब की मदद से भी अपना अंगदान कर सकते हैं । जब आप इस वेबसाईट पर जाएंगे तो आपको एक ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन फोर्म भरना है। फिर बाकि की पूरी प्रोसेस को आप उपर दिये गए फोन नम्बर की मदद से जान सकते हैं।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *